किसानों और शहीदों के परिजनों को घर बुलाकर महानायक ने दिए इतने करोड़ रुपए!
Mahendra Yadav
Publish: Sep, 10 2018 05:30:44 (IST)
किसानों और शहीदों के परिजनों को घर बुलाकर महानायक ने दिए इतने करोड़ रुपए!

अमिताभ ने भी केरल रिलीफ फंड में डोनेशन देने की घोषणा के बाद अब महानायक ने महाराष्ट्र के किसानों की मदद की है

केरल में बाढ़ पीडितों के लिए देशभर के लोग मदद करने के लिए आगे आ रहे हैं। बॉलीवुड इंडस्ट्री के लोग भी बाढ़ पीडितों की मदद कर रहे हैं। बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने भी केरल रिलीफ फंड में डोनेशन देने की घोषणा के बाद अब महानायक ने महाराष्ट्र के किसानों की मदद की है। इतना ही नहीं उन्होंने शहीदों के परिवारों की भी मदद की है।

घर बुलाकर दिए चेक:
अमिताभ बच्चन ने अपनी पत्नी जया बच्चन के हाथों किसानों और आर्मी जवानों के परिजनों को मदद राशि दिलाई। अमिताभ बच्चन को शहीद परिवारों की लिस्ट महाराष्ट्र सरकार ने दी थी। उस लिस्ट के आधार पर ही अमितभ ने उन्हें घर बुलवाया और चेक दिए।

 

किसानों और शहीदों के परिजनों को घर बुलाकर महानायक ने दिए इतने करोड़ रुपए!

किसानों को दिए 2.03 करोड़ रुपए:
अमिताभ ने महाराष्ट्र के 360 किसानों को 2.03 करोड़ रूपए दिए। किसानों के एनओसी और लोन को बच्चन ने बैंक के माध्यम से क्लीयर करवाया और किसानों के कर्ज को चुकाया। वहीं महाराष्ट्र के 44 आर्मी शहीदों के परिजनों को 2.20 करोड़ रूपए की मदद दी।

 

किसानों और शहीदों के परिजनों को घर बुलाकर किसानों और शहीदों के परिजनों को घर बुलाकर महानायक ने दिए इतने करोड़ रुपए!महानायक ने दिए इतने करोड़ रुपए!

अमिताभ ने ब्लॉग पर लिखा:
अमिताभ ने आर्मी शहीदों और परिजनों के लिए अपने ब्लॉग में भी लिखा। अमिताभ ने लिखा, 'उन्होंने देश के लिए अपनी जान दी। वे अपनी पत्नी, माता-पिता और बच्चों को छोड़कर हमारी जिंदगी और देश की सुरक्षा के लिए लड़े। उन्होंने बलिदान दिया। तो हमे कुछ तो करना चाहिए। इसलिए मैंने लिस्ट बनाई और कुछ को मोनेटरी रिलीफ के लिए बुलाया। 44 ने देश के लिए अपनी जान न्यौछावर की। मैंने 112 परिवार को सम्मानित किया। मैं एेसा ही आगे भी करता रहूंगा जितना भी मेरे पास है उसमें से लेकिन मुझे उन्हें पर्सनली मिलने नहीं बुलाना था। मैंने यह अपने फायदे या तारीफ के लिए नहीं किया है। मुझे उन्हें इसलिए नहीं बुलाना था क्योंकि उनके चेहरे की तरफ देखना मुश्किल था। उस दर्द को, आगे आने वाले कल की चिंता को और अपनों की कमी को देख पाना मुश्किल था। किसी के चेहरे पर मुस्कान नहीं थी। सब गम में थे। मैंने पूरी कोशिश की उनके गम को कम करन की। लेकिन उनके दर्द को महसूस कर पाना बहुत मुश्किल था। मैं आशा करता हूं कि यह एक उदाहरण के तौर पर हो और बाकी लोग भी इन रियल हीरोज़ की मदद करें।'

किसानों के लिए भी लिखा ब्लॉग में:
अमिताभ ने किसानों के लिए भी अपने ब्लॉग में लिखा। महानायक ने लिखा, 'वो किसान जिन पर बैंक से लोन है, 10 से 15 या 20 हजार रूपए के लिए आत्महत्या करते हैं यह आश्चर्यचकित करने वाला सच है। मैंने एेसे 360 किसानों का लोन दिया जैसे मुझसे जितना भी बन सका। इससे पहले भी किया है और आगे भी करता रहूंगा। उनकी जिंदगी अंधेरे से उजाले की तरफ जाए और हम सबकी भी। खास तौर पर वो किसान जो असुरक्षित हैं और जरुरतमंद हैं।'