scriptKamalNath address to MP citizens before Independence Day 2021 | Independence Day 2021: कमलनाथ का प्रदेशवासियों से संबोधन, लिया इस बात का संकल्प | Patrika News

Independence Day 2021: कमलनाथ का प्रदेशवासियों से संबोधन, लिया इस बात का संकल्प

15 अगस्त से एक दिन पहले शनिवार शाम को मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेशवासियों को संबोधित किया। इस दौरान कई अहम बिंदुओं पर चर्चा की। आप भी जानें...।

भोपाल

Updated: August 15, 2021 07:56:36 am

भोपाल/ मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ( Kamal Nath ) ने 15 अगस्त ( Independence Day 2021 ) से एक दिन पूर्व शनिवार शाम को मध्य प्रदेश वासियों को सोशल मीडिया के माध्यम से संबोधित किया। अपने संबोधन की शुरुआत में कमलनाथ ने कांग्रेस पार्टी ( Congress Party ) का देश की आजादी में योगदान के बारे में बताया, तो वहीं पूर्व की कमलनाथ सरकार द्वारा अपने कार्यकाल के दौरान प्रदेश के लिये किये गए कार्यों को गिनाया। साथ ही, ये भी कहा कि, किस तरह धोखे से जनता की चुनी गई सरकार को गिराकर, खुद सत्ता हासिल की गई। आइये जानते हैं। पीसीसी चीफ कमलनाथ ने प्रदेश के संबोधन में क्या कहा...।

Independence Day 2021
Independence Day 2021: स्वतंत्रता दिवस से पहले कमलनाथ का प्रदेशवासियों से संबोधन, लिया इस बात का संकल्प

पढ़ें ये खास खबर- Independence Day 2021 : एमपी से अमेरिका तक आजादी के जश्न की तैयारी, देखें तस्वीरें

कमलनाथ ने ट्विटर पर किया LIVE

ये लोग सिखा रहे हैं देश को राष्ट्रवाद की परिभाषा- कमलनाथ

पूर्व सीएम कमलनाथ ने ट्विटर पर लाइव करते हुए सबसे पहले प्रदेशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दीं। इसके बाद उन्होंने कहा कि, 15 अगस्त 1947 को हम विदेशी गुलामी से आजाद हुए थे। आजादी की लड़ाई और नए भारत के निर्माण में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और उनके हाथों से सवारी हुई भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की इसमें महत्वपूर्ण भूमिका रही है। लेकिन, देश में आजादी की लड़ाई में जिनका कहीं नामोंनिशान नहीं था। भारत को राष्ट्र बनाने में जिनका कोई योगदान नहीं, वो आज देश को आजादी और राष्ट्रवाद की परिभाषा सिखाने निकले हैं।


आज इन स्वतंत्रता सेनानियों को नमन करने का दिन

कमलानाथ ने आगे कहा कि, 'मैं आज इस अवसर पर नई पीड़ी को बताना चाहता हूं कि, भारत की आजादी की लड़ाई अनगिनत स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ने लड़ी, जैसे गांधी और नेहरू ने लड़ी, लाल-बाल-पाल ने लड़ी, आजाद और बोस ने लड़ी थी, बिस्मिल और राजगुरु ने लड़ी थी, सुखदेव और भगत सिंह ने लड़ी थी, दुर्गावती और लक्ष्मी बाई ने लड़ी थी, आज इन स्वतंत्रता सेनानियों की देशभक्ति को नमन करने का दिन है।

कमलनाथ ने कहा कि, जब ब्रिटिश गुलामी से भारत आजाद हुआ, तब देश अनेक चुनौतियों से घिरा हुआ था। देश के सामने सबसे बड़ी चुनौती थी, सबको एकजुट रखना। पंडित जवाहर लाल नेहरू ने इतनी विविधता वाले भारत को एकजुट कर एक झंडे के नीचे ला खड़ा किया, जबकि इस तरह की विभिन्नताओं वाले राष्ट्र टूटकर बिखर गए। हमें भारत की एकता और अखंडता पर गर्व है। आज की पीड़ी के लिये उस समय की चुनैतियों को समझ पाना बहुत कठिन है। इन चुनौतियों के बीच पंडित जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार ने देश को विकास की नई राह पर ले जाना शुरु किया।


पंडित नेहरू का योगदान बताया

महान नेता बाबा साहब अंबेडकर ने समता मुलुक समाज के लिये भारत का संविधान बनाया। पंडित नेहरू ने जमीदारी प्रथा को समाप्त कर किसानों को उनकी जमीनों का मालिकाना हक दिलाया। उनके समय में देशभर में छोटे-बड़े हजारों बांध बनवाए। AIIMS, IIT जैसी शिक्षण संस्थाएं बनीं, बाबा परमाणु रिसर्च सेंटर में लड़ाकू जहाज बनाने की कंपनी बनाई गई और आज की नवरत्न कंपनियों में उन्हीं के समय में देश में खड़ी हुई, देश की BHEL भी उन्हीं की देन है। नेहरू ने भारत को विकासशील राष्ट्र बनाया।

