Pushkar Mela 2019: कार्तिक चतुदर्शी का हुआ स्नान, उमड़ पुष्कर में श्रद्धालु

raktim tiwari

Updated: 11 Nov 2019, 07:44:00 AM (IST)

Ajmer, Ajmer, Rajasthan, India

अजमेर.

पुष्कर में श्रद्धालुओं (pilgrims) का सैलाब उमडऩा जारी है। सोमवार तडक़े से कार्तिक चतुदर्शी का स्नान शुरू हो गया। पवित्र सरोवर (pushkar sarovar) में श्रद्धालुओं ने डुबकी लगाई। घाट के किनारे विशेष पूजा-अर्चना, दान-पुण्य का दौर जारी है। श्रद्धालुओं (holy dip) ने स्नान के बाद मंदिरों में दर्शन किए।

Read More: कैमल सफारी बगैर पुष्कर भ्रमण अधूरा

कार्तिक एकादशी से पूर्णिमा तक पंचदिवसीय स्नान (five day bath) की खास महत्ता है। इसके चलते पुष्कर में आस्था का सैलाब उमड़ रहा है। सोमवार को कार्तिक चतुदर्शी का स्नान हुआ। महिलाएं, पुरुष और पुरोहितों ने सरोवर में डुबकी लगाई। लोग हर-हर महादेव के जयकारे लगाते हुए स्नान में जुटे हैं। स्नान के बाद सभी 52 घाटों पर पूजा अर्चना (worship) का दौर भी शुरू हो गया। पुरोहितों ने लोगों को सरोवर में पूजन कराया।

Read More: Pushkar Mela 2019: श्रद्धालुओं ने लगाई सरोवर में आस्था की डुबकी

ये है स्नान की महत्ता
पुष्कर सरोवर में स्नान की महत्ता भी है। पौराणिक व्याख्यान (mythology) के अनुसार कार्तिक एकादशी से पूर्णिमा तक देवी.देवता भी पुष्कर सरोवर (pushkar sarovar) में स्नान करने आते हैं। लिहाजा इस दौरान स्नान करने से सुख.समृद्धिए ऐश्वर्य और वैभव की प्राप्ति होती है। साथ ही व्यक्ति आरोग्य (good health) रहता है।

Read More: Pushkar Fair 2019 : Musical Chair Race में संगीत पर झूमती विदेशी बालायें -देंखे वीडियो

पूर्णिमा स्नान के लिए पहुंचे श्रद्धालु
कार्तिक पूर्णिमा का स्नान मंगलवार को हेागा। इसको लेकर देशभर से श्रद्धालुओं की आवक जारी है। कार्तिक पूर्णिमा पर ढाई से साढ़े तीन लाख श्रद्धालु (pilgrims) डुबकी लगाएंगे। इसको लेकर घाटों पर विशेष प्रबंध किए गए हैं। बाजारों में बेरीकेडिंग लगाई गई है।

Read More: Pushkar Fair 2019: कार्तिक द्वादशी का स्नान, झिलमिलाए घाटों पर दीप

वैवाहिक कार्यक्रम जारी
चार महीने के बाद अजमेर सहित समूचे जिले में विवाह और अन्य कार्यक्रम शुरू हुए हैं। पारम्परिक मान्यता के मुताबिक प्रतिवर्ष आषाढ़ शुक्ल एकादशी से कार्तिक शुक्ल दशमी तक देवशयन करते हैं। इस दौरान शुभ कार्य, विवाह (marriages)और अन्य मांगलिक कार्यक्रम (programme) नहीं होते हैं। कार्तिक माह की देव प्रबोधिनी एकादशी से शुभ कार्यों की शुरुआत हो चुकी है। जिले में विवाह एवं शुभ कार्य जारी है। इसके अलावा कई लोग व्रत-उपवास कर रहे हैं। तुलसी विवाह का आयोजन भी किया गया है।

Read More: Pushkar mela 2019: पुष्कर के घूमर डांस ने तोड़ा जोधपुर का रिकॉर्ड

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned