scriptIrfan Pathan came forward to help Bhaskaran who fixes Tendulkar's pad | Tendulkar का पैड ठीक करने वाले भास्करन मोची की मदद को आगे आए Irfan Pathan, Dhoni के हैं दोस्त | Patrika News

Tendulkar का पैड ठीक करने वाले भास्करन मोची की मदद को आगे आए Irfan Pathan, Dhoni के हैं दोस्त

Coronavirus के कारण लॉकडाउन में R Bhaskaran की हालत खराब है। Irfan Pathan को जैसे ही इस बारे में पता चला, उन्होंने मदद के लिए हाथ बढ़ाया।

नई दिल्ली

Updated: June 15, 2020 08:21:42 pm

नई दिल्ली : टीम इंडिया (Team India) के पूर्व हरफनमौला इरफान पठान (Irfan Pathan) ने एक बार फिर ऐसा काम किया है, जो आपका दिल जीत लेगा। वह इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) की फ्रेंचाइजी टीम चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) के आधिकारिक मोची भास्करन (R Bhaskaran) की मदद के लिए आगे आए हैं। कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण देश में लगे लॉकडाउन में भास्करण मोची के पास काम करने के लिए कुछ नहीं था। उनकी आर्थिक स्थिति खराब हो गई थी। जब इसका पता इरफान पठान को चला तो उन्होंने आर भास्करन को 25 हजार रुपए की आर्थिक मदद की।

irfan pathan helped Bhaskaran cobbler
irfan pathan helped Bhaskaran cobbler

बहुत बड़े क्रिकेट प्रशंसक हैं भास्करन

इरफान पठान को एक मैगजीन की रिपोर्ट से पता चला कि 12 साल से चेन्नई सुपर किंग्स के आधिकारिक मोची आर भास्करन की आर्थिक स्थिति लॉकडाउन में खराब हो गई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, भास्करन 1993 के बाद से चेन्नई में जितने भी अंतरराष्ट्रीय मैच हुए हैं, करीब-करीब सभी के गवाह रहे हैं। वह चिदंबरम स्टेडियम के बाहर वल्लाजाह रोड पर फुटपाथ पर बैठकर अपना काम करते हैं। मैच के दिनों में वह खिलाड़ियों और मैच अधिकारियों के एरिया के बाहर एक छोटे से कमरे में बैठते हैं। कोरोना वायरस के कारण इस साल आईपीएल अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो चुका है। इसके अलावा लॉकडाउन में भास्करन फुटपाथ पर भी अपना काम नहीं कर पा रहे हैं। इस कारण उन्हें परिवार चलाने में मुश्किल आ रही है।

5 छक्कों ने Yuvraj Singh को किया 15 दिन तक परेशान, नींद उड़ गई थी, 13 साल बाद किया खुलासा

इरफान ने मदद के तौर पर दिए 25 हजार रुपए

इस बारे में जब इरफान पठान को पता चला तो उन्होंने तत्काल 25 हजार रुपए की मदद की। बता दें कि इरफान पठान लॉकडाउन के दौरान कई जरूरतमंदों की मदद कर चुके हैं। इसके अलावा उन्होंने कई हजार मास्क भी बांटे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक मैच के दिनों में तमिलनाडु क्रिकेट असोसिएशन (TNCA) भास्करन को प्रति दिन 1,000 रुपए देता है। इसके अलावा खिलाड़ी और अधिकारी उन्हें अलग से पैसे देते हैं। भास्करन ने बताया था कि जब मैच नहीं होता है तो वह फुटपाथ पर काम करते हैं और दिनभर में 300-400 रुपए कमा लेते हैं।

ठीक कर चुके हैं सचिन का पैड, धोनी को बताया दोस्त

भास्करन ने बताया कि वह एक बार सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का पैड ठीक कर चुके हैं। उनके मुताबिक सचिन का पैड काफी अलग था। आजकल के सिंथेटिक पैड की तरह तो हरगिज नहीं थे। जब उन्होंने सचिन के पैड ठीक किए तो उन्होंने उनके पूरे परिवार को आईपीएल टिकट दिलावाए थे। इसके बाद मुलाकात भी की थी। भास्करन यह भी कहा कि वह 2005 से महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) को देख रहे हैं। उस साल वह पही बार चेपॉक आए थे। बाद में धोनी ने उनके साथ चाय भी पी। धोनी उनसे कहते थे कि वह उनसे तमिल में बात करें। खुद भी तमिल में बात करने की कोशिश करते हैं। भास्करन ने बताया कि धोनी उन्हें 'माछी' बुलाते हैं। तमिल में इसका अर्थ भाई होता है। भास्करन के अनुसार, वह और धोनी दोस्त की तरह बात करते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारीउदयपुर कन्हैयालाल हत्याकांडः कानपुर से आतंकी कनेक्शन, एनआईए की टीम जल्द जा कर करेगी छानबीनAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शरद पवार ने किया बड़ा दावा- फडणवीस डिप्टी सीएम बनकर नहीं थे खुश, लेकिन RSS से होने के नाते आदेश मानाUdaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.