scriptpandit mukhram sharma a great script and story writer | कौन थे पंडित मुखराम शर्मा, जिनकी कलम का बालीवुड ने माना लोहा, शीर्ष पर रहते हुए छोड़ दी थी फिल्‍मी दुनिया | Patrika News

कौन थे पंडित मुखराम शर्मा, जिनकी कलम का बालीवुड ने माना लोहा, शीर्ष पर रहते हुए छोड़ दी थी फिल्‍मी दुनिया

पंडित मुखराम शर्मा का जन्म 30 मई 1909 को मेरठ के किला परीक्षितगढ़ क्षेत्र के गांव पूठी में हुआ था। वह हिन्दी और संस्कृत के विद्वान थे।

नई दिल्ली

Published: April 25, 2022 07:20:39 pm

फिल्मों के बारे में कहा जाता है कि फिल्में पटकथा की बदौलत चलती हैं। फिल्म की स्क्रिप्ट जितनी अच्छी होगी, उतनी ही ज्यादा दर्शकों को लुभाएगी। लेकिन फिर भी अधिकतर फिल्मों को या तो अभिनेता या फिर निर्देशक के नाम से जाना जाता है। स्क्रिप्ट राइटर का नाम कम ही लोगों की जुबान पर आता है। लेकिन 60 और 70 के दशक में एक लेखक ऐसे हुए जिन्होंने बॉलीवुड में लेखकों को पहचान दिलाई। वो थे पंडित मुखराम शर्मा (Mukhram Sharma)। आज इनकी पुण्यतिथि है।
mukhram_sharma.jpg
′औलाद′, ′एक ही रास्ता′, ′साधना′, ′धूल का फूल′, ′वचन’, दुश्मन′, ′अभिमान′ और ′संतान′ आदि हिट फिल्मों की कथा-पटकथा, संवाद लेखक पंडित जी का नाम फिल्मों के पोस्टर पर ‘पंडित मुखराम शर्मा की फिल्म’ लिखा कर छपता था। सिनेमाघरों में फिल्म आरम्भ होने पर ऐसे ही पंडित मुखराम शर्मा की फिल्म के साथ फ़िल्म का टाइटल लिखा जाता था।
sddefault.jpgपंडित मुखराम शर्मा का जन्म 30 मई 1909 को मेरठ के किला परीक्षितगढ़ क्षेत्र के गांव पूठी में हुआ था। वह हिन्दी और संस्कृत के विद्वान थे। शिक्षक के तौर पर मेरठ के एक स्कूल में उनकी नौकरी लग गई। उन्‍हें कहानी लिखने में रुचि थी। एक मित्र ने उनकी प्रतिभा को पहचाना और उन्‍हें फिल्‍म लेखन में किस्‍मत आजमाने की सलाह दी। पंडितजी 1939 में नौकरी छोड़कर मेरठ से मुंबई आ गए, लेकिन यहां काम नहीं मिला। उस जमाने में मुम्बई के साथ-साथ पुणे में भी फिल्म निर्माण होता था। पंडितजी पुणे पहुंचे और जानी-मानी प्रभात फिल्म कंपनी के संस्‍थापकों में से एक दिग्‍गज फिल्‍मकार वी. शांताराम से मिले। शुरू में उनके हिंदी ज्ञान को देखते हुए मराठीभाषी कलाकारों के हिन्दी उच्चारण बेहतर का काम सौंपा गया। इस काम में कुछ वक्त बीता तो उन्हें 'दस बजे' नाम की फिल्म के संवाद के साथ-साथ गीत लिखने का अवसर मिल गया।
959 में आई ′धूल का फूल′ यश चोपड़ा की बतौर निर्देशक पहली फिल्म थी। इसकी कथा-पटकथा और संवाद पंडितजी (Mukhram Sharma) ने लिखे थे। 60 के दशक में दक्षिण में बनी पारिवारिक हिन्दी फिल्मों को बहुत पसंद किया जाता था। पंडित मुखराम शर्मा ने वहां के प्रसिद्ध ′जेमिनी बैनर′ की ′घराना′, ′गृहस्थी′, ′प्यार किया तो डरना क्या′ और ′हमजोली′ जैसी हिट फिल्में लिखीं। एलवी प्रसाद के बैनर के लिए ′दादी मां′, ′जीने की राह′, ′मैं सुन्दर हूं′, ′राजा और रंक′ और एवीएम के लिये ′दो कलियां′ जैसी जुबली हिट फिल्में उन्हीं की कलम से निकली थीं। उन दिनों तक ′दादा साहब फाल्के′ पुरस्कार शुरू नहीं हुआ था और कला क्षेत्र में ′संगीत नाट्य अकादमी′ पुरस्कार की बड़ी प्रतिष्ठा थी। 1961 में तत्कालीन राष्ट्रपति डा. राजेंद्र प्रसाद ने उन्हें ′संगीत नाट्य अकादमी′ पुरस्कार से नवाजा।
1950 से 1970 तक उनके उल्लेखनीय पुरस्कारों में तीन फिल्मफेयर पुरस्कार भी थे, जो उन्हें फिल्म ′औलाद′, ′वचन′ और ′साधना′ के लिए मिले थे। पंडित मुखराम शर्मा (Mukhram Sharma) ने बॉलीवुड में लेखक के काम को प्रतिष्ठा दिलाई। उनकी लिखी हिट फिल्मों की बदौलत उनका नाम इतना प्रसिद्ध हो गया कि फिल्म के क्रेडिट में उसे प्रमुखता दिया जाने लगा। उनके नाम से दर्शक सिनेमाघर की ओर खिंचे चले आते थे। इतनी शोहरत पाने के बावजूद वह सादा जीवन और उच्च विचार में यकीन रखते थे। उन्होंने तय कर रखा था कि 70 साल की उम्र के बाद बॉलीवुड को अलविदा कह देंगे और 1980 में उन्होंने यही किया। आपको बता दें सन् 1961 में तत्कालीन राष्ट्रपति डा. राजेंद्र प्रसाद ने उन्हें संगीत नाटक एकादमी पुरस्कार से नवाजा गया था।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, एक्सक्लूसिव रिपोर्ट सिर्फ पत्रिका के पास, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट में...BOXER Died in Live Match: लाइव मैच में बॉक्सर ने गंवाई जान, देखें वायरल वीडियोBRICS Summit: ब्रिक्स देशों के शिखर सम्मेलन में शामिल हुए भारतीय विदेश मंत्री जयशंकर, उठाया आतंकवाद का मुद्दासीएम मान ने अमित शाह से मुलाकात के बाद कहा-पंजाब में तैनात होंगे 2,000 और सुरक्षाकर्मीIPL 2022, RCB vs GT: Virat Kohli का तूफान, RCB ने जीता मुकाबला, प्लेऑफ की उम्मीदों को लगे पंखVirat Kohli की कप्तानी पर दिग्गज भारतीय क्रिकेटर ने उठाए सवाल, कहा-खिलाड़ियों का समर्थन नहीं कियादिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रिया
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.