scriptUttar Pradesh Governor Anandiben Patel reached Prayagraj | विद्यार्थियों के लिए वर्तमान कार्यों को समाप्ति और अपने सपनों को आकार देने के लिए एक नये अध्याय की होगी अब शुरूआत- राज्यपाल | Patrika News

विद्यार्थियों के लिए वर्तमान कार्यों को समाप्ति और अपने सपनों को आकार देने के लिए एक नये अध्याय की होगी अब शुरूआत- राज्यपाल

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनन्दीबेन पटेल प्रयागराज पहुंची। इस मौके पर वह राजेन्द्र सिंह(रज्जू भैया ) विश्वविद्यालय में आयोजित चतुर्थ दीक्षांत समारोह में प्रतिभाग करते हुये सर्वप्रथम विश्वविद्यालय के नवनिर्मित भवनों का लोकार्पण किया। इसके बाद दीक्षांत समारोह कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। राज्यपाल ने प्राथमिक विद्यालय के बच्चों व अध्यापकों को ज्ञानवर्धक पुस्तकों से भरे बैग, फल की टोकरी का वितरण किया। राज्यपाल महोदया ने नीति दस्तावेजों व स्मारिका का विमोचन भी किया।

इलाहाबाद

Published: January 05, 2022 08:58:46 am

प्रयागराज: उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनन्दीबेन पटेल प्रयागराज पहुंची। इस मौके पर वह राजेन्द्र सिंह(रज्जू भैया ) विश्वविद्यालय में आयोजित चतुर्थ दीक्षांत समारोह में प्रतिभाग करते हुये सर्वप्रथम विश्वविद्यालय के नवनिर्मित भवनों का लोकार्पण किया। इसके बाद दीक्षांत समारोह कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। राज्यपाल ने प्राथमिक विद्यालय के बच्चों व अध्यापकों को ज्ञानवर्धक पुस्तकों से भरे बैग, फल की टोकरी का वितरण किया। राज्यपाल महोदया ने नीति दस्तावेजों व स्मारिका का विमोचन भी किया।
विद्यार्थियों के लिए वर्तमान कार्यों को समाप्ति और अपने सपनों को आकार देने के लिए एक नये अध्याय की होगी अब शुरूआत- राज्यपाल
विद्यार्थियों के लिए वर्तमान कार्यों को समाप्ति और अपने सपनों को आकार देने के लिए एक नये अध्याय की होगी अब शुरूआत- राज्यपाल
यह भी पढ़ें

भारतीय स्वाधीनता आंदोलन में महिलाओं ने किया दृढ़ता से नेतृत्व- राज्यपाल

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि त्रिवेणी की पावन धरा पर स्थित प्रो. राजेन्द्र सिंह (रज्जू भैया) विश्वविद्यालय, प्रयागराज के चतुर्थ दीक्षान्त समारोह में आप सभी के बीच उपस्थित होकर अत्यन्त गर्व का अनुभव कर रही हूँ। सभी नूतन वर्ष 2022 की हार्दिक शुभकामनाएं दी। कहा कि दीक्षान्त समारोह विद्यार्थियों के लिए महत्वपूर्ण अवसर होते हैं, क्योंकि यह उनके वर्तमान कार्यों को समाप्ति और अपने सपनों को आकार देने के लिए एक नये अध्याय की शुरूआत का अवसर होता है।
इसी प्रकार विश्वविद्यालय भी इस कामना के साथ विद्यार्थियों को उपाधि प्रदान करता है कि उसके द्वारा तैयार किया गया ‘मानव संसाधन’ राष्ट्र की प्रगति में सकारात्मक योगदान प्रदान करेगा। आज के अवसर पर सभी उपाधि एवं पदक विजेताओं को बधाई एवं शुभकामनाएं प्रेषित करती हूँ। मैं आपके माता-पिता, अभिभावक और इस विश्वविद्यालय के शिक्षकों को भी बधाई देती हूं।
यह भी पढ़ें

