script अंतरिक्ष में मोर्चा संभालेगा नासा का ह्यूमेनॉयड रोबोट | NASA's humanoid robot will take charge in space | Patrika News

अंतरिक्ष में मोर्चा संभालेगा नासा का ह्यूमेनॉयड रोबोट

locationनई दिल्लीPublished: Dec 30, 2023 12:31:21 am

Submitted by:

ANUJ SHARMA

जय विज्ञान : ह्यूस्टन के जॉनसन स्पेस सेंटर में इंसान जैसे ‘वल्कायरी’ का परीक्षण, एस्ट्रोनॉट्स के विकल्प का वजन 136 किलो, छह फीट दो इंच लंबा

अंतरिक्ष में मोर्चा संभालेगा नासा का ह्यूमेनॉयड रोबोट
अंतरिक्ष में मोर्चा संभालेगा नासा का ह्यूमेनॉयड रोबोट
वॉशिंगटन. अंतरिक्ष में कामकाज का मोर्चा सौंपने के लिए अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक ह्यूमेनॉयड (मानव सदृश) रोबोट तैयार किया है। छह फीट दो इंच लंबे और 136 किलोग्राम वजन के इस रोबोट को ‘वल्कायरी’ नाम दिया गया है। नासा इससे पहले भी कई ह्यूमेनॉयड रोबोट बना चुकी है, लेकिन वल्कायरी पहला ऐसा रोबोट है, जिसे अंतरिक्ष यात्रियों के विकल्प के तौर पर तैयार किया गया है। ह्यूस्टन के जॉनसन स्पेस सेंटर में इसका परीक्षण किया जा रहा है।
वल्कायरी को ऐसे इलाकों में काम करने के लिए बनाया गया है, जहां इंसान के लिए हालात विकट हैं। ह्यूमेनॉयड रोबोट शारीरिक रूप से इंसानों जैसे होते हैं। नासा के इंजीनियरों का मानना है कि सही सॉफ्टवेयर की मदद से एक दिन ह्यूमेनॉयड रोबोट इंसानों की तरह काम करने लगेंगे। ये औजारों और उपकरणों का उसी तरह इस्तेमाल कर पाएंगे, जैसे इंसान करते हैं। नासा ऐसे और रोबोट तैयार करने के लिए कई रोबोटिक कंपनियों से साझेदारी कर रही है।
...ताकि वैज्ञानिक जरूरी कामों पर दें ध्यान

नासा की रोबोटिक्स टीम के प्रमुख शॉन आजमी का कहना है कि अंतरिक्ष में ह्यूमेनॉयड रोबोट ऐसे काम संभाल सकते हैं, जो इंसानों के लिए खतरनाक होते हैं। मसलन सोलर पैनल साफ करना या अंतरिक्ष यान के बाहर किसी उपकरण में खराबी आने पर उसकी जांच और मरम्मत करना। भविष्य में अगर ऐसे काम रोबोट संभाल लेते हैं तो वैज्ञानिक दूसरे जरूरी कामों (खोज और अनुसंधान) पर ज्यादा ध्यान लगा पाएंगे।
रोज 22 घंटे काम करेगा ‘अपोलो’

नासा का सहयोग कर रही अमरीकी कंपनी एप्ट्रोनिक भी ‘अपोलो’ नाम का रोबोट विकसित करने में जुटी है। यह रोबोट वेयरहाउस में बक्सों को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने और सप्लाई चेन से जुड़े दूसरे काम कर सकेगा। बैटरी से चलने वाले अपोलो रोबोट का सिस्टम इस तरह तैयार किया जा रहा है कि यह रोज 22 घंटे काम करे।

ट्रेंडिंग वीडियो