Corona Prediction: ज्योतिषों का अनुमान, इस साल से नहीं आएंगे नए केस, लेकिन 8 साल तक साथ-साथ चलेगा कोरोना

ज्योतिष की नजर में कोरोना का साल 2021-22 पर असर

Corona Astrology: कोरोना संक्रमण की तेजी में आई कमी के बाद देश के कई स्थानों से लॉकडाउन काफी हद तक हटा लिया गया था। वहीं कोरोना के नए वेरिएंट डेल्टा प्लस ने अब एक बार फिर केरल, महाराष्ट्र सहित देश के कुछ अन्य हिस्सों में भी पैर पसारने शुरु कर दिए हैं। ऐसे में तेजी से घट रहे संक्रमण से राहत में आई सरकार व लोगों को एक बार फिर डर का अहसास होना शुरु हो गया है।

वहीं दूसरी ओर कोरोना को लेकर ग्रहों की दशा दिशा पर लगातार ध्यान रख रहे ज्योतिष के जानकारों का मानना है कि मई-जून 2022 के आसपास कोरोना संक्रमण अपने सबसे निम्न स्तर पर पहुंचता दिख रहा है।

जिसके बाद मुमकिन है कि नए केस आने ही बंद हो जाएं, लेकिन इस दौरान भी कोरोना के मरीज मौजूद रहेंगे। वहीं यदि ये स्थिति बनी रही तो आंकलन के अनुसार सितंबर 2022 प्रथम सप्ताह में कोरोना के चंद ही मरीज देश में रह जाएंगे। जबकि इससे पहले तक कोरोना का संक्रमण लगातार उपर नीचे होता रहेगा।

Must Read- Corona 3rd Wave: जानें कैसे आएगी कोरोना की तीसरी लहर?

3rd wave corona

लेकिन ज्योतिष के जानकारों ने ये भी चेताया कि भले ही कोरोना इस समय निम्न स्तर पर हो, लेकिन कोरोना खत्म नहीं होगा यानि ये बना रहेगा। परंतु इसका असर अत्यधिक कमजोर होने से ये लोगों को होने के बावजूद ज्यादा असरकारक नहीं रहेगा।

ज्योतिष जानकार पंडित एके शुक्ला के मुताबिक यूं तो कोरोना देश दुनिया में 2030 या उससे आगे तक भी बना रह सकता है, लेकिन इसका कहर 2022 के बाद उतना नहीं बरस सकेगा, जितना इसने 2020-21 में बरसाया।

उनके अनुसार भले ही कोरोना अभी देश दुनिया से मिटता नहीं दिख रहा है, लेकिन इसका असर अत्यंत सीमित होने से इसके कारण होने वाली मृत्यु दर अत्यंत ही सीमित हो जाएगी। वहीं मुमकिन है कि सितंबर 2020 तक तो यह शून्य पर आ जाए। जिसके बाद कोरोना एक सामान्य जुखाम की तरह हो जाएगा।

Must Read- कोरोना- 2022 में मिलेगा इसका सही इलाज!

Corona Vaccine
IMAGE CREDIT: patrika

वहीं ज्योतिष के जानकार पंडित सुनील शर्मा के अनुसार इसी साल यानि 2021 में 30 जून के बाद वृषभ में राहु और वृश्चिक राशि में केतु होने से कई नए अविष्कार होने की संभावना है,माना जा रहा है कि इस समय उन बीमारियों का इलाज मिलने की संभावना बढ़ेंगी, जो अब तक असाध्य मानी जा रही है।

पंडित सुनील शर्मा के अनुसार चूकिं इस नवसंवत्सर के राजा व मंत्री मंगल है ऐसे में श्री हनुमान की पूजा वर्तमान में लोगों को राहत देने का काम कर सकती है। इसके अलावा चूकिं ये महामारी राहु के सहयोग से उत्पन्न हुई दिख रही है, ऐसे में इसका बचाव मंगल ही करने में सक्षम है। इसका कारण यह है कि ज्योतिष के अनुसार केवल मंगल ही ऐसा ग्रह जो राहु को संतुलित करने में समर्थ है।

जानकारों के अनुसार कोरोना से बचाव के लिए उचित होगा कि लोग लगातार विटामिन सी का उपयोग करते रहें।

दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned