बड़ी खबर: शिक्षक भर्ती परीक्षा सितंबर में! बंपर वेकैसी के साथ अगस्त के अंत में होगा ऐलान

बड़ी खबर: शिक्षक भर्ती परीक्षा सितंबर में! बंपर वेकैसी के साथ अगस्त के अंत में होगा ऐलान

Deepesh Tiwari | Publish: Aug, 20 2018 03:30:24 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

शिक्षक भर्ती का इंतजार कर रहे लोगों के लिए अच्छी खबर...

भोपाल। लंबे समय से शिक्षक भर्ती का इंतजार कर रहे लोगों के लिए अच्छी खबर है। पिछले दिनों शिक्षक भर्ती को लेकर किए गए दांवों के बाद अब एक नई बात सामने आ रही है। इसके अनुसार मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले 31 हजार शिक्षकों की भर्ती की जाएगी। इसके लिए शिक्षा विभाग ने सरकार को प्रस्ताव भेज दिया है।

शिक्षा विभाग से सामने आ रही खबरों के मुताबिक भर्ती से संबंधित नियमों को उचित विचार-विमर्श के बाद अंतिम रूप दे दिया गया है। वहीं यह भर्ती प्रक्रिया व्यावसायिक परीक्षा बोर्ड (पीईबी पूर्व में व्यापमं) द्वारा की जाएगी। ऐसे में सूत्रों की मानें तो सरकार अगस्त के अंतिम हफ्ते में शिक्षकों की भर्ती का ऐलान कर सकती है।

वहीं राजनीति के जानकार इसे भाजपा का एक बड़ा दांव बता रहे हैं। उनके अनुसार चुनाव से पहले भर्ती परीक्षा कराने का सीधा लाभ भाजपा को मिलेगा। क्योंकि यह इससे असंतुष्ट लोगों को संतुष्ट करने का काम कर अपने वोट बैंक को बढा सकेगी।

जानकारी के अनुसार अभी प्रदेश में करीब 70 हजार शिक्षकों की जरूरत है, जबकि केवल 31 हजार भर्ती को हरी झंड़ी मिली है, ऐसे में जानकारों का यह भी मानना है बाकी भर्ती के लिए सरकार चुनाव के बाद का भी वादा कर सकती है।

महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण...
यह भी चर्चा है कि महिला उम्मीदवारों को शिक्षक भर्ती में 50 फीसदी आरक्षण मिलेगा। पिछले दिनों इसके लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ऐलान किया था। इन्हें उम्र में 5 साल की छूट भी दी जाएगी।

अतिथि शिक्षकों को बोनस मार्क का लाभ दिया जाएगा। ऐसे शिक्षक जिन्हें 200 से 399 दिनों का अनुभव है उन्हें 5 नंबर बोनस के रूप में दिए जाएंगे। वहीं, 400 से 599 दिनों का अनुभव होने वालों को 10 नंबर बेनस में मिलेंगे।

राजनीति जानकारों के अनुसार अपनी इस रणनीति से जहां सरकार शिक्षकों को संतुष्ट करने का प्रयास करती दिख रही है, वहीं इसकी मदद से महिलाओं को भी साधने का प्रयास किया जाएगा।

भर्ती को लेकर दबे शब्दों में यह बात भी सामने आ रही है कि शिक्षकों की भर्ती के लिए सितंबर में परीक्षा आयोजित की जा सकती है।

इसका कारण चुनाव से पहले सरकार का किसी भी स्थिति में शिक्षकों की नियुक्ति करना बताया जाता है।
सितंबर में परीक्षा करने से आचार संहिता के लगने से पहले सरकार शिक्षकों को नियुक्त कर सकती है। इसी को देखते हुए माना जा रहा है कि इस पूरी प्रक्रिया को जल्द से जल्द पूरा किया जाएगा।

इधर, कुछ सूत्रों का यह भी दावा है कि इन भर्तियों के दौरान लाखों की संख्या में लोग आवेदन करेंगे, लेकिन समय कम होने की वजह से इस दौरान 31 हजार शिक्षकों की ही भर्ती की जाएगी। कम भर्ती के पीछे जो कारण बताया जा रहा है उसके अनुसार इतने कम समय में ज्यादा भर्तियों के काम को अंजाम देना मुश्किल है।

वहीं सरकार को प्रस्ताव भेजने से पहले चार बार नियमों में बदलाव किया जा चुका है। वहीं जानकारों का यह भी मानना है कि गेस्ट टीचर्स को मौका देने के लिए नियमों में खासतौर से बदलाव किया गया है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned