कोरोना महामारी के बीच इंसानियत शर्मसार, मौत के बाद कोविड मरीजों का मोबाइल चोरी कर लेते थे हॉस्पिटल कर्मचारी

पूरा मामला नगर कोतवाली क्षेत्र के मेयो हॉस्पिटल का है। जहां दो मृतकों के परिजनों ने मोबाइल फोन चोरी होने की शिकायत पुलिस से की थी।

बाराबंकी. कोरोना महामारी से मौतों के बीच बाराबंकी सेे इंसानियत को शर्मसार कर देने वाली खबर सामने आई है। यहां कोविड मरीजों की मौत के बाद हास्पिटल में उनका मोबाइल चोरी कर लिया जाता था। मोबाइल चोरी कोई और नहीं बल्कि हॉस्पिटल के कर्मचारी ही करते थे। दरअसल अपने इलाज के दौरान कोरोना मरीज अपने मोबाइल की बैट्री चार्ज करने के लिए अस्पताल के कर्मचारियों को दे देते थे। अस्पताल के कर्मचारी कोरोना मरीजों का मोबाइल चार्ज करके उन्हें वापस देते थे। लेकिन इसी बीच अगर किसी कोरोना मरीज की मौत हो जाती थी तो यह कर्मचारी उनका मोबाइल पार कर देते थे।

अस्पताल स्टाफ चोरी करता था मोबाइल

पूरा मामला नगर कोतवाली क्षेत्र के मेयो हॉस्पिटल का है। जहां दो मृतकों के परिजनों ने मोबाइल फोन चोरी होने की शिकायत पुलिस से की थी। पुलिस ने अस्पताल में काम करने वाले एक पुरुष और एक महिला कर्मचारी को इस मामले में गिरफ्तार किया है। पुलिस ने एक पुरुष और एक महिला चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी को गिरफ्तार किया है। इन कर्मचारियों ने बताया कि अपना मोबाइल फोन चार्जिंग के लिए मरीज हमें देते थे और अगर मरीजों की मृत्यु हो जाती थी तो वह मोबाइल अपने पास ही रख लेते थे।

पुलिस ने दो लोगों को किया गिरफ्तार

वहीं इस मामले में बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद ने बताया कि बीते दिनों मेयो हॉस्पिटल में कोरोना के चलते दो मरीजों की मौत हुई थी। उनके परिजनों ने पुलिस से शिकायत की थी कि उनके मरीज के सामान के साथ उनका मोबाइल फोन नहीं दिया गया है। मोबाइल फोन गायब है। इस पर पुलिस ने जांच की और मेयो हॉस्पिटल के दो कर्मचारियों को गिरफ्तार कर मोबाइल बरामद किया है। इन दोनों के खिलाफ आगे की विधिक कार्रवाई की जा रही है।

यह भी पढ़ें: ऑक्‍सीजन की कमी से मौत को हाईकोर्ट ने बताया नरसंहार; यूपी में 24 घंटों के दौरान 352 मरीजों की कोरोना से मौत

coronavirus
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned