अवैध रूप से यूपी तक हो रही छत्तीसगढ़ की रेत की सप्लाई, जिम्मेदार खामोश, जनप्रतिनिधि व ग्रामीण बैठे धरने पर

Illegal sand mining: भारी वाहनों में ओवरलोड रेत परिवहन (Sand transporting) के खिलाफ धरना शुरू, धनवार जांच बेरियर के समीप धरने पर बैठे जनप्रतिनिधि व क्षेत्र के लोग

By: rampravesh vishwakarma

Published: 11 Feb 2021, 08:42 PM IST

बसंतपुर. भारी वाहनों में उत्तर प्रदेश तक रेत के ओवरलोड परिवहन के खिलाफ शनिवार को छत्तीसगढ़-उत्तर प्रदेश के बॉर्डर पर धनवार स्थित खनिज विभाग (Mining department) के जांच बेरियर के पास जनप्रतिनिधि व क्षेत्रवासी अनिश्चतकालीन धरने पर बैठ गए हैं। लोगों का कहना है कि जब तक अवैध रेत परिवहन के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती है, तब तक धरना जारी रहेगा।


गौरतलब है कि इन दिनों बनारस मार्ग पर भारी वाहनों में क्षमता से अधिक रेत (Illegal sand) लोड कर यूपी ले जाया जा रहा है। हर दिन बड़ी संख्या में रेत लोड भारी वाहन दिन-रात यूपी जा रहे हैं, लेकिन जिम्मेदार विभाग इस पूरे मामले पर मौन साधे हुए हैं। खनिज विभाग की भूमिका तो पूरी तरह से संदेह के दायरे में है।

किसी प्रकार की जांच या कार्रवाई नहीं हो रही है। इस मामले को लेकर जिला पंचायत सदस्य गीता देवी ने 6 फरवरी को एसडीएम के पास आवेदन देकर रेत के अवैध परिवहन (Illegal transporting) पर 3 दिन के भीतर कार्रवाई की मांग की थी। ऐसा नहीं होने पर अनिश्चतकालीन धरना प्रदर्शन की चेतावनी दी थी।

किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं होने पर गुरुवार को जिला पंचायत सदस्य गीता देवी सहित अन्य लोग धनवार स्थित खनिज जांच बेरियर के पास धरने (Protest) पर बैठ गए हैं। जिला पंचायत सदस्य गीता देवी ने बताया कि जब तक ओवरलोड रेत वाहनों पर कार्रवाई नहीं होती, धरना प्रदर्शन जारी रहेगा।


ये बैठे हैं धरने पर
धरना प्रदर्शन में महेश कुमार जायसवाल, भगवान सिंह, सावित्री देवी मरावी, जगनराम धुर्वे, राजकुमार टेकाम, रामजनम जायसवाल, पुष्पा जायसवाल, शकुंतला सिंह पोर्ते, संजू गुप्ता, कामेश्वर गुप्ता, सुनील गुप्ता, मोतीलाल गुप्ता, राजेश्वर कुमार वर्मा, शिवकुमार नेताम व देवसाय जगते शामिल हैं।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned