बड़ा फैसला: 8वीं तक के प्राइवेट स्कूल 30 अप्रैल तक रहेंगे बंद, सरकारी स्कूलों की 13 जून तक छुट्‌टी घोषित

स्कूल शिक्षा विभाग ने सरकारी और गैर सरकारी, प्राइमरी और मिडिल स्कलों के लिये मंगलवार देर शाम तीन आदेश जारी किए हैं। जानिये उन आदेशों के बारे में...।

By: Faiz

Published: 14 Apr 2021, 07:02 AM IST

भोपाल/ मध्य प्रदेश लगातार पाव पसार रहे कोरोना वायरस का असपर न सिर्फ लोगों की सेहत पर पड़ रहा है, बल्कि इसका गहरा प्रभाव छात्रों की शिक्षा पर भी पड़ रहा है। कोरोना काल में संक्रमण से बचे रहकर जैसे तेसे क्लासेज और परीक्षा व्यवस्था के बाद प्रदेश सरकार ने कक्षा 8वीं तक के शासकीय एवं अनुदान प्राप्त समस्त स्कूलों के लिए 15 अप्रैल से 13 जून 2021 तक ग्रीष्मकालीन छुट्टियों की घोषणा कर दी है। वहीं, दूसरी तरफ प्रदेश के प्राइवेट स्कूलों में 8वीं कक्षा तक के स्कूलों को 30 अप्रैल 2021 तक बंद रखने का फैसला लिया है। इसके अलावा सूबे में मौजूद सभी सरकारी और निजी हॉस्टल्स तत्काल प्रभाव से बंद करने की घोषणा की गई है।

 

पढ़ें ये खास खबर- बड़ी खबर : चुनावी सभा को संबोधित करने पहुंचे CM शिवराज का हुआ विरोध, इन संगठनों ने दिखाईं विरोधी तख्तियां


स्कूल शिक्षा विभाग ने जारी किये 3 आदेश

आपको बता दें कि, इस संबंध में स्कूल शिक्षा विभाग की ओर से प्राइमरी और मिडिल स्कलों के लिये मंगलवार देर शाम तीन आदेश जारी किए हैं।


-पहले आदेश के मुताबिक

news

पहले आदेश के तहत कक्षा 8वीं तक के सभी शासकीय एवं अनुदान प्राप्त स्कूलों में 15 अप्रैल से 13 जून तक ग्रीष्मकालीन अवकाश देने के संबंध में जानकारी दी गई है। लेकिन शिक्षकों को 9 जून तक अवकाश इस शर्त पर दिया गया है कि वे बोर्ड परीक्षाएं पूर्ण नहीं होने तक बिना अनुमति के मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे।


-दूसरे आदेश के मुताबिक

news

दूसरा आदेश प्राइवेट स्कूलों के लिए जारी करते हुए कहा गया है कि, संक्रमण के मद्देनजर प्रदेश के सभी प्राइवेट स्कूल 1 से 8वीं तक की क्लास 30 अप्रैल 2021 तक बंद रहेंगी। हालांकि, इनकी ऑनलाइन पढ़ाई जारी रह सकेगा।


-तीसरे आदेश के मुताबिक

news

तीसरे आदेश में हॉस्टलों को लेकर कहा गया है कि, बढञते संक्रमण के चलते कई जिलों में कोरोना कर्फ्यू लगा है। इसा के चलते सभी सरकारी और प्राइवेट हॉस्टल तुरंत बंद करने का फैसला लिया गया है।


आदेश में स्पष्ट रूप से कही गई ये बातें

जारी आदेश में साफ तौर पर कहा गया है कि, बोर्ड की परीक्षाएं एमपी बोर्ड, सीबीएसई और आईसीएसई के निर्देशों के अनुसार होगी। इसी तरह सरकारी स्कूलों में 10वीं और 12वीं के हॉस्टल के स्टूडेंट्स प्री-बोर्ड परीक्षा की आंसर शीट अपने घर के नजदीकी सरकारी स्कूल में जमा कर सकेंगे। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा इस संबंध सभी जिलों के कलेक्टर, जिला शिक्षा अधिकारी, जिला परियोजना समन्वयक एवं प्राचार्य को दिशा निर्देश जारी कर दिये गए हैं। कक्षा पहली से आठवीं तक की शालाओं में कार्यरत सभी शासकीय शिक्षक ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान बोर्ड परीक्षाओं के पूरा होने तक मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे। बोर्ड परीक्षा के दौरान पर्यवेक्षण या अन्य शासकीय कार्य की ड्यूटी पर तैनात रहने वाले सहयोगी आवश्यक रूप से उपस्थित होंगे। जारी निर्देशों में स्पष्ट किया गया है कि बोर्ड परीक्षाएं संबंधित बोर्ड, माध्यमिक शिक्षा मंडल, सीबीएसई, आईसीएसई इत्यादि के निर्देश के अनुसार ही आयोजित की जाएंगी।

 

पूर्व मंत्री और महिला पुलिसकर्मी के बीच हुई बहस - Video viral

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned