...जब फिरोज खान ने राजकुमार को दिया था करारा जवाब, ऐसा था एक्टर का रिएक्शन

By: Archana Pandey
| Updated: 25 Sep 2021, 02:27 PM IST
...जब फिरोज खान ने राजकुमार को दिया था करारा जवाब, ऐसा था एक्टर का रिएक्शन
Feroz Khan with Raaj Kumar

राज कुमार की तरह फिरोज खान भी मुंह पर कुछ भी बोल देने वालों में से थे। एक बार ये दो एक्टर एक साथ एक फिल्म कर रहे थे। जिसकी शूटिंग के दौरान राज कुमार नहीं, बल्कि फिरोज खान की अकड़ ज्यादा नजर आई थी।

नई दिल्ली: Feroze Khan reply to Raaj Kumar on his advice: बॉलीवुड इंडस्ट्री में राज कुमार (Raj Kumar) के अलावा फिरोज खान (Feroz Khan) ऐसे एक्टर थे जो एंक्टिंग के साथ ही अपनी बेबाकी और अकड़ के लिए फेमस थे। राज कुमार की तरह फिरोज खान भी मुंह पर कुछ भी बोल देने वालों में से थे। एक बार ये दो एक्टर एक साथ एक फिल्म कर रहे थे। जिसकी शूटिंग के दौरान राज कुमार नहीं, बल्कि फिरोज खान की अकड़ ज्यादा नजर आई थी। ये अकड़ देख राज कुमार भी दंग रह गए थे। आइये जानते है पूरा किस्सा।

feroz_khan_raaj_kumar1.jpg

राज कुमार के साथ किया काम
फिरोज खान बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेताओं में से एक थे। उनकी कुर्बानी, धर्मात्मा और जांबाज यादगार फिल्में मानी जाती हैं। इंडस्ट्री में फैशन लाने वाले फिरोज खान अपनी अकड़ के लिए भी खूब फेमस थे।फिरोज खान ने 1965 में बनी अपनी फिल्म ‘ऊंचे लोग’ में राज कुमार और अशोक कुमार के साथ काम किया था।

इस फिल्म की शूटिंग के पहले ही दिन जब राज कुमार की फिरोज से मुलाकात हुई। राज कुमार ने उन्हें बुलाया और कहा कि देखो ये एक बड़ी फिल्म है। तुम्हें अपना रोल बहुत ध्यान से करना होगा। मैं तुम्हें गाइड करता रहूंगा।

feroz_khan_raaj_kumar2.jpg

राजकुमार के समझाने पर दिया जवाब
मीडिया रिपोर्टस के अनुसार राज कुमार ने फिरोज खान को जैसे ही समझाना शुरू किया तो, फिरोज बीच में ही उठ खड़े हुए और राजकुमार से कह दिया कि आप अपना काम अपने तरीके से करें। मैं अपना काम अपने तरीके से करूंगा। फिरोज खान की यह बात सुन कर यूनिट के लोग दंग रह गए थे और लोगों को लगा कि अब ये फिल्म या तो बनेगी नहीं या इसमें फिरोज खान नहीं होंगे।

यह अकड़ हमेशा बनाए रखना
माना जा रहा था कि राज कुमार निर्देशक से फिरोज खान को निकालवा देंगे, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ, बल्कि अगले दिन सबके सामने फिरोज खान से कहा कि, मुझे तुम्हारी अकड़ अच्छी लगी। मैं भी ऐसा ही हूं। किसी की नहीं सुनता। यह अकड़ हमेशा बनाए रखना।

यह भी पढ़ें: जब 60 के दशक में एक्ट्रेस के लिए ऑडिशन देना होता था मुश्किल, निर्देशक के सामने बदलने पड़ते थे

बता दें कि इस फिल्म से ही फिरोज को असली पहचान मिली थी। इसके बाद वह कभी पीछे मुड़कर नहीं देखे। फिरोज खान ने एक्टिंग के साथ-साथ निर्देशन में भी कदम रखा था और अपने रोल के लिए खुद वह कहानी लिखवाते थे।