जेम्स बॉन्ड की फिल्म में विलेन के रोल में कास्ट हुए थे गुलशन ग्रोवर, लेकिन इस वजह से हाथ से निकल गई

By: Archana Pandey
| Updated: 23 Sep 2021, 08:29 PM IST
जेम्स बॉन्ड की फिल्म में विलेन के रोल में कास्ट हुए थे गुलशन ग्रोवर, लेकिन इस वजह से हाथ से निकल गई
Gulshan Grover

एक्टर गुलशन ग्रोवर को फिल्मों में निगेटिव रोल्स के लिए जाना जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि उन्हें हॉलीवुड की एक फिल्म में भी कास्ट किया गया था। लेकिन कास्टिंग होने के बाद भी वो ये फिल्म कर नहीं पाए थे।

नई दिल्ली: एक्टर गुलशन ग्रोवर को फिल्मों में निगेटिव रोल्स के लिए जाना जाता है। वो, अपनी एक्टिंग से नकारात्मक चरित्र को जीवंत कर देते हैं, जिसके चलते उन्होंने लोगों के दिलों में खास जगह बनाई है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि उन्हें हॉलीवुड की एक फिल्म में भी कास्ट किया गया था। लेकिन कास्टिंग होने के बाद भी वो ये फिल्म कर नहीं पाए थे।

फिल्म बनने से पहले ही खबर मीडिया में फैल गई
गुलशन ग्रोवर ने एक इंटरव्यू में बताया कि उन्हें फिल्म 'कसिनो रोयाल' में विलेन के रोल के लिए कास्ट किया गया था। लेकिन फिल्म बनने से पहले ही खबर मीडिया में फैल गई, जिससे परेशान होकर मेकर्स ने उनकी जगह मैड्स मिककेल्सन को ये रोल दे दिया।

गुलशन ये रोल करने के लिए तैयार थे
Rediff को दिए इंटरव्यू में गुलशन ने बताया था कि प्रिंस चार्ल्स के कजिन ब्रदर ने 2005 में एक मीटिंग में मुझ से पूछा था कि क्या मैं जेम्स बॉन्ड की फिल्म कर रहा हूं। जिसमें तुम्हें विलेन ले शिफ्रे ‘Le Chiffre’ का रोल करना है और में ये रोल करने के लिए तैयार था।

लेकिन दुर्भाग्य से हाथ से निकल गया रोल
लेकिन दुर्भाग्य से ऑफिशियल अनाउंसमेंट होने से पहले ये खबर मीडिया में आ गई। इस खबर ने निर्माताओं को परेशान कर दिया। इसी कारण से उन्होंने मेरी जगह मैड्स मिककेल्सन को ले लिया गया।

यह भी पढ़ें: जब ऋतिक रोशन की डेब्यू फिल्म 'कहो न प्यार है' हिट होते ही, राकेश रोशन पर चल गई थीं गोलियां

आपको बता दें कि कसिनो रोयाल 2006 में आई थी। ये Daniel Craig की जेम्स बॉन्ड के रोल में पहली फिल्म थी। फिल्म बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त हिट हुई थी।

अपने शुरुआती संघर्ष को किया याद
पिछले साल हिंदुस्तान टाइम्स के साथ एक इंटरव्यू में गुलशन ने बॉलीवुड में अपने शुरुआती संघर्ष को याद करते हुए कहा था, "मैं घंटों लोगों के ऑफिस के बाहर खड़ा रहता था। ये तब की बात है जब मैं एक प्रशिक्षित एक्टर था। इसलिए, ये ईमानदारी और कड़ी मेहनत है, जिसका आखिर में फल मिलता है।