पढ़ें ये खास खबर- Independence Day 2021: बेहद खूबसूरत है मध्यप्रदेश का राज्यपक्षी, जानिए इसके बारे में


सरदार वल्लभ भाई पटेल ने छोटी-बड़ी रियासतों को जोड़कर मजबूत भारत की नीव रखी

गांधी वादी नेता और देश के पहले गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल ने छोटी-बड़ी रियासतों को जोड़कर मजबूत भारत की नीव डाली। लाल बहादुर शास्त्री ने जय जवान जय किसान के नारे के साथ देश के किसान भाइयों और सेना के जवानों को मजबूती के साथ खड़ा किया।


इंदिरा गांधि के योगदान गिनाए

प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने हरित क्रांति और श्वेत क्रांति से देश को आत्मनिर्भर बनाने की और कदम उठाए। उन्होंने गरीबी हटाओ अभियान से देश की और बंग्लादेश के निर्माण से विश्व की सूरत बदल दी। देश की एकता और अखंडता के लिये इंदिरा जी ने अपना पूरा जीवन दान कर दिया। इंदिरा जी ने कंप्यूटर क्रांति से आधिनिक भारत का परिचय कराया और 21वीं सदी के नए भारत की नीव डाली।


नरसिम्हा राव और मनमोहन सिंह का योगदान

नरसिम्हा राव ने उधारीकरण से भारत में नए आर्थिक युग की शुरुआत की। डॉ. मनमोहन सिंह ने उधारीकरण को नई ऊंचाई दी। उनके समय में मनरेगा, RTI, राइट टू फूड, राइट टू एजुकेशन के अधिका मिले। देश के किसानों की कर्ज माफी का एतिहासिक कार्य भी इसी समय हुआ। कांग्रेस के त्याग और समर्पण का समय सन 1947 से शुरु होकर आजतक लगातार जारी है।

पढ़ें ये खास खबर- Independence Day 2021: ऐ मेरे वतन के लोगों, ज़रा आंख में भर लो पानी..


2018 में आपने कांग्रेस की सरकार चुनी

कमलनाथ ने मध्य प्रदेश के संबंध में चर्चा करते हुए कहा कि, वर्ष 2018 में आप सभी ने यहां कांग्रेस की सरकार चुनीं और मुझे आपकी सेवा का अवसर मिला। मैने एक नया मध्य प्रदेश बनाने का सपना बुना था और उस सपने को साकार करने के लिये हमने 27 लाख किसानों की कर्ज माफी की, हजारों गौ शालाएं बनाईं, 100 रुपये में 100 यूनिट बिजली दी, शुद्ध के लिये युद्ध अभियान और माफिया मुक्त मध्य प्रदेश अभियान चलाया।


सरकार द्वारा इतनी कम अवधि में किये गए कार्य- कमलनाथ

कनलनाथ ने कहा कि, मेरा उद्देश्य था कि, मध्य प्रदेश में आर्थिक गतिविधि बढ़े और निवेश आए। निवेश तब आता है, जब विश्वास का वातावरण हो। हमारी सरकार ने प्रदेश में निवेश के वातावरण को बनाने की ओर काम शुरु किया था। हमने OBC आरक्षण को बढ़ाकर 27 फीसदी किया और सामान्य वर्ग को 10 फीसदी आरक्षण दिया। पेंशन की राशि को बढ़ाकर 600 रुपये और कन्या विवाह की सहायता राशि को 51 हजार रुपये किया। राम वन गमन पथ, ओम सर्किट की योजना, महाकाल एवं औम्कारेश्वर मंदिर में निर्माण प्रारंभ करवाया। पुजारियों का मानदेय तीन गुणा किया। मेट्रो रेल परियोजना, युवाओं को उद्योग में रोजगार के लिये 70 फीसदी आरक्षण, महिला अपराधों में कमी, मेग्निफिसेंट मध्य प्रदेश और कर्मचारी हितेशी फैसले जैसे अनेक कार्य किये।


आज जैसी परिस्थितयां देश में कभी नहीं रहीं- कमलनाथ

मध्य प्रदेश की इस सुनहरी तस्वीर से माफिया डर गए और चुनी हुई सरकार को सौदेबाजी कर गिरा दिया। मध्य प्रदेश के नए निर्माण का सफर अधूरा रह गया। आज देश में सरकारों के सौदे हो रहे हैं और देश कई चुनौतियों से घिरा हुआ है। भारत में आज जैसी परिस्थितियां हैं, ऐसी तो कभी भी नहीं रहीं। आज देश का हर वर्ग परेशान है। आज देश में भटकता हुआ नौजवान है, पीड़ित किसान है, शोषित व्यापारी है, असुरक्षित बेटियां और निम्न एवं मध्यम वर्ग महंगाई की मार झेल रहा है। बाजारों में सन्नाटा पसरा हुआ है और आर्थिक गतिविधियां ठप्प हो चुकी हैं। विकास के नाम पर देश में सिर्फ जुबानें चलाई जा रही हैं। मैं हमेशा कहता हूं कि, जुबान चलानें और सरकार को चलाने में बड़ा अंतर होता है। आज यही स्थितियां हैं।