प्रयागराज में फ्लैट लेना हुआ आसान, जानिए पीडीए की तीन योजनाएं, जल्दी बुक करें सपनों का घर

दीक्षान्त समारोह में कुल एक लाख बत्तीस हजार तीन सौ इक्हत्तर (1,32,371) विद्यार्थियों को उपाधियां वितरित की गयी हैं। दीक्षांत समारोह में छात्र-छात्राओं को स्वर्ण पदक, रजत पदक एवं कांस्य पदकों का वितरण किया गया। पदकों की सूची में बेटियों की संख्या बेटों से ज्यादा है। यह एक सुखद स्थिति है, जो यह दर्शाता है कि हमारे समाज में बेटियां किस प्रकार आगे बढ़ रही हैं। हमारी बेटियों द्वारा प्रदर्शित यह उत्कृष्टता एक विकसित राष्ट्र के रूप में भारत के भविष्य का प्रतिबिंब हैं।

समान अवसर मिलने पर प्रायः हमारी बेटियां हमारे बेटों से भी आगे निकल जाती हैं। मैं इन सभी बेटियों को इस उपलब्धि के लिए विशेष रूप से बधाई देती हूँ। उन्होंने सावित्री बाई फूले को याद करते हुए कहा कि वे भारत की पहली महिला शिक्षक थी जबकि उस समय कोई सुविधा उनके पास उपलब्ध नहीं थी और न ही बेटियों की शिक्षा के लिए सामाजिक माहौल ही थी, इस कठिन परिस्थितियों के बावजूद उन्होंने यह मुकाम हासिल किया, यह आज की महिलाओं और बेटियों के लिए प्रेरणा स्त्रोत है। आज जिस साहस से महिलायें आगे बढ़ते हुए हर क्षेत्र में अपना मुकाम हासिल कर रही है, उससे लगता है कि आने वाले समय में हर क्षेत्र में महिलाओं की अग्रणी भूमिका होगी।

उन्होंने कहा कि प्रो. राजेन्द्र सिंह का प्रयागराज की धरती से बहुत लगाव था। वेे यहां के इलाहाबाद विश्वविद्यालय में 1939 से 1943 तक विद्यार्थी रहे, जो बाद में यहां के प्रवक्ता, प्राध्यापक और अंत में विभागाध्यक्ष रहे। आज के अवसर पर मैं उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करती हूँ।

उच्चतर शिक्षा की राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका है। इसका वास्तविक उद्देश्य हमारे युवाओं का चहुंमुखी विकास करना है, जो हमारे विविधताओं से भरे महान राष्ट्र की समृद्धि के लिये आवश्यक है। उन्होंने राष्ट्रीय शिक्षा नीति का भी उल्लेख करते हुए कहा कि इसका दर्शन भारतीय लोकाचार में निहित है, जो भारत को बदलने में सीधे योगदान देती है। नई शिक्षा नीति भारत को आत्मनिर्भर बनाने में मददगार साबित होगी, इससे विद्यार्थी जाॅब मांगने के बजाय लोगो को स्वयं जाॅब उपलब्ध कराने वालो की श्रेणी में शामिल होेंगे। सभी को उच्च गुणवत्ता की शिक्षा प्रदान करके भारत को एक वैश्विक ज्ञान की महाशक्ति बनाने में नई शिक्षा नीति का दर्शन निहित है।

उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा जिन छः गांवों को गोद लिया गया है, यह प्रण करें कि उन गांवों में कोई भी बच्चा टीबी, कुपोषण का शिकार न हो, उन गांवों में सभी पात्रों को सरकार द्वारा चलायी जा रही सभी योजनाओं का लाभ मिले, यह सुनिश्चित करें। इसके साथ ही साथ यह भी सुनिश्चित किया जाये कि इन गांवों का कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित न रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.