नाबालिग से सामूहिक बलात्कार के बाद हत्या, फैली सनसनी

- किया दुष्कर्म, साथ ले जाने पर किया मना तो कर दी हत्या

By: Dilip dave

Published: 18 Jan 2021, 09:08 PM IST



शिव (बाड़मेर). शिव तहसील क्षेत्र के एक गांव में सोमवार सुबह दिल दहलाने वाली घटना कुछ ही समय में पूरे जिले में फैल गई। जिस पर पुलिस के आला अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचने के साथ स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों ने भी घटनास्थल का रुख किया।
घटना की सूचना के कुछ समय बाद आसपास के गांवों के सैकड़ों व्यक्ति घटनास्थल पर पहुंच गए थाना अधिकारी के साथ ही उपखंड अधिकारी व पुलिस अधीक्षक भी घटनास्थल पर पहुंचे। जहां पर खेजड़ी के पेड़ के नीचे नाबालिग लडक़ी शव पड़ा था, पुलिस ने शव को कब्जे में लिया। तब तक मृतक के परिजनों द्वारा घटना को लेकर घटनास्थल पर ही विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। जिला पुलिस अधीक्षक व उपखंड अधिकारी द्वारा समझाई के बाद मृतका के शव को स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की मोर्चरी में रखवाया गया।
पुलिस छावनी में बदला सीएससी-घटना के बाद लगातार ग्रामीणों की भीड़ बढऩे पर जिले के आला पुलिस अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए पुलिस अधीक्षक आनंद शर्मा ,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नरपतसिंह ,पुलिस उपाधीक्षक महावीरप्रसाद, थाना प्रभारी गडरारोड़,गिराब, गिड़ा, बाड़मेर ग्रामीण,नागाणा, रामसर, चौहटन सहित कई थाना अधिकारियों के साथ आरएसी की टुकड़ी तैनात रही।

मृतका के चाचा ने दर्ज करवाया मामला-पुलिस ने बताया कि क्षेत्र निवासी एक व्यक्ति ने मामले में बताया कि रविवार मध्‍य रात्रि को उसके चाचा की नाबालिग पुत्री रहवासी ढाणी मे माता के पास वाले झौंपे में सो रही थी। उस समय पडौस मे हासल पर खेती करने वाले अशोक पुत्र शंकराराम निवासी बुहल, खेताराम भील ,गोपालसिंह निवासी सुवाला एक अन्‍य ने षडयन्‍त्रपूर्वक नाबालिग का अपहरण करने के लिये अशोक व खेताराम को ढाणी भेजा जहां पर दोनों ने रात्रि को अनाधिकृत प्रवेश कर नाबालिग का जबरन अपहरण कर ढाणी से करीबन 300 मीटर दूर ले गये। जहां चारों जनों ने नाबालिग के साथ जबरन दुष्‍कर्म किया। इसके बाद नाबालिग को साथ ले जाने का प्रयास किया तो,
मना करने पर चारों जनों ने धारदार हथियार से निर्मम गला रेत कर हत्‍या कर दी।

Dilip dave Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned