बारिश की विदाई के संकेत, भोपाल में छाया घना कोहरा

सीजन का पहला कोहरा, दृश्यता महज 50 मीटर

By: deepak deewan

Published: 07 Sep 2021, 09:30 AM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश में अधिकांश जिलों में सामान्य से कम बारिश हुई है. अल्पवर्षा के कारण फसलें नष्ट होने की कगार पर हैं और इधर बरसात के मौसम के ढलान पर आने के संकेत दिखाई देने लगे हैं। राजधानी भोपाल में सोमवार को सीजन का पहला कोहरा पड़ा। इसी बीच शहर एवं आसपास के अनेक स्थानों पर कांस फूले दिखाई देने लगे हैं। इन दोनों घटनाओं यानि कोहरा पड़ने और कांस के फूलने का बारिश से सीधा संबंध बताया जाता है.

कोहरा पड़ने को जहां बरसात के कमजोर होने और शरद ऋतु के आगमन के रूप में मान्य किया जाता है, वहीं लोक मान्यताओं के अनुसार कांस के फूल आने के साथ बरसात बूढ़ी हो जाती है। सोमवार को पड़ा पहला कोहरा ही इतना घना था कि दृश्यता गिरकर 50 मीटर तक चली गई थी। शहर में सुबह 5.30 बजे दृश्यता 100 मीटर दर्ज की गई जोकि 5.30 बजे घटकर 50 मीटर आ गई।

bpl_plant.jpg

गौरतलब है कि एक हजार मीटर से कम दृश्यता को धुंध से कोहरे में गिना जाता है, वहीं १०० मीटर के नीचे घना कोहरा माना जाता है। न्यूनतम पारा २२.६ डिग्री रहा। दिन का अधिकतम तापमान ३१.२ डिग्री दर्ज हुआ जो सामान्य से दो डिग्री अधिक रहा। सुबह से बादल छाए रहे। कुछ जगहों पर बूंदा-बांदी भी हुई लेकिन तेज बौछारें दर्ज नहीं की गई। फिर आसमान खुला और धूप तपी। दोपहर में कुछ जगहों पर बादल छाए।

न तन पर कपड़े, न रहने का ठिकाना पर यही अघोरी बाबा उठाते हैं महाकाल सवारी का खर्च

हालांकि मौसम विभाग का कहना है कि मानसूनी गतिविधियां अभी नहीं थमेगी. सोमवार को ही खाड़ी में नया सिस्टम बना है, ऐसे में वर्षा भले ही पीक मानसून की तरह बेहद तेजी से न हो, लेकिन इसकी गतिविधियां थमने का सवाल पैदा नहीं होता। मौसम विभाग ने मंगलवार को गरज-चमक व कहीं-कहीं बौछारें पडऩे का अनुमान व्यक्त किया है।

deepak deewan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned