छत्तरगढ़-बीकानेर स्टेट हाईवे जर्जर, सरकार फोर-लेन का वादा कर नहीं बना पाई टू-लेन सड़क, वाहन चालकों का निकलना हो रहा मुश्किल

छत्तरगढ़-बीकानेर स्टेट हाईवे जर्जर, सरकार फोर-लेन का वादा कर नहीं बना पाई टू-लेन सड़क, वाहन चालकों का निकलना हो रहा मुश्किल

dinesh swami | Publish: Sep, 10 2018 10:11:51 AM (IST) Bikaner, Rajasthan, India

छत्तरगढ. बीकानेर-छत्तरगढ़ राज्य राजमार्ग पूरी तरह जगह-जगह से क्षतिग्रस्त होने के कारण वाहन चालकों को के लिए परेशानी का सबब बन गया है। सरकार के गठन के साथ ही इसे फोर-लेन की घोषणा की थी, लेकिन वर्तमान सरकार का कार्यकाल करीब पूरा होने के बाद इसे टू लेन भी नहीं किया गया। इसी सरकार के कार्यकाल के अंतिम दिनों तक भी इसका नवनिर्माण नहीं कराने से छत्तरगढ़ क्षेत्र की जनता में भारी आक्रोश है।

छत्तरगढ. बीकानेर-छत्तरगढ़ राज्य राजमार्ग पूरी तरह जगह-जगह से क्षतिग्रस्त होने के कारण वाहन चालकों को के लिए परेशानी का सबब बन गया है। सरकार के गठन के साथ ही इसे फोर-लेन की घोषणा की थी, लेकिन वर्तमान सरकार का कार्यकाल करीब पूरा होने के बाद इसे टू लेन भी नहीं किया गया। इसी सरकार के कार्यकाल के अंतिम दिनों तक भी इसका नवनिर्माण नहीं कराने से छत्तरगढ़ क्षेत्र की जनता में भारी आक्रोश है। बीकानेर बाइपास के बाद से ही सड़क टूट-फू ट चुकी है। जगह-जगह गड्डे हो रहे है। लाखूसर, मोतीगढ़ के बीच सड़क का गत महीने पेचवर्क घटिया सामग्री से होने के कारण कोई सुधार नहीं हुआ।

इसके दोनों ओर किनारे सुधारने की अति आवश्यकता है। वहीं मोतीगढ़ से सतासर बीच सड़क जर्जर होने से वाहन चालकों का वाहन चलाना बहुत मुश्किल है। छत्तरगढ क्रय-विक्रय सहकारी समिति चेयरमैन बरकत पडि़हार ने बताया कि सतासर से रावला वाया डंडी सड़क के भी हालात लम्बे समय से खराब है। दोनों तरफ के शोल्डर भी क्षतिग्रस्त है। छत्तरगढ-राझेवाली सड़क लम्बे अरसे से खराब होने से गड्ढों में तब्दील हो गई है। ऐसी ही दशा में छतरगढ से रावला वाया आवा जाने वाले सम्पर्क सड़क बहुत ही दहनीय स्थिति में है। इसी सड़क में १६ आरजेडी से आगे रोजड़ी मार्ग भी क्षतिग्रस्त है। व्यापार मंडल अध्यक्ष नन्दराम जाखड़ ने बताया कि रोजड़ी-रावला एवं आरडी 507 से रोजड़ी जा रही प्रधानमंत्री सम्पर्क सड़क टूट चुकी है। इसकी ओर कोई ध्यान नही दे रहा।

 

अधूरे सड़क निर्माण से आवागमन बाधित
नापासर. नापासर-बीकानेर सड़क गाढ़वाला के बीच जर्जर है। जिसका मरम्मत कार्य धीमी गति से चल रहा है। चार महीनो में लोगो को आवागमन में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। तीन किमी सड़क पर पत्थर जमाए, जो उखड चुके। जो वाहनों के टायरों के नीचे आकर उछलकर हादसे का कारण बन रहे है। रोजाना गाडियो के कांच टूट रहे है, टायर पंक्चर हो रहे है। दुपहिया वाहन चालक फिसल रहे है। पत्थर उछलने से दो तीन जने चोटिल हो चुके। काम बंद होने से गामीणो में रोष है। ग्रामीणो का कहना है कि ऐसी सड़क बनने से तो अच्छा पहले जैसी ही रहती।

 

गुणवत्ता से खिलवाड़ नहीं
खाजूवाला. यहां राजकीय विद्यालय में चल रहे निर्माण कार्य को लेकर 5 सितंबर को छात्रो ने विरोध प्रदर्शन कर उपखंड अधिकारी से निर्माण कार्य में अनियमितता को लेकर शिकायत की थी। इस पर जगदंबा कंट्रक्शन कंपनी द्वारा उपखंड अधिकारी को अवगत कराया कि कार्य में किसी भी प्रकार की अनियमितता नहीं हो रही। किसी भी हालात में गुणवता के साथ खिलवाङ़ नहीं किया जा रहा। पूरी पारदर्शिता से कार्यस्थल पर जनता के संज्ञान में लाने के लिए कार्य स्पेसिफि केशन बोर्ड लगे रखे हैं। उपखण्ड अधिकारी को ठेकेदार ने अवगत कराया कि निर्माण कार्य में किसी भी प्रकार की अनियमितता नहीं बरती जा रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned