scriptRajasthan News : शिक्षक भर्ती परीक्षा में तीन सरकारी टीचर गिरफ्तार, सामने आ सकते हैं 80 से ज्यादा ‘मुन्नाभाई’ | Rajasthan News: Three government teachers arrested in teacher recruitment exam, more than 80 'Munnabhai' may come forward | Patrika News
बांसवाड़ा

Rajasthan News : शिक्षक भर्ती परीक्षा में तीन सरकारी टीचर गिरफ्तार, सामने आ सकते हैं 80 से ज्यादा ‘मुन्नाभाई’

डमी अभ्यर्थी बैठाकर नौकरी दिलाने में महारत हासिल कर चुकी इस बड़ी गैंग का नेटवर्क दूसरे जिलों तक भी फैला होने की पूरी आशंका है। इसकी भी जांच की जा रही है।

बांसवाड़ाJun 22, 2024 / 04:40 pm

जमील खान

Fraud In REET 2022 : बांसवाड़ा. शिक्षक भर्ती परीक्षा (तृतीय श्रेणी) में डमी अभ्यर्थी बैठाकर नौकरी हथियाने के आरोपी तीन सरकारी शिक्षकों को पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया। एक महिला शिक्षक जल्द गिरतार हो सकती है। पुलिस को आशंका है कि ऐसे मामलों की संख्या करीब 80 से ज्यादा हो सकती है, इसलिए जांच की गति और दायरा बढ़ा दिया गया है। शुक्रवार को एक और एफआईआर दर्ज हुई। अब तक पांच मामले दर्ज हो चुके हैं। जांच अधिकारी (एएसपी) राजेश भारद्वाज ने बताया कि डमी अभ्यर्थी के जरिए नौकरी पाने वाले 3 शिक्षकों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इधर, पुलिस अधीक्षक हर्षवर्धन अग्रवाला खुद सज्जनगढ़ थाने में तीन दिन से डेरा डाले हुए हैं और पूरे मामले में कार्रवाई की मॉनीटरिंग कर रहे हैं।
तहकीकात में जुटी पुलिस टीम में शामिल तीन थानाधिकारियों को सज्जनगढ़ में प्रत्येक 2 से 3 घंटे में एक नया टास्क दिया जा रहा है। शुक्रवार को भी 25 से अधिक संदिग्धों से पूछताछ की जा चुकी थी। डमी अभ्यर्थी बैठाकर नौकरी दिलाने में महारत हासिल कर चुकी इस बड़ी गैंग का नेटवर्क दूसरे जिलों तक भी फैला होने की पूरी आशंका है। इसकी भी जांच की जा रही है। हालांकि शिक्षा विभाग की ओर से अभी तक जिले में नियुक्त केवल 14 लोगों के खिलाफ ही रिपोर्ट दी है। कोई भी जानकारी देने से कतरा रहे…… इस मामले में कोई भी थानाधिकारी, डीएसपी या फिर जांच अधिकारी किसी भी प्रकार की जानकारी साझा नहीं कर रहे हैं। मुख्य आरोपियों से पूछताछ के लिए बागीदौरा और कुशलगढ़ डीएसपी को लगाया गया है।
उदयपुर में सांचौर के युवक से दोस्ती… और बना ली गैंग
सूत्रों के अनुसार क्षेत्र का रहने वाला आरोपी सेवालाल उदयपुर में पढ़ाई करता था। यहां उसकी सांचौर के एक युवक से दोस्ती हो गई। पढ़ाई पूरी होने के बाद भी दोनों का संपर्क बना रहा। दोनों ने कुछ अन्य साथियों को मिलाकर एक पूरी गैंग बना ली। इसमें सांचौर का एजेंट मारवाड़ क्षेत्र में पढ़ाई में तेज ऐसे अभ्यर्थियों की तलाश करता था, जो कि परीक्षा पास करा दे। जबकि, सेवालाल और उसके साथी बांसवाड़ा में ऐसे युवाओं की तलाश करता, जो कि पैसे देकर परीक्षा पास करना चाहते थे। बात तय हो जाने पर सेवालाल और उसके साथी हरेक मामले में 10-12 लाख रुपए में सौदा तय करते थे। इसमें बात नहीं बनती तो 5 लाख रुपए तक में भी सौदा कर लेते।
