scriptकैसे सहजेंगे जल: 37 होटल रेस्टोरेंट बुरहानपुर में, केवल एक में मिला वाटर हार्वेस्टिंग | कैसे सहजेंगे जल: 37 होटल रेस्टोरेंट बुरहानपुर में, केवल एक में मिला वाटर हार्वेस्टिंग | Patrika News
बुरहानपुर

कैसे सहजेंगे जल: 37 होटल रेस्टोरेंट बुरहानपुर में, केवल एक में मिला वाटर हार्वेस्टिंग

……………………………………

बुरहानपुरJun 29, 2024 / 11:56 am

ranjeet pardeshi

कैसे सहजेंगे जल: 37 होटल रेस्टोरेंट बुरहानपुर में, केवल एक में मिला वाटर हार्वेस्टिंग

कैसे सहजेंगे जल: 37 होटल रेस्टोरेंट बुरहानपुर में, केवल एक में मिला वाटर हार्वेस्टिंग

  • अब जागे अफसर निरीक्षण में संचालक भी दे रहे हार्वेस्टिंग बनाने का आश्वासन
  • अनदेखी
    बुरहानपुर. बारिश का मौसम शुरू हो गया है, लेकिन अब तक रैन वाटर हार्वेस्टिंग की तेजी देखन को नहीं मिली है। शहर में कई बड़े भवन है, जहां यह हार्वेस्टिंग सिस्टम बनाया जा सकता है, लेकिन भवन मालिकों ने कभी इसमें रुचि ली न प्रशासनिक अफसरों ने इन पर कोई सख्ती की। अब इस पर जोर दिया जा रहा है, जब अफसरों की टीम ने शहर में निरीक्षण किया तो 37 होटल रेस्टोरेंट में मात्र एक में वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम मिला।
    दरअसल लगातार गिरते भू जल स्तर को देखते हुए यह चिंता दिखने लगी है। इसलिए सरकार ने इस बार पूरे प्रदेश में ही नमामि गंगे अभियान की शुरुआत की है, जिसमें बारिश का बूंद बूंद सहजने पर जोर दिया जा रहा है। यह बुरहानपुर के लिए बड़ी चिंता वाली बात भी है क्योंकि बुरहानपुर स्थिति भूजल स्तर के मामले में ठीक नहीं है।
    यह है भूजल की स्थिति
    प्रदेष का अधिकतम जल पुनर्भरण होशंगाबाद 2.22 बिलियन क्यूबिक मीटर (बीसीएम), रायसेन 1.39 बीसीएम, सागर 1.22 बीसीएम नरसिंहपुर 1.21 बीसीएम, छिंदवाड़ा 1.16 बीसीएम जबकि बुरहानपुर का मात्र 0.27 बीसीएम है। वर्षा का जल पर्याप्त मात्रा में आने के बाद भी व्यर्थ बहकर चला जा रहा है। यही हमारे जल संकट का सबसे बड़ा कारण है। तेजी से नलकूप खनन भी हुए। 1980 तक 33 फीट पर भूमिगत जल उपलब्ध था। आज गिरते.गिरते अब 1000.1200 फीट तक पहुच गया है।
    अब ऐसे किए जा रहे प्रयास
    रेन वाटर हार्वेस्टिंग को बढ़ावा देने के लिए निजी शासकीय स्कूल, कॉलेज भवन, होटल रेस्टोरेंट, निजी और शासकीय रहवासी भवन, कमर्शियल भवन, गार्डन आदि स्थानों पर वाटर हार्वेस्टिंग पर जोर दिया जा रहा है। निर्माण कार्य की मॉनिटरिंग एवं व्यवस्था बनाने के लिए जागरूक लोगों के दल बनाए गए हैं।
    इसलिए बारिश का पानी बचाने की जरूरत
    एक हेक्टेयर भूमि पर 95 लाख लीटर पानी बारिश का आता है। जिसमें से 65.70 लाख लीटर पानी बहकर खेत और गांव से बहकर बाहर चला जाता है। यही हमारे जल संकट का सबसे बड़ा कारण है।
    यह है लक्ष्य
    एकहजार घरों का रूफ रैन वॉटर हार्वेस्टिंग कर 10 करोड़ लीटर पानी का पुनर्भरण करने का लिया लक्ष्य रखा गया है। लेकिन यह कितना कारगार साबित होगा यह नागरिकयों की भागीदारी से ही तय हो सकेगा।
    अफसरों के दल को मिला आश्वासन
    कलेक्टर भव्या मित्तल के निर्देश पर होटलों एवं रेस्टोरेंटों में रैन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम के सत्यापन एवं प्रोत्साहन करने के लिए दल ने जांच की। राजस्व निरीक्षक सुनील बागुल, खाद्य सुरक्षा अधिकारी आलोक कुमार रावत एवं उपयंत्री नगर निगम ब्रज किशोर वर्मा द्वारा संयुक्त रूप से 37 होटल व रेस्टोरेंटों का निरीक्षण किया गया। केवल एक में रैन वाटर हार्वेस्टिंग मिला, बाकी ने हार्वेस्टिंग सिस्टम लगवाने में रूचि दिखाई और जल्द ही रैन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम स्थापित करने का आश्वासन भी दिया है।
    29062024बुरहानपुर01: रैन वाटर हार्वेस्टिंग।

……………………………………

Hindi News/ Burhanpur / कैसे सहजेंगे जल: 37 होटल रेस्टोरेंट बुरहानपुर में, केवल एक में मिला वाटर हार्वेस्टिंग

ट्रेंडिंग वीडियो