कोरोना महामारी में सरकार की विफलताएं

हमने देखा कि, कोरोना महामारी में देश और प्रदेश में बहुत तबाही हुई। कोरोना से निपटने की अव्यवस्थ के कारण बहुत नुकसान हुआ। आमजन बेड, इंजेक्शन, ऑक्सीजन और दवाओं के लिये भटकते रहे और बिना इलाज के लाखों लोगों की जान गई। सरकार लगातार मौत के झूठे आंकड़ जारी करती रही और हेडलाइन मैनेजमेंट में लगी रही। कोरोना के समय हुई अव्यवस्था की सच्चाई को देश की जनता ने देखा है।

पढ़ें ये खास खबर- Independence Day 2021 छोटी सी गन से उड़ा दिए पाक के कई पैटन टैंक


महंगाई चरम पर

आज महंगाई चरम पर है। रसोई गैस, डीजल, पेट्रोल और खाद्य सामग्रियों के दाम आसमान छू रहे हैं और जनता परेशान है। देश के किसान भाई तीन काले कानूनों के खिलाफ सालभर से आंदोलन कर रहे हैं और अब तक इनमें से 600 किसान भाइयों की जान जा चुकी है, पर देश की सरकार गूंगी-बेहरी बनी बैठी है। देश में बेरोजगारी ने अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिये हैं। युवा भटक रहे हैं। ऐसे में हम आने वाली पीड़ी को कैसे खुशहाल जीवन दे पाएंगे।


बाढ़ से मचा हाहाकार

प्रदेश में हुई अतिवृष्टि एवं बाढ़ की आपदा से आमजन परेशान है। प्रभावित परिवारों के प्रति कांग्रेस परिवार सहनुभूति रखती है। क्षेत्र में कांग्रेस कार्यकर्ता आमजन को राहत पहुंचाने में मदद कर रहे हैं। आमजन का जीवन जल्दी ही सामान्य हो, मैं ऐसी कामना करता हूं। आज देश को नई चुनौतियों से लड़ने की आवश्यक्ता है। आज आवश्क्ता है कि, हमारा देश महंगाई के खिलाफ लड़े, बेरोजगारी से लड़े, किसानों को सक्षम बनाने के लिये लड़े, महिलाओं की सुरक्षा और सम्मान के लिये लड़े, व्यापारियों को व्यापार के अवसर देने के लिये लड़े। ये सभी चुनौतियां आज देश के सामने हैं। आज देश उसी तरह से चुनोतियों से घिरा हुआ है, जैसे आजादी के समय घिरा हुआ था।


लिया संकल्प

देशवासियों ने आजादी के बाद सभी चुनौतियों को स्विकार किया था और उनसे लड़ने के लिये आगे बढ़े थे। आज फिर से मौका है कि, हम फिर से वर्तमान चुनोतियों को स्वीकार करें और इसका मुकाबला करते हुए देश को सही राह पर आगे बढ़ाएं। आइये स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हम सभी संकल्प लें कि हम सच्चाई को पहचानेंगे, सच्चाई को अपनाएंगे और सच्चाई का ही साथ देंगे। नए मध्य प्रदेश के निर्माण का जो सपना मैने और आपने देखा था। उस सपने के संकल्प को पूरा करने के लिये आज फिर से मैं ये दोहराता हूं, हम मिलकर मध्य प्रदेश की नई पहचान जरूर बनाएंगे। जय हिंद, जय भारत, जय मध्य प्रदेश।

स्वतंत्रता दिवस पर मध्य प्रदेश में अलर्ट - देखें Video

Independence Day 2021: फिल्म से पहले क्यों होता है राष्ट्रगान, जानिए यह दिलचस्प तथ्य

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE : गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा- 50 ‘इनोवेटिव इकॉनोमीज़’ में भारत ने बनाई अपनी जगहRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयमुख्यमंत्री नितीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, UP चुनावों में घोषित कर दिये 20 प्रत्याशीUP Assembly Elections 2022 : हेमा, जया, स्मृति और राजबब्बर रिझाएंगें मतदाताओं को, स्टार प्रचारकों की लिस्ट में हैं शामिलस्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना हालातों पर राज्यों के साथ की बैठक, बोले- समय पर भेजें जांच और वैक्सीनेशन डाटाUttar Pradesh Assembly Elections 2022: सपा का महा गठबंधन अखिलेश के लिए बड़ी चुनौती
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.