साब! पैसा जमा कराने के बाद भी नहीं मिला कनेक्शन...

जन सुनवाई में बिजली बिलों, मीटरों को लेकर सामने आई समस्याएं, पहुंचे उपभोक्ता

 

बीकानेर. साब! डिमांड राशि जमा करवाने के बाद भी कनेक्शन नहीं मिला...विभाग ने प्रार्थना पत्र निरस्त कर दिए...विजिलेंस करने का तरिका ठीक नहीं है...मीटर तेज चल रहे है..बिजली से जुड़ी इस तरह की कई समस्याओं से शनिवार को जन सुनवाई के दौरान जोधपुर विद्युत वितरण निगम के प्रबंध निदेशक अभिषेक सिंघवी को रूबरू होना पड़ा। संभागीय मुख्य अभियंता कार्यालय में हुई सुनवाई में बड़ी संख्या में ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों से उपभोक्ता अपनी समस्याएं लेकर पहुंचे।

इस दौरान लोगों ने बिजली कंपनी से जुड़ी शिकायतें भी रखी। शहर के उपभोक्ताओं में बिजली कंपनी के प्रति रोष जताया। जन सुनवाई के दौरान 18 शिकायतें कंपनी से जुड़ी हुई सामने आई, जिसमें लोगों ने विजिलेंस करने की कार्यशैली को लेकर आपत्ती जताई, मीटर तेज चलने, अधिक बिल आने पर दुरुस्त नहीं करने, लोहे के पोल नहीं हटने सरीखी शिकायतें की।

ग्रामीण की 30 शिकायतें

जन सुनवाई के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों की 30 शिकायतें सामने आई। इसमें मुख्य रूप से वोल्टेज कम मिलने, ट्रांसफार्मर बदलने, कृषि कनेक्शन, टेढ़े पोलों की समस्या, दीनदयाल उपाध्याय बिजली योजना के तहत ढाणियों तक बिजली पहुंचाने वीसीआर निरस्त करने सहित समस्याआें के निवारण की मांग रखी। प्रबंध निदेशक ने उपभोक्ताओं की शिकायतों का निस्तारण शीघ्र कराने के निर्देश भी दिए। जन सुनवाई में विद्युत निगम के अभियंता व कंपनी के अधिकारी मौजूद रहे।

छीजत कम करें
जोधपुर विद्युत वितरण निगम के प्रबंध निदेशक ने शनिवार को सभी बिजली की छीजत कम करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। संभागीय अभियंता कार्यालय में फीडर प्रभारियों, अभियंताओं व अन्य अधिकारियों की बैठक ली। इस दौरान उन्होंने बिजली छीजत रोकने, बकाया वसूली में कौताही नहीं बरतने, उपभोक्ताओं को निर्बाध बिजली मुहैया कराने की बात कही।

Atul Acharya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned