scriptThese lamps are special, demand is coming from all over the country | बनाए ऐसे खास दीये कि देशभर से आने लगी डिमांड | Patrika News

बनाए ऐसे खास दीये कि देशभर से आने लगी डिमांड

दीपकों की देश के कई शहरों में मांग

 

भोपाल

Published: October 29, 2021 08:32:21 am

भोपाल. महिलाएं आत्मनिर्भर होने के साथ-साथ अपना नाम भी रोशन कर रही है। दो साल पहले कोरोना आया तो महिलाओं ने घर बैठे गोबर से दीपक व प्रतिमाएं बनाना सीखा। अब यही काम उन्हें पैसों के साथ ही यश भी प्रदान कर रहा है. गोबर से बने दीपक और प्रतिमाएं खूब बिक रहीं हैं. अब तक 10 हजार से अधिक दीपकों की बिक्री हो चुकी है.

diwali.png

राधाकृष्ण मंदिर के सामने बरखेड़ी अहीर मोहल्ला में काशी दीप गौउत्पादन केंद्र द्वारा यह दीपक तैयार किए जा रहे हैं, जो दिवाली के लिए लागत मूल्य पर लोगों को उपलब्ध कराए जाएंगे। कांता यादव ने बताया कि इसके पीछे उद्देश्य यहीं है कि स्वदेशी उत्पादों को बढ़ावा मिले इसके लिए पड़ौस की ही कुछ महिलाओं के साथ मिलकर दीपक सहित कुछ सामग्री तैयार कर रहे हैं। यह दीपक गाय के गोबर से तैयार किए जा रहे हैं।

इसके साथ ही घरों में लगने वाले शुभ लाभ, लक्ष्मीजी, गणेशजी, सरस्वती जी सहित अन्य प्रतिमाएं भी तैयार की जा रही है। केंद्र की कांता यादव ने बताया कि दीपक की डिमांड कई जगहों से आ रही है। अब तक आगरा, नासिक, मुज्जफरपुर, शिमला आदि शहरों में दीपक भेजे गए हैं, इसके अलावा भी कई शहरों से डिमांड आ रही है। अब तक दस हजार से अधिक दीपक भेजे जा चुके हैं, साथ ही कई शहरों से भी डिमांड आ रही है।

gobar_de_diye.jpg

सोशल मीडिया से प्रचार
महिलाओं द्वारा इसका प्रचार प्रसार सोशल मीडिया के माध्यम से किया गया। इसके लिए एक फेसबुक पेज केंद्र के नाम से बनाया गया जिसमें दीपकों के बारे में जानकारी दी गई। गोबर से बने दीपक 3 से 4 रुपए प्रति नग दिए जाते हैं, इसी प्रकार प्रतिमाएं 80 रुपए जोड़ी के हिसाब से दिए जाते हैं। इन महिलाओं का कहना है कि यह दीपक हम लागत मूल्य पर उपलब्ध कराएंगे।

किसानों के लिए खुशखबरी, खाद की किल्लत दूर, कीमत कम

ऐसे तैयार करते हैं गाय के गोबर से दीपक
गाय के गोबर से दीपक तैयार करने के लिए पहले गोबर को सुखाया जाता। इसके बाद उसे पीसकर उसका पाउडर बनाते हैं। उस पाउडर को बारिक छान लेते हैं, इसके बाद उसमें मैदा लकड़ी पाउडर अथवा ग्वारगंभ मिलाते हैं। इसके बाद इसे आटे जैसा मल लिया जाता है। इसके बाद इससे दीपक तैयार किए जाते हैं। जिस हिसाब से मिट्टी के दीपक आते है, लगभग उसी कीमत पर यह गोबर के दीपक भी उपलब्ध होंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

प्रियंका गांधी पर बरसी मायावती कहा, कांग्रेस वोट कटवा बीएसपी को ही वोट देंCovid-19 Update: देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, ओमिक्रॉन केस 10 हजार पारSubhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणनेताजी की जयंती अब पराक्रम दिवस के रूप में मनाई जाएगी, PM मोदी समेत इन नेताओं ने दी श्रद्धांजलिदिल्ली में जनवरी में बारिश का पिछले 32 साल का रिकॉर्ड ध्वस्त, ठंड से छूटी कंपकंपी, एयर क्वालिटी में सुधारशोएब अख्तर बोले- 'विराट कोहली की जगह होता तो शादी नहीं करता, उन्हें कप्तानी छोड़ने के लिए किया गया मजबूर'राजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडमध्यप्रदेश के सिर्फ 11 जिलों में मिल रहा 'खरा' खोना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.