scriptEarphones are making youth deaf be alert as soon as you see these symptoms | युवाओं को बहरा कर रहा है Earphone, ये लक्षण दिखते ही हो जाएं Alert | Patrika News

युवाओं को बहरा कर रहा है Earphone, ये लक्षण दिखते ही हो जाएं Alert

locationभोपालPublished: Nov 26, 2023 07:25:02 am

Submitted by:

Faiz Mubarak

युवा काल सेंटर, वर्क फ्रॉम होम के चलते आनलाइन मीटिंग करते हैं। इसके साथ ही लंबे समय तक फोन पर बात करना, गाने सुनना या इंटरनेट पर लंबा समय बिताने से अकसर लोगों के कान में सन्न की आवाज या सीटी बजने जैसी परेशानी हो रही है। ऐसे कई मामले भोपाल के ईएनटी डॉक्टरों के पास रोजाना पहुंच रहे हैं।

Earphones side effect
युवाओं को बहरा कर रहा है Earphone, ये लक्षण दिखते ही हो जाएं Alert

आजकल खासतौर पर युवा पीढ़ी का ज्यादातर समय मोबाइल में तेज आवाज में संगीत सुनने के साथ, ऑनलाइन गेम खेलने में बीत रहा है। कुछ युवा काल सेंटर और वर्क फ्रॉम होम के चलते आनलाइन मीटिंग करते हैं, जिससे उनके कान में सन्न की आवाज और सीटी बजने जैसी परेशानी हो रही है। ऐसे कई मामले लेकर लोग राजधानी भोपाल के ईएनटी डॉक्टरों के पास पहुंच रहे हैं। वहीं दूसरी ओर चिकित्सकों का मानना है कि ईयरफोन का जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल बिना किसी समस्या के युवाओं को बहरा बना रहा है।

हाल ही में 12वीं क्लास के स्टूडेंट शैलेंद्र शर्मा (परिवर्तित नाम) को कान सीटी बजने की शिकायत हो रही थी। माता-पिता उसे शहर के सबसे बड़े हमीदिया अस्पताल के नाक कान गले के विभाग में लेकर पहुंचे। जहां जांच में पता चला कि शैलेंद्र के कान की नसें रोजाना घंटों ईयरफोन लगाए रखने की वजह से कमजोर हो गई हैं, जिससे सुनने की क्षमता पर भी बुरा असर पड़ा है। विभाग के चिकित्सकों का मानना है कि इस स्थिति में जो असर कानों पर पड़ा, वो पूरी तरह सही नहीं हो सकता। इसके लिए सावधानी बरतने की जरूरत है। हमीदिया अस्पताल में हर महीने नाक-कान-गला रोग विशेषज्ञ के पास 25 पीड़ित युवा आ रहे हैं, जो चिंताजनक है।

यह भी पढ़ें- चीतों के घर में आ गया टाइगर : कूनो नेशनल पार्क में दिखा बाघ! वीडियो वायरल


ऐसे ईयरफोन ज्यादा नुकसानदायक

हमीदिया अस्पताल में नाक-कान-गला विशेषज्ञ विभाग की प्रमुख डा. स्मिता सोनी का कहना हा कि छोटे साइज के ईयरफोन कान में लगाना ज्यादा घातक है। ईयरफोन, हेडफोन और ईयर बड्स समेत अन्य उपकरणों के कारण ये समस्या बढ़ रही है। इससे एकाग्रता तक भंग हो रही है। युवा आनलाइन क्लास, संगीत सुनने, काल पर बात करने से लेकर इंटरनेट मीडिया चलाने तक इन ध्वनि उपकरणों का घंटों इस्तेमाल करते हैं। कई लोग आज भी वर्क फ्राम होम के चलते आनलाइन मीटिंग करते हैं। वहीं कई युवा काल सेंटर में काम करते हैं, जिसके लिए वो लंबे समय तक ईयरफोन लगाए रखते हैं। इससे उनकी सुनने की क्षमता कम हो रही है। समय पर सचेत न होने पर ये समस्या बहरेपन का रूप धारण कर लेती है।

यह भी पढ़ें- यंगस्टर्स का कमाल, कबाड़ से बना दिया हूबहू अयोध्या का 'राम मंदिर'


ये सावधानियां जरूरी

- परिजन खुद युवाओं के सामने लंबे समय तक हेडफोन व ईयरफोन का इस्तेमाल न करें।
- यदि वह अकेले में फोन पर बात कर रहे हैं तो उन्हें निजी स्पेस दें, जिससे वह हेडफोन के इस्तेमाल से दूर रहें।
- युवाओं को समझाना होगा कि जहां तक संभव हो फोन, लैपटाप में लगे स्पीकर का ही इस्तेमाल करें।
- युवा अगर निर्धारित समय से अधिक हेडफोन का इस्तेमाल करें तो उन्हें समझाएं कि यह खतरनाक है।

ट्रेंडिंग वीडियो