electric Wagon R लाने की तैयारी में maruti, लेकिन इस वजह से हो सकती है देरी

  • electric wagon r 2020 तक हो जाएगी तैयार
  • लॉन्चिंग मे हो सकती है देरी
  • पूरी तैयारी से आना चाहती है मारुति

By: Pragati Bajpai

Published: 27 May 2019, 11:36 AM IST

नई दिल्ली: electric cars फ्यूचर की कार है ये तो सभी जानते हैं और लगभग हर कार निर्माता कंपनी इलेक्ट्रिक कारों पर काम कर रही है। देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति ने भी अपनी पापुलर कार वैगन आर ( wagon r ) का इलेक्ट्रिक वर्जन लॉन्च करने की घोषणा की है। कंपनी अपनी इस छोटी इलेक्ट्रिक कार की सफलता को लेकर आश्वस्त है।

मारुति के चेयरमैन आर सी भार्गव का कहना है कि इस इलेक्ट्रिक कार की टेस्टिंग की जा रही है और उम्मीद है कि 2020 तक इसे तैयार कर लिया जाएगा। लेकिन लॉन्चिंग इस पर निर्भर रहेगी कि उपभोक्ता इलेक्ट्रिक वर्जन के लिए डीजल-पेट्रोल वेरियंट से ज्यादा कीमत चुकाने के लिए तैयार हैं या नहीं।

दरअसल मारुति वैगन आर के इस वर्जन को मार्केट में उतारने से पहले जानना चाहती है कि कस्टमर्स ज्यादा कीमत और चार्जिंग स्टेशनों की दिक्कत के बावजूद इसे अपनाने के लिए तैयार होंगे या नहीं।’ दरअसल हमारे देश में अभी भी इलेक्ट्रिक कार से रिलेटेड इंफ्रास्ट्रक्चर की कमी है।

प्रीमियम बाइक्स पर फोकस करेगी Suzuki, बंद कर सकता है सस्ती बाइक्स

महंगी होगी इलेक्ट्रिक वैगन आर ( wagon r) -

वैगन आर वैसे तो भारत की किफायती कारों में गिनी जाती है लेकिन इलेक्ट्रिक अवतार में आने पर इस कार की गिनती सस्ती कारों में नहीं होगी। भार्गव का कहना है,कि 'अगर हम किसी भी छोटी कार का इलेक्ट्रिक वर्जन लाते हैं, तो उसकी कीमत छोटी कार खरीदने वालों की पहुंच से बाहर हो जाएगी।’

Maruti ने लॉन्च किया brezza का स्पोर्ट्स एडिशन, 25 के माइलेज का दावा

हालांकि, सरकार ने Fame (फास्टर एडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स) इंडिया इनिशिएटिव लॉन्च किया है लेकिन इसके दूसरे फेज में प्राइवेट कस्टमर्स को इलेक्ट्रिक गाड़ियों की खरीद पर इंसेंटिव देने की बात नहीं की है।

मारुति सुजुकी के मैनेजिंग डायरेक्टर केनिची आयुकावा के मुताबिक जहां नई वैगनआर के पेट्रोल वर्जन का दाम 4.20 से 5.70 लाख रुपये (एक्स-शोरूम दिल्ली) तक है। मौजूदा नियमों के हिसाब से छोटी कार के इलेक्ट्रिक वर्जन का दाम 12 लाख रुपये तक हो सकता है। वहीं, यानि वैगन आर कोई सस्ती कार नहीं रहेगी।

खेलो पत्रिका flash bag NaMo9 contest और जीतें आकर्षक इनाम

चार्जिंग स्टेशन की कमी है सबसे बड़ी समस्या-

भले ही लोग पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से परेशान हों लेकिन हमारे देश में अभी तक इलेक्ट्रिक कारों के लिए जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर मौजूद नहीं है। इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने के लिए चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर का होना काफी महत्वपूर्ण है।इसीलिए बार बार सवाल उठता है कि इलेक्ट्रिक कारें लेने के बावजूद उन्हें चार्ज कहां से किया जाएगा।

Show More
Pragati Bajpai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned