अनुपम खेर के सबसे अच्छे दोस्त थे उनके पिता, मौत के बाद घर में रॉकबैंड बुलाकर किया था सेलिब्रेशन

By: Sunita Adhikari
| Published: 14 Jan 2021, 06:52 PM IST
अनुपम खेर के सबसे अच्छे दोस्त थे उनके पिता, मौत के बाद घर में रॉकबैंड बुलाकर किया था सेलिब्रेशन
Anupam Kher Father

  • अनुपम खेर ने शेयर किया लंबा चौड़ा पोस्ट
  • पिता की मौत के बाद अनुपम ने मनाया था जश्न
  • घर में रॉकबैंड बुलाकर पहने थे रंगीन कपड़े

नई दिल्ली: बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता अनुपम खेर (Anupam Kher) सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। वह आए दिन फैंस के साथ अपनी जिंदगी के अनुभवों को बांटते रहते हैं। अब उन्होंने एक पोस्ट के जरिए अपनी जिंदगी से जुड़े कई खुलासे किए हैं। अनुपम खेर ने फिल्मों में अपने संघर्ष और माता-पिता के साथ रिश्तों को लेकर खुलकर बात की। साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि पिता की मौत के बाद उन्होंने अपनी मां के साथ मिलकर जश्न मनाया था।

Hema Malini ने किसानों पर उठाए सवाल तो Kumar Vishwas ने भी ट्वीट कर मारा ताना, लोगों का मिला समर्थन

अनुपम खेर ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से अपनी मां (Anupam Kher Mother) के साथ एक तस्वीर शेयर की है। तस्वीर में दोनों एक-दूसरे की तरफ देखते हुए हंसते हुए नजर आ रहे हैं। इस तस्वीर के साथ अनुपम खेर ने लिखा, पिता की मौत के बाद मैं और मां काफी करीब आ गए थे। उन्होंने अपना पार्टनर खो दिया था और मैंने अपना सबसे अच्छा दोस्त। उनके चौथे पर मैंने कहा कि दुख मनाने से अच्छा है कि हम उनकी जिंदगी का जश्म मनाएं। हमने रंगीन कपड़े पहने और एक रॉकबैंड बुलाया। उसके बाद हमने उनके साथ बिताए अपने अच्छे पलों को याद किया। मेरी मां ने कहा कि मुझे पता नहीं था कि मैंने इतने बेहतरीन इंसान से शादी की थी। इसके बाद हम बेस्ट फ्रेंड्स बन गए।

इसके अलावा अनुपम खेर ने बताया कि अच्छे स्कूल में पढ़ाने के लिए उनकी मां ने अपने गहने तक बेच डाले थे। उन्होंने बताया कि वह पढ़ाई में ज्यादा अच्छे नहीं थे लेकिन फिर भी उनकी मां दुलारी ने उन्हें अच्छे स्कूल में पढ़ाने के लिए अपने गहने बेच दिए थे। उस वक्त उनके पिता केवल 90 रुपए कमाते थे। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि अगर कभी उनके पिता उन्हें ज्यादा प्यार किया करते थे तो उनकी मां उन्हें ऐसा करने से रोकती थीं। वह चाहती थीं कि मैं ध्यान लगाकर पढ़ाई करूं।

शाहरुख खान ने Neil Nitin Mukesh के नाम का उड़ाया था मज़ाक, जवाब में कहा- 'मुझे नहीं है जरुरत सरनेम की'

एक्टर ने अपने संघर्षों को याद करते हुए यह भी बताया कि जब वह मुंबई कलाकार बनने के लिए आए थे तो उनके पास जेब में केवल 37 रुपए थे। वह रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर सोया करते थे। लेकिन इस बात की भनक कभी उन्होंने अपनी मां को नहीं लगने दी।