जलते रहे ट्रक, एक-एक कर तीन दमकलें रास्ते में खराब, बेबस खड़े रहे दमकलकर्मी


घटनास्थल तक नहीं पहुंच पाई निगम
की गाडि़यां
एक पहुंची, एक फेरे के बाद वह भी खराब

By: dinesh swami

Published: 19 Jan 2019, 09:59 AM IST

बीकानेर. नगर निगम की अग्निशमन सेवा की लचर व्यवस्था शुक्रवार को फिर सामने आ गई। लूणकरनसर के बामनवाली के पास दो ट्रक जलते रहे, लेकिन निगम की तीन दमकल गाडि़यां एक-एक करके रास्ते में ही खराब हो गई और घटनास्थल तक नहीं पहुंच पाई। मौके पर एक दमकल पहुंची और वह भी एक फेरे के बाद खराब हो गई। इसके बाद दमकली कर्मी पानी का इंतजार ही करते रहे और बेबस होकर ट्रकों व चालक को जलते देखने के सिवाय कुछ नहीं कर पाए। जानकारी के अनुसार निगम के मुरलीधर व्यास नगर और बीछवाल अग्निशमन केन्द्रों से चार दमकल भेजी गई। इनमें से पहली दमकल घटना स्थल पर पहुंच गई। एक फेरे के बाद उसके खराब होने पर दूसरी गाड़ी भेजी गई, लेकिन वह बीच रास्ते में खराब हो गई। इसके बाद दो और दमकल भेजी गई, लेकिन वे भी खराब होकर रास्ते में ही खड़ी हो गई।

 


किसी का नट तो किसी की बैट्री खराब
निगम के सहायक अग्निशमन अधिकारी रूप सिंह ने बताया कि दो दमकल गाडि़यों में विद्युत संबंधित व बैट्री की खराबी रही। एक गाड़ी के शाफ्ट के नट टूट गए। तीसरी गाड़ी बंद होने का कारण पता नहीं चल सका। दोपहर तक ये गाडि़यां सड़क किनारे खड़ी रही। निगम के मैकेनिकों ने मौके पर पहुंच कर गाडि़यों को ठीक किया, लेकिन तब तक आग पर काबू पा लिया गया। बाद में वे गाडि़यां लेकर वापस आ गए।

 

सालों पुरानी गाडि़यां
नगर निगम के दमकल बेड़े में ९ गाडि़यां है। इनमें दो गाडि़यां १५ साल से अधिक पुरानी बताई जा रही हैं, जबकि चार गाडि़यां करीब १४ साल पुरानी हैं। निगम के पास महज तीन दमकल ही तीन से पांच साल पुरानी हैं। ये गाडि़यां मरम्मत के अभाव में आए दिन खराब हो जाती हैं। वर्तमान में नौ में से तीन गाडि़यां खराब पड़ी हैं।
आयुक्त ने ली क्लास
दमकल गाडि़यों के बीच रास्ते में हांफने से हुई निगम की फजीहत के बाद आयुक्त प्रदीप के गवांडे बीछवाल अग्निशमन केन्द्र पहुंचे। उन्होंने एईएन, सहायक अग्निशमन अधिकारी और कर्मचारियों की क्लास ली। उन्होंने प्रत्येक दमकल गाड़ी की स्थिति जानी और जल्द मरम्मत करवाने के निर्देश दिए। वहीं सामान्य और छोट मरम्मत कार्य स्थानीय मैकेनिकों से जल्द करवाने के निर्देश दिए।
अधिकारियों को चेतावनी
&दमकल गाडि़यों का बीच रास्ते में खड़े होने को उचित नहीं माना जा सकता है। संबंधित अधिकारियों को सख्त चेतावनी दी गई है। जो गाडि़यां बीच रास्ते में खराब हुई थी, उनमें दो में अधिक लाइटें लगाने से बैट्री डिस्चार्ज हो गई थी। इससे स्टार्ट नहीं हो पाई। सभी गाडि़यों को मरम्मत करवाकर तैयार करवाने के निर्देश दिए है।
प्रदीप के गवांडे, आयुक्त, नगर निगम बीकानेर

dinesh swami Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned