scriptchinese spy xu yanjun convicted of trying to steal us aviation details | अमरीकी अदालत ने चीन के अधिकारी को भेजा 60 साल के लिए जेल, 50 लाख डॉलर जुर्माना भी भरना होगा, जानिए किस जुर्म के लिए मिली सजा | Patrika News

अमरीकी अदालत ने चीन के अधिकारी को भेजा 60 साल के लिए जेल, 50 लाख डॉलर जुर्माना भी भरना होगा, जानिए किस जुर्म के लिए मिली सजा

अमरीका की अदालत ने चीन के इस अधिकारी को विमानन कंपनियों के गोपनीय दस्तावेज चुराने के आरोप में यह सजा सुनाई है। चीन के इस अधिकारी का नाम शु यैंजून है। उस पर आर्थिक मामलों में जासूसी और व्यापार से जुड़े गोपनीय दस्तावेज चुराने के पांच मामले दर्ज थे। सजा के बाद अब इस अधिकारी को 60 साल जेल की सजा भुगतनी होगी और 50 लाख डॉलर बतौर जुर्माना भरना होगा।

 

नई दिल्ली

Published: November 06, 2021 07:01:48 pm

नई दिल्ली।

अमरीका की अदालत ने एक चीनी अधिकारी को जासूसी करने का दोषी ठहराते हुए उसे 60 साल जेल की सजा सुनाई है। यही नहीं, अदालत ने चीन के इस अधिकारी को 50 लाख डॉलर बतौर जुर्माना भरने का आदेश भी दिया है।
yanjun.jpg
अमरीका की अदालत ने चीन के इस अधिकारी को विमानन कंपनियों के गोपनीय दस्तावेज चुराने के आरोप में यह सजा सुनाई है। चीन के इस अधिकारी का नाम शु यैंजून है। उस पर आर्थिक मामलों में जासूसी और व्यापार से जुड़े गोपनीय दस्तावेज चुराने के पांच मामले दर्ज थे। सजा के बाद अब इस अधिकारी को 60 साल जेल की सजा भुगतनी होगी और 50 लाख डॉलर बतौर जुर्माना भरना होगा।
यह भी पढ़ें
-

जर्मनी में रूसी दूतावास के बाहर मिला राजनयिक का शव अधिकारियों का दावा- यह खुफिया एजेंट था

चीनी अधिकारी शु यैंजून को पहली बार 2018 में बेल्जियम में गिरफ्तार किया गया था। माना जा रहा है कि इस मामले में कानूनी कार्रवाई के लिए अमरीका प्रत्यर्पित किया जाने वाला वह पहला चीनी शख्स है।
हालांकि, चीन के अधिकारियों ने इस फैसले पर कोई सार्वजनिक टिप्पणी नहीं की। पहले चीन ने सभी आरोपों को गलत बताया था और कहा था कि इनका कोई आधार नहीं है। वहीं अमरीकी न्याय विभाग ने एक बयान जारी कर कहा है कि शु चीन के सुरक्षा मंत्रालय के जिआंग्शु ब्रांच के वरिष्ठ अधिकारी हैं। ये एजेंसी काउंटर इंटेलिजेंस, विदेशी इंटेलिजेंस, और आंतरिक सुरक्षा के लिए काम करती है।
शु पर आरोप है कि 2013 से उन्होंने अमरीका की कई कंपनियों के कर्मचारियों को निशाना बनाया। एक मौके पर उन्होंने जीई एविएशन कंपनी के एक कर्मचारी के लिए चीन के एक विश्वविद्‌यालय में प्रेजेन्टेशन देने की व्यवस्था भी की थी। साथ ही, उनकी यात्रा और स्टाइपेंड का खर्च भी उठाया था।
यह भी पढ़ें
-

इस अफ्रीकी शहर में भीषण विस्फोट, 90 की मौत, सैंकड़ों घायल, जानिए कैसे हुआ था धमाका

इसके अगले साल शु ने उसी एक्सपर्ट से सिस्टम और डिजाइन प्रोसेस से जुड़ी जानकारियां देने के लिए कहा। जांच एजेंसी एफबीआई के साथ काम करने वाली एक कंपनी के साथ मिलकर उस कर्मचारी ने शु को दो पन्नों के दस्तावेज ई-मेल किए और बताया कि उनमें गोपनीय जानकारियां हैं।
कुछ समय बाद शु ने कर्मचारी से उनके कंप्यूटर की फाइल डायरेक्टरी की एक कॉपी मांगी। शु ने बेल्जियम में कर्मचारी से मिलने की कोशिश की, जिसके बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

एफबीआई के असिस्टेंट डायरेक्टर एलेन कोहलर के मुताबिक, जिन्हें चीन की असल मंशा पर शक़ है, इस घटना से उनकी नींद खुल जानी चाहिए। वह अपनी अर्थव्यवस्था और सैन्य क्षमता में सुधार के लिए अमरीकी तकनीक चुरा रहे हैं।
ये आरोप ऐसे समय में सामने आया है जब चीन और अमरीका के बीच तनाव बढ़ा है। चीन ने हाल ही में एक हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया है और अमरीका के राष्ट्रपति जो बिडेन ने कहा है कि वह चीनी सेना से ताइवान की रक्षा करेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाबMaharashtra Political Crisis: क्या महाराष्ट्र में दो-तीन दिनों में सरकार बना लेगी बीजेपी? यहां पढ़ें पूरा समीकरणPresidential Election: यशवंत सिन्हा ने भरा नामांकन, राहुल गांधी-शरद पवार समेत विपक्ष के कई बड़े नेता मौजूदPunjab Budget 2022: 1 जुलाई से फ्री बिजली; यहां पढ़ें पंजाब सरकार के पहले बजट में क्या-क्या है खासपटना विश्वविद्यालय के हॉस्टलों में छापेमारी, मिला बम बनाने का सामानMumbai News Live Updates: शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे का बड़ा बयान, कहा- ये राजनीति नहीं है, ये अब सर्कस बन गया हैMaharashtra: ईडी के समन पर संजय राउत ने कसा तंज, बोले-ये मुझे रोकने की साजिश, हम बालासाहेब के शिवसैनिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.