हाई अलर्ट पर गांधी सागर बांध: 117 गांव जलमग्न, 25 हजार लोग प्रभावित, भारी बारिश से 202 लोगों की मौत

हाई अलर्ट पर गांधी सागर बांध: 117 गांव जलमग्न, 25 हजार लोग प्रभावित, भारी बारिश से 202 लोगों की मौत
हाई अलर्ट पर गांधी सागर बांध: 117 गांव जलमग्न, 25 हजार लोग प्रभावित, भारी बारिश से 202 लोगों की मौत

Pawan Tiwari | Updated: 16 Sep 2019, 08:23:00 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

  • मध्यप्रदेश में लगातार बारिश का दौर जारी है।
  • भारी बारिश के कारण 33 जिलों में बाढ़ है।
  • मालवा-निमाड़ में बारिश से सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है।

भोपाल/मंदसौर. मालवा के मंदसौर, नीमच औऱ चंबल क्षेत्र के मुरैना, श्योपुर समेत मध्यप्रदेश-राजस्थान के सीमावर्ती इलाकों में लगातार हो रही भारी बारिश के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। गांधी सागर डैम को हाई अलर्ट पर रखा गया है। बांध की क्षमता से 6 मीटर ज्यादा पानी भरने से 117 से अधिक गांवों में बाढ़ की स्थिति निर्मित हो गई है। वहीं, बाढ़ में फंसे लोगों की मदद के लिए सेना की मदद ली जा रही है।

25 हजार लोग प्रभावित
गांधी सागर डैम की क्षमता से अधिक पानी भरने के कारण 25 हजार लोग प्रभावित हो गए हैं। कैबिनेट सेक्रेटरी राजीव गौबा ने भी बाढ़ की स्थिति जानी है। मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव एसआर मोहंती ने उन्हें बताया कि शनिवार रात तक 16 लाख क्यूसेक पानी की आवक बढ़ गई है। जबकि बांध के गेट खेलने के कारण 6 लाख क्यूसेक पानी निकलने की स्थिति है। इससे राजस्थान में खतरा बना हुआ है।

बिजली घर की 5 मशीनें डूबीं
गांधी सागर बांध का लेवल 1312 फीट है। भारी बारिश के कारण बांध का जलस्तर 1318 पहुंच गया है। ज्यादा पानी आने के कारण बांध की रेलिंग टूट गई है। पानी बैक वाटर क्षेत्र में डूब रहा है। जल संसाधन विभाग पानी का लेवल मेंटेन नहीं कर पा रहा है। बांध के बिजली घर में ापनी भर गया है। पांच मशीनें डूब गई हैं।

खाली कराए गए गांव
मंदसौर और नीमच में चंबल की बाढ़ ने सबसे ज्यादा तबाही मचाई है। मंदसौर के 26 गांव खाली करा लिए गए हैं। वहीं, नीमच में भी 16 लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। नीमच के 76 गांवों में बाढ़ है। दिल्ली से कोटा होते हुए मुबंई जाने वाले मार्ग को बहाल किया गया। लेकिन रविवार को भारी बारिश के कारण 6 ट्रेनों के रूट डायवर्ट किए गए।

202 लोगों की मौत
मध्यप्रदेश में भारी बारिश के कारण अब तक 202 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 15 लाख हेक्टेयर की फसल खराब हो गई है। बताया जा रहा है कि बारिश मंदसौर में 75 साल का रिकॉर्ड तोड़ चुकी है। अब तक 20 हजार लोगों को 55 राहत कैंपों में पहुंचाया जा चुका है।

विधायक बोले यहां प्रलय है
मंदसौर से बीजेपी के विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने कहा है कि स्थिति बेकाबू है। यशपाल सिंह सिसोदिया ने कहा है कि यहां प्रलय है। हजारों लोगों का सब कुछ बर्बाद हो गया है। सरकारी मदद लोगों को तक नहीं पहुंच पा रही है। जिनका सबकुछ बर्बाद हो गया है, वो अब रात कहां बिताएंगे। सीएम से हमने संपर्क करने की कोशिश की है लेकिन बात नहीं हो पाई।

ये हैं हालात
एमएल त्रिवेदी, प्रभारी एवं एसडीओ जल संसाधन गांधीसागर बांध क्षेत्र ने बताया- 1312 मीटर का लेवल है, फिलहाल पानी 1318 मीटर तक भर गया। बांध के 19 गेट सभी खोल दिए गए है, 13 लाख क्यूसेक पानी आ रहा है। बांध से फिलहाल 5 लाख क्यूसैक पानी छोड़ रहे हैं। 3 घंटे पहले तक 16 लाख क्यूसैक पानी आ रहा था, आवक में कमी आई। बांध के पॉवर हाउस और स्टीम पाल पर आंशिक नुकसान हुआ है। बांध में पानी की आवक को देखते हुए कैचमेंट के सभी 50 गांव को अलर्ट कर दिया है, गांधीसागर बांध तक आवाजाही एहतियात के तौर पर बंद की गई है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned