पिता के लिए केक लेने निकले बेटे की चार युवकों ने चाकुओं से गोदकर की हत्या, वजह जानकर रह जाएंगे दंग

पिता के जन्मदिन पर सप्राइजे गिफ्ट देने के लिए केक खरीदने निकला बेटा, चार युवकों ने चाकुओं से गोदकर की हत्या, हैरान करने वाली है हत्या की वजह

By: धीरज शर्मा

Published: 03 Jun 2021, 01:13 PM IST

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के बीच लोग छोटी-छोटी चीजों खुशियों के पल तलाश रहे हैं। ऐसा ही एक पल दिल्ली ( Delhi ) में रहने वाले एक परिवार के घर भी था। पिता के जन्मदिन पर बेटा सरप्राइज गिफ्ट देने के लिए केक खरीदने बाजार गया था, लेकिन घर वालों को क्या पता था कि उनके लाडले का ये आखिरी सफर था।

चार बदमाशों ने 19 साल के इस युवा की चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी। पुलिस के मुताबिक, घटना में शामिल आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। लेकिन इस हत्या के पीछे की वजह चौंकाने वाली है।

यह भी पढ़ेंः Jammu Kashmir: पुलावामा में आतंकियों ने बीजेपी नेता की गोली मार कर की हत्या, दोस्त की बेटी भी बुरी तरह जख्मी

ये है पूरा मामला
दक्षिण दिल्ली के मदनगीर इलाके में पिता के जन्मदिन पर एक बेटा सरप्राइज गिफ्ट देने के लिए केक लेने घर से निकला, लेकिन रास्ते में चार लड़कों ने बहुत बेरहमी से युवक की चाकू से वार कर हत्या कर दी।
मृतक की पहचान कुणाल सांवरिया के रूप में हुई है। आरोपियों ने बीच सड़क पर कुणाल पर चाकू से दर्जन भर से अधिक वार किए।

299.jpg

सीसीटीवी में कैद हुई वारदात
इस बीच भीड़ तमाशबीन रही। किसी ने उसे बचाने की कोशिश नहीं की। नजदीक लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई। अंबेडकर नगर थाना पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर दो युवकों को हिरासत में ले लिया है।

एक लड़की से प्रेम को लेकर विवाद
पुलिस के मुताबिक, शुरुआत पूछताछ में यह पता चला है कि कथित रूप से आरोपी गौरव और पीड़ित कुणाल दोनों एक ही लड़की को पसंद करते थे। इसी वजह से दोनों के बीच दुश्मनी थी। प्रेम के चक्कर में इन आरोपियों ने कुणाल को मौत के घाट उतार दिया।

यह भी पढ़ेंः NASA शुक्र पर 30 साल बाद भेजेगा अपने दो अंतरिक्ष यान, इन रहस्यों से उठेगा पर्दा

ऑनलाइन वेबसाइट से खरीदे चाकू
पुलिस के मुताबिक आरोपियों ऑनलाइन वेबसाइट 'फ्लिपकार्ट' के जरिए दो चाकू ऑनलाइन ऑर्डर किए गए थे। पुलिस ने चारों आरोपियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है।

अहम बात यह है कि जिस वक्त ये वारदात हो रही थी उस दौरान आस-पास खड़े लोग सिर्फ मूक दर्शक बने रहे। वे चाहते तो शायद कुणाल की जान बचाई जा सकती थी, इन बदमाशों को रोकने या टोकने के लिए कोई भी आगे नहीं आया।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned