5 मिनट के लिए बिजली काटने पर जेई को खानी पड़ी जेल की हवा, विरोध में उतरे 77 कर्मचारियों ने सौंप दिया इस्तीफा- देखें वीडियाे

Highlights

  • डीएम के आदेश पर की गई यह बड़ी कार्रवाई
  • बैठक के दौरान जेई ने पांच मिनट के लिए काट दी थी बिजली
  • एक जेई का पहले भी किया जा चुका है ट्रांसफर

By: Nitin Sharma

Published: 03 Dec 2019, 03:27 PM IST

बुलंदशहर। यूपी के बुलंदशहर में (Electricity) बिजली काटने पर एक जेई को (Transfer) ट्रांसफर के बाद दूसरे को डीएम के आदेश पर हवालात (Jail) की हवा खानी पड़ी। इतना नहीं पीडि़त का आरोप है कि उसके साथ वहां पर अभद्रता और मारपीट भी की गई। (DM) डीएम के आदेश पर पुलिस द्वारा की गई। इस बड़ी कार्रवाई से (Electricity Department) बिजली विभाग के कर्मचारी नाराज हो गये। इस पर 77 कर्मचारियों ने सोमवार को इस्तीफा दे दिया।

चौराहे पर हुई तेज रफ्तार बाइकों की भिड़ंत, युवकों की हालत गंभीर- देखें वीडियो

बैठक के दौरान बिजली काटने पर जेई को जाना पड़ा जेल

जानकारी के अनुसार, बुलंदशहर की कलेक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी रविंद्र कुमार गुरुवार को अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। इसी दौरान बिजली चली गई। इस बात पर नाराज होकर जिलाधिकारी ने जेई को हटाने के आदेश दे दिये। जिसके चलते जेई का ट्रांसफर दूसरे जिले में कर दिया गया । इसके बाद शनिवार को डीएम की बैठक में जेई श्रीराम ने 5 मिनट के लिए बिजली काट दी। आरोप है कि इस पर नगर कोतवाली इंचार्ज अरुणा राय ने जेई श्रीराम को हिरासत में ले लिया। इतना ही नहीं इंचार्ज अरुणा राय ने जेई को पकड़कर हवालात में बंद करा दिया। पीडि़त का आरोप है कि उसके साथ अभद्रता और मारपीट भी की गई।

नाराज होकर थाने पहुंचे सैंकड़ों जेई तो छोड़ा गया पीडि़त

बताया जा रहा है कि शनिवार रात करीब साढ़े 8 बजे शहर के सभी जेई प्रदर्शन करते हुए कोतवाली पहुंच गये। उनके हंगामा और प्रदर्शन करने पर पीडि़त जेई श्रीराम को रिहा किया गया। इसके साथ ही नाराज जेई ने एकत्र होकर सभी ने एक साथ मुख्य अभियंता (वितरण) आरपीएस तोमर को इस्तीफा दे दिया। वही इस मामले में आरपीएस तोमर ने कहा कि एसडीएम, सीओ सिटी, सिटी मैजिस्ट्रेट के साथ मीटिंग में कोतवाल के साथ कार्रवाई का आश्वासन मिला है।

हैदराबाद रेपकांड आरोपियों के लिए मदरसा छात्रों की ऐसी सजा की मांग, हस्ताक्षर व कैंडल मार्च निकाला- देखें वीडियो

बातचीत के बाद लिया गया समझौता पत्र

मामला बिगड़ता देख जिला प्रशासन हरकत में आ गया। जिसके बाद समझौते के प्रयास शुरू कर दिये गये। सुबह से लेकर शाम तक घंटों विद्युत विभाग के अधिकारी व संगठन के पदाधिकारी के बीच वार्ता चली। जिसके बाद समझौता पत्र तैयार कराया गया। उसके बाद जेई संगठन ने हड़ताल समाप्त कर दी और सामूहिक इस्तीफा देने का निर्णय भी वापस ले लिया। सभी जेई काम पर लौट आये। वही अब दोनों पक्ष संतुष्ट हैं।

Show More
Nitin Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned