पीएफआई पर बैन को लेकर अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष बड़ा बयान, कहा सीएम योगी...

संतो की संस्था के मुखिया है महंत नरेंद्र गिरी

प्रयागराज | उत्तर प्रदेश में पीएसआई पर बैन को लेकर शुरू हुए समाज सियासी घमासान के बीच उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को संतो का बड़ा साथ मिला है। हमेशा धर्म और अध्यात्म के मामलों में सामने आने वाले अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि बीते कुछ दिनों से देश और प्रदेश में होने वाली गतिविधियों पर बेबाकी से अपनी राय रखते नजर आ रहे है। एक बार फिर उन्होंने मिडिया से बात की है और कहा की देश भर का संत समाज राष्ट्रीय हितों में सीएम और पीएम के साथ खड़ा है। महंत नरेंद्र ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर बैन लगाए जाने का समर्थन किया है। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया को सिमी का सेकंड वर्जन करार देते हुए देशद्रोही बताया है।


बता दें कि महंत नरेंद्र गिरि ने कहा है कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के अध्यक्ष और सदस्यों के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर तत्काल प्रभाव से उन्हें जेल भेजना चाहिए। उन्होंने कहा कि पीएफआई के वजूद में रहने से देश में अशांति फैली कि इसलिए इस संगठन को तत्काल बैन कर देना ही सरकार का उचित निर्णय होगा।

इसे भी पढ़े- संगम नगरी पंहुचा जम्मू कश्मीर के हिन्दू श्रद्धालुओं का जत्था ,कहा भारत सरकार

उन्होंने कहा है कि लोग भारत में रहते हैं यहां खाते हैं लेकिन पाकिस्तान के गुण गाते हैं। इसलिए ऐसे लोगों को पाकिस्तान चले जाना चाहिए अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि यह संगठन देश के मुसलमानों को देश के प्रति भड़काने का काम करता है उन्होंने आरोप लगाया है कि नागरिक संशोधन कानून के विरोध में प्रदेश में कई शहरों में हिंसा के पीछे पीएफआई की भी साजिश थी। बता दें महंत नरेद्र गिरी संतो और नागा साधुओं की सबसे बड़ी संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष है। साथ ही देश की महत्वपूर्ण धार्मिक पीठों में से एक बाघम्बरी गद्दी मठ के मुखिया भी है।

प्रसून पांडे
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned