ईसाई संस्था में बच्चों के धर्मांतरण का शक, जांच शुरू

ईसाई संस्था में बच्चों के धर्मांतरण का शक, जांच शुरू

Amit Sharma | Publish: Sep, 07 2018 07:25:06 PM (IST) Agra, Uttar Pradesh, India

संस्था के बच्चे अपने धर्म और जाति के बारे में सही जानकारी नहीं दे पाए।

बरेली। ईसाई संस्था वार्न बेबी फोल्ड अनाथालय में बच्चों के धर्मांतरण का संदेह जताया गया है। राज्य बाल अधिकार संरक्षण के अध्यक्ष डॉ विशेष गुप्ता ने संस्था पर संदेह जताया है। डॉ विशेष गुप्ता ने संस्था का निरीक्षण किया था और निरीक्षण के दौरान उन्हें धर्मांतरण के कई सबूत मिले हैं। संस्था के बच्चे अपने धर्म और जाति के बारे में सही जानकारी नहीं दे पाए। छानबीन में पता चला कि यहां पर सभी धर्म के बच्चे बच्चियां रहते हैं लेकिन उन्हें सिर्फ ईसाई धर्म की शिक्षा देने के सबूत मिले हैं।राज्य बाल संरक्षण आयोग ने इस पूरे मामले की रिपोर्ट सीएम को देने का फैसला किया है जिसके कारण संस्था के एक एक बच्चे का रिकार्ड तलब किया गया है।

सिर्फ यीशु की प्रार्थना सुना सके बच्चे 

अपने निरिक्षण के दौरान राज्य बाल अधिकार संरक्षण के अध्यक्ष डॉ विशेष गुप्ता ने संस्था में रहने वाले बच्चों से जब संस्था में कराई जाने वाली प्रार्थना सुनाने को कहा तो बच्चे यीशु की प्रार्थना सुनाने लगे इस पर जब उन्होंने संस्था की अधीक्षिका से पूछा कि बच्चों को राष्ट्रगीत नहीं सिखाया जाता तो अधीक्षिका बगलें झांकने लगीं। इसके साथ ही सभी बच्चों के नाम के आगे सिर्फ सिंह लगा मिला। इस पर अध्यक्ष ने बच्चों के ब्रेनवाॉश करने का संदेह जताते हुए संस्था के बच्चों का रिकार्ड जांचने के आदेश दिए हैं। राज्य बाल अधिकार संरक्षण के अध्यक्ष डॉ विशेष गुप्ता के निर्देश पर डिप्टी सीपीओ नीता अहिरवार ने जांच शुरू कर दी है।

मांगा गया बच्चों का डाटा

राज्य बाल अधिकार संरक्षण के अध्यक्ष डॉ विशेष गुप्ता के निर्देश पर डिप्टी सीपीओ नीता ने संस्था को नोटिस जारी कर संस्था में रहने वाले सभी बच्चों का डाटा उपलब्ध कराने का आदेश दिया था। जिसके बाद वार्न बेबी फोल्ड संस्था की अधीक्षिका डिप्टी सीपीओ के ऑफिस में पेश हुई और अपना पक्ष रखा। संस्था में रहने वाले बच्चों का डाटा प्राप्त कर सम्बंधित जिलों से बच्चों का सत्यापन कराया जाएगा।

Ad Block is Banned