कुनमिंग से कोलकाता तक बुलेट ट्रेन चलाना चाहता है चीन, बांग्लादेश और म्यांमार भी होंगे रूट पर

अगर कुनमिंग से कोलकाता तक बुलेट ट्रेन लिंक का विचार हकीकत में बदल जाए तो कुनमिंग से कोलकाता तक पहुंचने में कुछ ही घंटे का समय लगेगा

Siddharth Priyadarshi

September, 1301:25 PM

एशिया

कोलकाता। चीन अपने देश के उत्तर पश्चिमी इलाके में स्थित कुनमिंग से कोलकाता तक बुलेट ट्रेन चलाने की योजना बना रहा है। कोलकाता में चीनी कॉन्सुलेट जनरल मा झनवु ने बुधवार को बांग्लादेश और म्यांमार के माध्यम से चीन के कुनमिंग और भारत के कोलकाता के बीच एक बुलेट ट्रेन सेवा का सुझाव दिया। उन्होंने कहा, 'हम कोलकाता से कुनमिंग के लिए बुलेट ट्रेन चलाने की योजना पर विचार कर रहे हैं। इससे पूरा एशिया जुड़ जाएगा।'

ट्रंप का बड़ा फैसला, अमरीकी मध्यावधि चुनाव में हस्तक्षेप करने वाले देशों पर लगेगा प्रतिबंध

मा झनवु ने कहा "पिछले सप्ताह एक सम्मेलन में विषेशज्ञों ने ढाका और म्यांमार के माध्यम से कोलकाता से कुनमिंग जाने वाली बुलेट ट्रेन का एक विचार प्रस्तावित किया था। यह कोलकाता और चीन के कुछ हिस्सों के बीच दूरी को कम करेगा। मेरी राय में यह एक अच्छा विचार है।"

भारत और चीन के बीच रेल संपर्क

चीनी कॉन्सुलेट जनरल मा झनवु ने चीन और भारत के बीच कनेक्टिविटी और व्यापार संबंध पर हुई मीटिंग के बाद प्रेस कन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि अगर कुनमिंग से कोलकाता तक बुलेट ट्रेन लिंक का विचार हकीकत में बदल जाए तो कुनमिंग से कोलकाता तक पहुंचने में कुछ ही घंटे का समय लगेगा। यही नहीं इससे म्यांमार और बांग्लादेश को भी जोड़ा जा सकेगा जिसके चलते ये चारों देश एक अद्भुत रेल नेटवर्क की सृष्टि कर सकेंगे।'

चीनी कॉन्सुलेट जनरल मा ने कहा कि 2015 में कुनमिंग में ग्रेटर मेकॉन्ग सब्रेगियन की बैठक में इस परियोजना पर चर्चा हुई थी। उन्होंने आगे कहा कि बेल्ट और रोड जैसी चीनी नीतियां मुख्य रूप से भारत जैसे पड़ोसी देशों के साथ व्यापक चर्चा और साझा लाभ के लिए डिजाइन की गई हैं, उन्हें डोमिनेट करने के लिए नहीं।

भारत विश्व में सबसे ज्यादा महिला पायलट वाला देश, दुनिया भर में हो रही है तारीफ

म्यांमार और बांग्लादेश होंगे मैप पर

चीनी कॉन्सुलेट जनरल ने कहा कि हालांकि अभी केवल यह एक विचार है जिसके कार्यरूप में आने में कई दशक लग सकते हैं। उन्होंने कहा,"यदि यह परियोजना वास्तविकता में बदल जाती है तो 2,000 किलोमीटर की यात्रा पूरी करने में केवल दो घंटे लगेंगे, जो हवाई यात्रा से भी कम समय है।" हालांकि उन्होंने अभी इस ट्रेन रूट के मार्ग का खुलासा नहीं किया लेकिन इस बात के संकेत दिए कि यह वह प्रस्तावित बीसीआईएम (बांग्लादेश-चीन-भारत-म्यांमार आर्थिक गलियारा) को कवर करेगा। उन्होंने कहा कि यह सेवा बांग्लादेश-चीन-भारत-म्यांमार (बीसीआईएम) गलियारे में व्यापार और वाणिज्य पर जोर देगी।

बता दें कि चीन क्युमिंग से सिंगापुर तक बुलेट ट्रेन चलाने जा रहा है और इसके लिए रेल मार्ग लगभग तैयार हो चुका है। इससे लाओस,थाईलैंड, मलेशिया व सिंगापुर हाई स्पीड रेल से चीन के साथ जुड़ जायेंगे ।

Show More
Siddharth Priyadarshi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned