कविता कौशिक ने वीडियो शेयर कर दिया 'आत्मनिर्भर भारत' का मंत्र, शिल्पकारों और कारीगरों को लेकर कही ये बात

By: Shaitan Prajapat
| Updated: 29 Jun 2020, 04:15 PM IST
कविता कौशिक ने वीडियो शेयर कर दिया 'आत्मनिर्भर भारत' का मंत्र, शिल्पकारों और कारीगरों को लेकर कही ये बात
Kavita Kaushik

'एफआईआर' (FIR) फेम चंद्रमुखी चौटाला कविता कौशिक (Kavita Kaushik) सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं। कविता आए दिन अपने सोशल अकाउंट पर वीडियो और फोटो शेयर करती रहती है। हाल ही में उन्होंने एक वीडियो शेयर किया जो खूब देखा जा रहा है।

सीरियल 'एफआईआर' (FIR) फेम चंद्रमुखी चौटाला कविता कौशिक (Kavita Kaushik) सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं। कविता आए दिन अपने सोशल अकाउंट पर वीडियो और फोटो शेयर करती रहती है। हाल ही में उन्होंने एक वीडियो शेयर किया जो खूब देखा जा रहा है। इस वीडियो में एक्ट्रेस देश की जनता को बता रही है कि कैसे आत्मनिर्भर बनाना है। आपको बता दें कि कोरोना संकट के बीच लगे लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत पर जोर दिया था। इसको आगे बढ़ते हुए अभिनेत्री ने कहा कि आज देश की स्थिति कैसी है और साथ ही उन्होंने यह भी अपील की है कि इससे को बदलने की जरूरत है।

kavita kaushik

शिल्पकारों और कारीगरों को लेकर कही ये बात
कविता कौशिक ने अपने इंस्टाग्रम पर एक वीडियो शेयर किया है जो सोशल मीडिया पर खूब देख जा रहा है। वीडियो के जरिए अभिनेत्री अपील कर रही है कि देश में शिल्पकारों और कारीगरों का सम्मान किया जाना चाहिए, तभी देश आत्मनिर्भर बनेगा। कविता ने कहा कि मैं देख रही हूं कि इस समय हर कोई आत्मनिर्भर भारत की बात कर रहा है। स्वदेशी सामान इस्तेमाल करने पर जोर दिया जा रहा है। हर कोई चीनी सामान के बहिष्कार की बात भी कर रहा है। इस बात पर सहमति जताते हुए कई लोग अपने वीडियो और फोटो शेयर अपना विचार रख रहे है। सभी एक ही बात बोल रहे है कि किसी को भी चीनी सामान और चीन ने जिन कंपनियों में अपने पैसे निवेश कर रख है उनका बहिष्कार करना चाहिए।

kavita kaushik

उस सामान को खरीदेंगे जो देश के शिल्पकार ने हाथों से बनाया
एक्ट्रेस ने कहा कहा कि असल में हम आत्मनिर्भर तो तब बनेंगे जब हम उस सामान को खरीदेंगे जो हमारे देश के शिल्पकार के हाथों से बने होते हैं। एयरपोर्ट पर मिलने वाले जालीदार हाथियों को हमारे देश के शिल्पकार ही बनाते हैं। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि वो हाथी एयरपोर्ट पर तो 4500 से ज्यादा रुपये में बिकता है, लेकिन वहीं उस शिल्पकार को उस हाथी के लिए सिर्फ 22 रुपये मिलते हैं। गरीबी और परेशानी में वह लोन लेता है। उसे लोकल साहूकर से 120 प्रतिशत सालाना ब्याज पर लोन लेना पड़ता है।

kavita kaushik
Show More