भारत को मैन्युफैक्चरिंग और एक्सपोर्ट हब बनाने की तैयारी जोरों पर- नीति आयोग

पत्रिका कीनोट सलोन में बिजनेस के वरिष्ठ पत्रकार मनीष रंजन के सवाल पर जवाब देते हुए अमिताभ कांत ने कहा कि इस वैश्विक आपदा से दुनिया भर में चीन का दबदबा घटेगा। भारत के लिए यह किसी अवसर से कम नहीं है।

By: Prashant Jha

Published: 05 May 2020, 08:40 PM IST

नई दिल्ली। भारत सरकार की थिंक टैंक यानी नीति आयोग कोरोना से लड़ने और अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए लगातार केंद्र को सलाह और सुझाव दे रहा है। इसी सिलसिले में नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने बताया कि केंद्र सरकार ने मोबाइल, फार्मास्यूटिकल मैन्युफैक्चरिंग और मेडिकल डिवाइसेस अपने देश में बनाने को लेकर पॉलिसी तैयार की है। इसके अलावा ऑटो कपोनेंट्स, फूड प्रोसिंग सहित 8 से 10 एरिया सेंटर फॉर मैन्यूफैक्चरिंग हब के लिए पाइपलाइन में पहले से है। इसपर भी तेजी से काम चल रहा है।

ये भी पढ़ें: भारत में लॉकडाउन नहीं होता तो अब तक 10 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके होते- नीति आयोग

रेटिंग एजेंसी से डरने की जरूरत नहीं

पत्रिका कीनोट सलोन में बिजनेस के वरिष्ठ पत्रकार मनीष रंजन के सवाल पर जवाब देते हुए अमिताभ कांत ने कहा कि इस वैश्विक आपदा से दुनिया भर में चीन का दबदबा घटेगा। भारत के लिए यह किसी अवसर से कम नहीं है। भारत को मैन्युफैक्चरिंग और एक्सपोर्ट का हब बनाना होगा। उन्होंने कहा कि रेटिंग एजेंसी से डरने की जरूरत नहीं है। हमें उन्हें बताना है कि अर्थव्यवस्था को बढ़ाने के लिए भारत सरकार मिडियम टर्म प्लान पर तेजी से काम कर रही है। इस साल नहीं तो अगले साल हम 7.5% विकास दर जरूर हासिल करेंगे।

अमिताभ कांत ने कहा कि इस दौर में बैंकों को कर्ज देने के लिए आगे आना होगा। बैंक अपने पैसों को कैसे-कैसे लैंड करे उसे स्ट्रैटजी बनानी पड़ेगी।अमिताभ कांत ने भरोसा जताया कि आने वाले समय में भारत दुनिया में निश्चित तौर पर एक सशक्त राष्ट्र के तौर पर उभरेगा।

COVID-19 virus
Show More
Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned