पंत की शानदार पारी का अंत, शतक से चूके, पुजारा की मैराथन पारी समाप्त, संकट में टीम इंडिया

  • 97 रन के निजी स्कोर पर ल्योन की गेंद पर कमिंस को दे बैठे कैच
  • पुजारा 77 रन बनाकर पैवेलियन लौट, अश्विन क्रीज पर आए
  • रविंद्र जड़ेजा अंगूठे में फ्रैक्चर की वजह से नहीं कर पाएंगे बैटिंग

By: Saurabh Sharma

Updated: 11 Jan 2021, 09:24 AM IST

नई दिल्ली। भारतीय टीम को सिडनी टेस्ट मैच के पांचवे दिन फिर से वापसी कराने वाले रिषभ पंत की शानदार पारी का अंत हो गया, लेकिन वो अपने शतक से चूक गए। वो 97 रन के निजी स्कोर पर ल्योन का शिकार बने, उन्हें कमिंस ने लपका। वहीं दूसरी ओर चेतेश्वर पुजारा भी 77 रन के निजी स्कोर पर हेजलवुड का शिकार बन गए। अब टीम इंडिया थोड़ा सकंट में है। रविंद्र जडेजा फ्रैक्चर के कारण बैटिंग नहीं कर पाएंगे। मौजूदा समय में हनुमा का साथ देने अश्विन क्रीज पर आए हैं। इससे पहले पांचवें दिन की शुरूआत भारत के लिए अच्छी नहीं रही और कप्तान जल्द अपना विकेट खो बैठे।

यह भी पढ़ेंः- आखिरी टेस्ट मैच से खतरे के बादल टले, ब्रिस्बेन जाएगी भारतीय टीम

पंत की शानदार पारी
सभी आलोचनाओं से परे रिषभ पंत ने अपने आलोचकों को बता दिया कि उन्हें टीम के क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट में क्यों खिलाया जाता है। वो भले ही अपने शतक से महज 3 रन से चूक गए हों, लेकिन टीम को ऐसी स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया है कि वो टीम इंडिया टिककर खेले तो सिडनी टेस्ट मैच आराम से जीत सकती है। रिषभ पंत ने 82 से ज्यादा की स्ट्राइक रेट से 118 गेंदों में 3 सिक्सर और 12 चौकों की मदद से 97 रन की पारी खेली।

यह भी पढ़ेंः- सिडनी टेस्ट: ऑस्ट्रेलिया ने भारत को दिया 406 रन का विशाल लक्ष्य, बल्लेबाजों पर दारोमदार

चौथे विकेट के लिए सबसे बड़ी साझेदारी
चेतेश्वर पुजारा और ऋषभ पंत ने भारत के लिए चौथी पारी में चौथे विकेट के लिए अब तक की सबसे बड़ी साझेदारी को अंजाम दिया। पंत और पुजारा ने सिडनी टेस्ट के पांचवें दिन सोमवार को चौथे विकेट के लिए विषम परिस्थितियों में 148 रनों की साझेदारी की। पुजारा और पंत से पहले भारत के लिए चौथी पारी में चौथे विकेट के लिए सबसे बड़ी साझेदारी का रिकार्ड रूसी मोदी और विजय हजारे के नाम था। इन दोनों ने 1948-69 में मुम्बई में विंडीज के खिलाफ 139 रन जोड़े थे। इसके अलावा 1979-78 सीजन में दिलीप वेंगसरकर और यशपाल शर्मा ने दिल्ली में पाकिस्तान के खिलाफ 122 रनों की साझेदारी की थी।

यह भी पढ़ेंः- सिडनी टेस्ट: स्टीव स्मिथ ने लगाई रिकॉर्ड की झड़ी, सचिन, विराट, कैलिस, इंजामाम जैसे दिग्गजों को छोड़ा पीछे

पुजारा की मैराथन पारी
वहीं चेतेश्वर पुजारा एक छोर मैराथन पारी खेली। उन्होंने अपनी पारी में 205 गेंदों का सामना किया 77 रन बनाए। वो हेजलवुड का शिकार बने। मौजूदा समय में विहारी साथ देने के लिए अश्विन आए हैं। इसका कारण है जड़ेजा का चोटिल हो जाना। अंगूठे में फ्रैक्चर आने के कारण वो बैटिंग नहीं कर पाएंगे। जिसके बाद अश्विन ही ऐसे खिलाड़ी हैं जो बैटिंग कर सकते हैं, लेकिन कुछ समय से उनका बल्ला भी पूरी तरह से शांत है।

Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned