ग्रामीणों ने कहा-साहब, टीचर बच्चों को डस्टर फेंककर मारती हैं उसे स्कूल से हटा दीजिए

ग्रामीणों ने कहा-साहब, टीचर बच्चों को डस्टर फेंककर मारती हैं उसे स्कूल से हटा दीजिए

Satyanarayan Shukla | Publish: Jul, 23 2019 11:16:52 PM (IST) Balod, Balod, Chhattisgarh, India

सैकड़ों ग्रामीण स्कूल में शिक्षक की मांग को लेकर जिला शिक्षा अधिकारी कार्यलय पहुंचकर आक्रोश जताया। शिक्षा विभाग को शिक्षकों की व्यवस्था करने एवं एक शिक्षिका को हटाने की मांग को लेकर एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है अन्यथा की स्थिति में तालाबंदी की चेतावनी दी है। (teacher beats children by throwing a duster)

बालोद@Patrika. डौंडी विकासखंड के तीन गांवों के सैकड़ों ग्रामीण स्कूल में शिक्षक की मांग को लेकर जिला शिक्षा अधिकारी कार्यलय (Office of the district education officer) पहुंचकर आक्रोश जताया। (Balod patrika) शिक्षा विभाग को शिक्षकों की व्यवस्था करने एवं एक शिक्षिका को हटाने की मांग को लेकर एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है अन्यथा की स्थिति में तालाबंदी की चेतावनी दी है। (DEO)

बता दें कि जिले में कई स्कूलों में शिक्षकों की कमी हैं। (School education news) कुछ स्कूलों की तो स्थिति ऐसी है कि 50-50 बच्चों को पढ़ाने एक ही शिक्षक हैं। स्कूलों में शिक्षकों की कमी का मुख्य कारण यह भी है कि अधिकतर शिक्षकों को शिक्षा विभाग (education Department) ने ऑफिसों में अटैच कर रखा हैं। शिक्षकों की कमी के चलते बच्चों की पढ़ाई पर विपरीत असर पड़ रहा हैं। (teacher beats children by throwing a duster)

जिला शिक्षा कार्यालय पहुंचकर हल्ला बोला

शिक्षकों की मांग को लेकर आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र डौंडी ब्लॉक के 3 गावों के सैकड़ों ग्रामीणों ने मंगलवार को जिला शिक्षा कार्यालय पहुंचकर हल्ला बोला और जमकर नारेबाजी भी की। ग्राम फागुनदाह के प्रायमरी स्कूल, पूतरवाही मिडिल स्कूल और केशोपुर के प्रायमरी स्कूल में शिक्षकों की कमी हैं। जिससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही हैं। उक्त तीनों गावों से शिक्षकों की मांग को लेकर सैकड़ों महिलाओं, पुरुषों व युवाओं ने डीईओ कार्यालय पहुंच आवेदन सौंपा, साथ ही जल्द शिक्षकों की पूर्ति करने की बात कही हैं। ग्रामीणों ने चेतावनी भी दी हैं कि अगर शिक्षकों की मांग पूरी नहीं होती है तो स्कूलों में बच्चों को भेजना बंद कर स्कूल में तालाबंदी करेंगे।

Read More : सीबीएसई पैटर्न नहीं आया रास, बोर्ड परीक्षा मार्च में होगी, स्कूल फिर 16 जून से ही खुलेंगे

फागुनदाह के सहायक शिक्षक को न हटाया जाए
ग्राम पंचायत सिंगनवाही के आश्रित ग्राम फागुनदाह स्थित शासकीय प्राथमिक शाला में बच्चों की संख्या 55 हैं। 55 बच्चों को पढ़ाने की जिम्मेदारी सिर्फ एक शिक्षिका पर हैं। शाला प्रबंधन समिति अध्यक्ष भारती साहू ने बताया कि शासकीय प्राथमिक शाला फागुनदाह में सहायक शिक्षक दुर्गाशंकर पाल को गुरुर विकासखंड के आश्रम अधीक्षक के पद पर संलग्नीकरण कर दिया गया हैं। वर्तमान में प्रथम सहायक शिक्षिका मीनाक्षी यादव जो कि सत्र 2017 से एकलव्य कन्या आदर्श आवासीय विद्यालय में कार्यरत हैं तथा वर्तमान स्थिति में स्कूल में एक ही शिक्षिका कार्यरत हैं। जिससे बच्चों की शिक्षा पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा हैं। भारती साहू ने डीईओ से मांग की हैं कि सहायक शिक्षक दुर्गाशंकर पाल को आश्रम अधीक्षक पद से हटा यथावत शासकीय प्राथमिक स्कूल फागुनदाह में रखा जाए ताकि बच्चों की पढ़ाई प्रभावित न हो।

Read More : आप न करें ऐसी गलती : परीक्षा हॉल में बुक लेकर पहुंची छात्रा और डेढ़ घंटे तक कुछ नहीं लिख पाई

विवादित शिक्षिका को हटाने अड़े पुतरवाही के ग्रामीण
ग्राम पंचायत धोबनी के आश्रित ग्राम पुतरवाही स्थित शासकीय माध्यमिक शाला में गणित के शिक्षक की मांग एवं पदस्थ शिक्षिका संध्या सिंह चंदेल को हटाने ग्रामीणों ने डीईओ को आवेदन सौपा है। शिक्षिका संध्या सिंह चंदेल पर सरपंच और पालकों के द्वारा छात्र-छात्राओं को डस्टर फेंक कर मारने का आरोप लगाया गया था। जिसकी जांच डौंडी विकासखंड शिक्षा अधिकारी द्वारा कराई गई। उक्त जांच में आरोप सत्य पाया गया कि शिक्षिका द्वारा छात्र-छात्राओं को डस्टर से मारा जाता है और साथ ही कक्षा में पढ़ाई के वक्त शिक्षिका को सोते भी पाया गया हैं। इतना ही शिक्षिका आए दिन मेडिकल अवकाश पर रहती हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned