scriptYour Vehicle Insurance Claim May be rejected know when not to file | आपका Vehicle Insurance Claim भी हो सकता है रिजेक्ट, कभी ना करें ये गलतियां | Patrika News

आपका Vehicle Insurance Claim भी हो सकता है रिजेक्ट, कभी ना करें ये गलतियां

अगर आप बीमाकर्ता के क्लेम प्रोसेस पर ध्यान दिए बिना एक कार बीमा पॉलिसी खरीदते हैं, तों सड़क दुर्घटना में हुई गंभीर क्षति के बाद आपकी कार को संपूर्ण सहायता मिले यह जरूरी नहीं है।

नई दिल्ली

Updated: January 23, 2022 10:28:29 am


वाहन की कार बीमा पॉलिसी खरीदना कानूनी रूप से हर व्यक्ति के लिए महत्वपूर्ण है, हालांकि लोग इंश्योरेंस तो खरीद लेते हैं, लेकिन क्लेम करते समय हजार समस्याओं का सामना करते हैं। इसलिए कार बीमा पॉलिसी खरीदते समय आपको चयन किए गए कुछ बीमाकर्ता के क्लेम प्रोसेस की प्रक्रिया का अध्ययन करना चाहिए। जिसके बाद ही आपको कंपनी का चयन करना चाहिए। ऐसा ना करने से आपके लिए बड़ी परेशानी पैदा हो सकती है।

car_insurance-amp.jpg
Car Insurance Claim

उदाहरण के लिए बता दें, कि अगर आप बीमाकर्ता के क्लेम प्रोसेस पर ध्यान दिए बिना एक कार बीमा पॉलिसी खरीदते हैं, तों सड़क दुर्घटना में हुई गंभीर क्षति के बाद आपकी कार को संपूर्ण सहायता मिले यह जरूरी नहीं है। वहीं कई बार आपका क्लेम कंपनी द्वारा रिजेक्ट भी कर दिया जाता है। फिलहाल हम आपको बताने जा रहे हैं, कि कैसे आप Insurance Clain Rejection से बच सकते हैं।

मरम्मत की लागत क्लेम बोनस से कम होने पर ना करें क्लेम

अगर आपने बीते वर्ष Insurance Claim नहीं किया है, तो आपको अगले वर्ष की दर पर लगभग 20% की छूट मिल सकती है। इसे 'नो क्लेम बोनस' या एनसीबी भी कहा जाता है। बता दें, प्रत्येक ऑटोमोबाइल बीमा प्रीमियम को दो भागों में विभाजित किया जाता है: Damage premium और Third party premium. एनसीबी कटौती Damage प्रीमियम पर उपलब्ध है, जो कुल ऑटो बीमा प्रीमियम का 80% से अधिक होता है। मामले को बेहतर ढंग से समझने में मदद के लिए आइए आपको एक उदाहरण देते हैं।


ये भी पढ़ें : इस ऑटो चालक के हुनर के फैन हुए आनंद महिंद्रा, Tweet कर कहा 'ये तो मैनेजमेंट का प्रोफेसर है'

मान लीजिए Mr. X के पास एक कार है, और उसे लगभग 10,000 का कुल प्रीमियम चुकाना है। इसमें से डैमेज प्रीमियम लगभग 8000 होता है। अब, कार के बीमा कवर के दूसरे वर्ष में जाने के ठीक NCB क्षति का 20% होगा और यह लगभग 1600 होगा। आपको इस राशि की तुलना करने की आवश्यकता है। वहीं अगर मरम्मत की लागत 1600 से अधिक है, तो Mr.X को उस बीमा का दावा करना चाहिए और अगर वह ऊपर नहीं जाता है, तो उसे इसके लिए दावा नहीं करना चाहिए। वाहन की मरम्मत के लिए भुगतान करने से प्रीमियम लागत कम रहेगी। और यह आपको भविष्य के लिए पैसे बचाने में मदद करेगा।



थर्ड पार्टी अगर मरम्मत लागत को कवर करने के लिए है तैयार

मान लें कि आपका वाहन बीमा कवरेज के छठे वर्ष में है, और आप महत्वपूर्ण एनसीबी लाभों की अपेक्षा कर रहे हैं, और इसी बीच आपका वाहन दुर्घटना में शामिल हो जाता है। इसमें आप पूरी मरम्मत लागत का भुगतान स्वयं करें, इंश्योरेंंस क्लेम करें या थर्ड पार्टी कंपनी के साथ क्लेम जमा करें। यानी अगर टक्कर किसी अन्य वाहन चालक की लापरवाही के कारण हुई हो, तो आप थर्ड पार्टी विकल्प चुन सकते हैं। हालाँकि, यह ध्यान देने वाली बात है, कि तृतीय-पक्ष बीमा का दावा करने की प्रक्रिया में समय लग सकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Bihar Cabinet Expansion Live Updates: विजय चौधरी, विजेंद्र यादव, तेज प्रताप सहित इन विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथदलित वोट छिटकने का डर: डैमेज कंट्रोल में जुटे सत्ता-संगठन, आधा दर्जन मंत्रियों ने जालोर में डेरा डालाकौन होगा बिहार का नेता प्रतिपक्ष: जेपी नड्डा की मौजूदगी में दिल्ली में बैठक, इन मुद्दों पर भी होगी चर्चाFIFA ने भारतीय फुटबॉल महासंघ को किया सस्पेंड; महिला वर्ल्ड कप की मेजबानी भी छीनीमहागठबंधन सरकार बनते आनंद मोहन को मिली आजादी, पटना में परिजनों से मिले, जेल के बदले सर्किट हाउस में बिताई रातसीएम गहलोत का आज से तीन दिवसीय गुजरात दौरा, चुनावी तैयारियों पर पार्टी नेताओं के साथ होगा संवादतेज हवा और झमाझम बारिश से लखनऊ में ऐतिहासिक भूल भुलैया का गुम्बद गिरापूर्व PM अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्यतिथि आज, राष्ट्रपति, पीएम मोदी सहित कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.