अब तक 46 से ज्यादा संदिग्धों से पूछताछ
पुलिस ने एमपी बॉर्डर से लेकर गुजरात तक के करीब 46 लोगों से गुरुवार से शुक्रवार दोपहर तक पूछताछ की है। फिलहाल पूरी कार्रवाई सेवालाल और सांचोर के एजेंट की पूछताछ पर निर्भर है। दोनों आरोपियों ने जितने भी लोगों के नाम बताए हैं, उन सभी के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।
सल्लोपाट थाना बना जांच का केन्द्र
अभी तक सभी केस में जांच का जिमा एएसपी राजेश भारद्वाज को दिया गया है, जबकि 3 प्रकरण थाने में दर्ज कराए गए हैं। सज्जनगढ़, सल्लोपाट, कुशलगढ़ थानाधिकारी और उनकी टीम को यहां तैनात कर दिया गया है। साथ ही पाटन, कसारवाड़ी व अन्य थानों के प्रभारी भी यहां पर मौजूद हैं। आम लोगों का सल्लोपाट थाने में आना-जाना पूरी तरह बंद हो चुका है। थाने में चाय-कॉफी तक बाहर से नहीं मंगवाई जा रही है। सबकुछ मैस में ही बन रहा है।
मुख्यमंत्री कार्यालय को भेजी रिपोर्ट
आईजी एस. परिमला और एसपी अग्रवाला ने अब तक की प्रगति की पूरी रिपोर्ट पुलिस मुख्यालय भेज दी है। रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि फर्जी ढंग से नौकरी हासिल करने वालों की तादाद ज्यादा है। रिपोर्ट में तो 100 से भी ज्यादा लोगों के फर्जी तरीके से नौकरी लेने की आशंका जताई गई है। इधर, एसओजी भी बांसवाड़ा एसपी से संपर्क में है, जो मुयमंत्री दतर को पल-पल की रिपोर्ट भेज रही है।
80 से भी ज्यादा का अनुमान
डमी अभ्यर्थी 80 से ज्यादा हो सकते हैं। इसकी पुष्टि करना अभी जल्दीबाजी होगी। हमारी पूरी टीम लगी हुई है। कोई भी आरोपी कुछ भी कह सकता है। फिलहाल इतना बता ही सकते हैं कि फर्जीवाड़े में शामिल लोगों की संया अनुमान से अधिक आएगी। हर्षवर्धन अग्रवाला, पुलिस अधीक्षक, बांसवाड़ा
सूचना सहायक में भी डमी अभ्यर्थी बैठाया, साढ़े सात लाख रुपए में सौदा, प्रकरण दर्ज
बांसवाड़ा. सूचना सहायक भर्ती 2008 में भी डमी अभ्यर्थी का खेल चला। साढ़े 7 लाख रुपए में डमी अभ्यर्थी के जरिए परीक्षा पास करवाई गई। इसके बाद सरकारी सज्जनगढ़ में नियुक्ति मिली। इस मामले में सज्जनगढ़ थानाधिकारी नागेंद्र सिंह की रिपोर्ट पर पुलिस ने पण्डवाल ऊंकार निवासी मुकेश पुत्र हवा सिंह के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराया गया है। रिपोर्ट में बताया कि मुखबिर से सूचना मिलने के बाद जांच शुरू की गई। आरोपी मुकेश से जानकारी जुटाई तो उसने एसएसओ आईडी व पासवर्ड बता दिया। जांच पर नाम व फोटो अलग मिला। पूछताछ शुरू की गई तो मुकेश ने बताया कि सेवालाल ने 7.50 लाख में सौदा तय किया था। सेवालाल ने कहा था कि बिना परीक्षा दिए ही सरकारी नौकरी लगवा देगा। उसने जालौर के भीनमाल निवासी वीरमा राम पुत्र गंगाराम को बैठा कर परीक्षा पास करा दी। इसके बाद दोनों एक साथ डूंगरा में मुझसे पैमेंट लेने के लिए आए थे।

Hindi News/ Banswara / Rajasthan News : शिक्षक भर्ती परीक्षा में तीन सरकारी टीचर गिरफ्तार, सामने आ सकते हैं 80 से ज्यादा ‘मुन्नाभाई’

ट्रेंडिंग वीडियो