आखिरकार नरम पड़े इमरान खान के तेवर, माना कि युद्ध में भारत से हार सकता है पाकिस्तान

आखिरकार नरम पड़े इमरान खान के तेवर, माना कि युद्ध में भारत से हार सकता है पाकिस्तान

Shweta Singh | Updated: 15 Sep 2019, 08:25:23 PM (IST) एशिया

  • पाकिस्तानी पीएम ने खुद को बताया शांतिवादी
  • सरेंडर नहीं करेंगे, आखिरी कतरे तक लड़ेंगे: इमरान

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की ओर से लगातार युद्ध की धमकी दी जा रही है। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने के बाद से क्या पाकिस्तान के नेता और क्या प्रधामनमंत्री, हर कोई युद्ध की धमकी और परमाणु हमले की गीदड़भभकी दे रहा है। हालांकि, भारत के अडिगता से अब पाक पीएम इमरान के हौसले पस्त हो रहे है। तभी तो उन्होंने ये स्वीकार कर लिया है कि पाकिस्तान भारत के साथ एक पारंपरिक युद्ध में हार सकता है, और इस मामले में परिणाम भयावह हो सकते हैं।

मैं शांतिवादी हूं: पाक पीएम इमरान

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान एक अंग्रेजी मीडिया हाउस को दिए इंटरव्यू में इमरान युद्ध के आसार जताते हुए यह बात कही। कश्मीर पर भारत को परमाणु हमले की धमकी देने के बारे में एक सवाल पर इमरान ने चैनल से कहा, 'कोई भ्रम नहीं है। मैंने जो कहा है, वह यह है कि पाकिस्तान कभी भी परमाणु युद्ध शुरू नहीं करेगा। मैं शांतिवादी हूं, मैं युद्ध विरोधी हूं। मेरा मानना है कि युद्ध से समस्याओं का समाधान नहीं होता। युद्ध के अनपेक्षित परिणाम होते हैं। वियतनाम, इराक के युद्ध को देखें, इन युद्धों से अन्य समस्याएं पैदा हुईं जो शायद उस कारण से ज्यादा गंभीर हैं, जिसे लेकर ये युद्ध शुरू किए गए थे।'

आखिरी कतरे तक लड़ेंगे

इंटरव्यू में इमरान ने आगे कहा, 'मैं इस बात को लेकर स्पष्ट हूं कि जब दो परमाणु सशस्त्र देश एक पारंपरिक युद्ध लड़ते हैं, तो इसकी परिणीति परमाणु युद्ध में होने की पूरी संभावना है। ईश्वर न करें, अगर मैं कहूं कि पाकिस्तान पारंपरिक युद्ध में हार रहा हो और अगर एक देश दो विकल्पों के बीच फंस गया है, या तो आप आत्मसमर्पण करेंगे या अपनी स्वतंत्रता के लिए आखिरी सांस तक लड़ेंगे। मुझे पता है कि पाकिस्तान स्वतंत्रता के लिए अंतिम सांस तक लड़ेगा, जब एक परमाणु संपन्न देश अंतिम सांस तक लड़ता है तो परिणाम भयावह होते हैं।'

भारत के साथ अब बातचीत नहीं

इमरान ने भारत के साथ बातचीत की संभावनाओं से इनकार करते हुए कहा, 'युद्ध के भयावह परिणामों को देखते हुए ही हमने संयुक्त राष्ट्र से संपर्क किया है और हर अंतर्राष्ट्रीय मंच से संपर्क कर रहे हैं कि उन्हें अब इस पर कदम उठाना चाहिए। क्योंकि यह (कश्मीर) एक संभावित आपदा है जो भारतीय उपमहाद्वीप से आगे जाएगी' कश्मीर के लिए भारत के विशेष दर्जे को निरस्त करने पर उन्होंने कहा कि 'भारत ने कश्मीर पर अवैध रूप से कब्जा कर लिया है और अंतरराष्ट्रीय कानूनों का उल्लंघन किया है।'

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned