बिहार में महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज

बिहार में  महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज

Dhiraj Kumar Sharma | Updated: 07 Aug 2019, 11:14:45 PM (IST) क्राइम

  • Mehbooba Mufti और Omar Abdullah की बढ़ी मुश्किल
  • Bihar में Treason Case हुआ दर्ज
  • Article 370 खत्म करने के खिलाफ दिया था बयान

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर ( jammu kashmir ) को विशेष राज्य का दर्जा देने वाला आर्टिकल 370 ( Article 370 ) और आर्टिकल 35ए ( Artical 35A ) हटा दिया गया है। लेकिन इसके हटाए जाने के खिलाफ बयान देना दो पूर्व मुख्यमंत्रियों पर भारी पड़ गया है। पीडपी नेता महबूबा मुफ्ती ( pdp leader mehbooba mufti ) और नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ( Omar Abdullah ) के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया है।

बिहार में देशद्रोह दोनों नेताओं के खिलाफ मुकदमे दर्ज किए गए हैं।

ये मुकदमे मुजफ्फरपुर और बेतिया के कोर्ट में दर्ज किए गए हैं।

मुजफ्फरपुर में दर्ज मुकदमे में बिहार के मंत्री श्‍याम रजक को भी आरोपी बनाया गया है।

पाक को आतंकवाद की फैक्ट्री से संयुक्त राष्ट्र को सुधार की सलाह तक सुषमा स्वराज के पांच दमदार भाषण

Omar

यह है पूरा मामला
केंद्र की मोदी सरकार ने सोमवार को जम्‍मू-कश्‍मीर में लागू संविधान के अनुच्‍छेद 370 के प्रावधानों में बदलाव का फैसला लिया।

खास बात यह है कि इस प्रस्ताव को राष्‍ट्रपति के पास भेजा गया और उन्होंने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। इसके बाद सरकार ने आर्टिकिल 370 और 35ए को हटा दिया।

साथ ही जम्‍मू-कश्‍मीर को दिल्‍ली की तर्ज पर एक केंद्र शासित प्रदेश बनाते हुए लद्दाख को उससे अलग कर दिया।

केंद्र सरकार के इस फैसले के खिलाफ जमकर विरोध शुरू हो गया। नेताओं की ओर से बयानबाजी भी शुरू हो गई।

इन्हीं बयानबाजी में पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला ने भी बड़ा बयान दे डाला।

 

mehbooba

17 अगस्त को होगी सुनवाई
बिहार के मुजफ्फरपुर के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती समेत अन्य के खिलाफ परिवाद दायर किया गया है।

ये परिवाद अधिवक्ता सुधीर कुमार ओझा ने दायर किया है। इस मामले पर 17 अगस्त को कोर्ट की ओर से सुनवाई की जाएगी।

इन पर दायर की गई परिवाद
ओझा ने पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती के साथ पीडीपी सांसद नजीर अहमद लवाय, सांसद मोहम्मद फैयाज, नेशनल कांग्रेस के उपाध्यक्ष व जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, पूर्व अटर्नी जेनरल सोली सोराबजी व बिहार के उद्योग मंत्री श्याम रजक को आरोपित किया है।

साथ ही उनके बयान को असंवैधानिक और देशद्रोह का मामला बताया है।

 

case

बेतिया में भी मुकदमा
मुजफ्फरनगर के साथ बेतिया में भी महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला के खिलाफ परिवाद दायर किया गया है।

दोनों पर राष्ट्रीय एकता, अखंडता व लोक शांति भंग करने के आरोप हैं।

परिवादी नगर थाने के बसवरिया निवासी अधिवक्ता मुराद अली ने कई राजनेताओं को भी लपेटा है।

इसके लिए प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में प्रकाशित-प्रसारित खबरों को साक्ष्य बनाया गया है।

ये दिए कारण
महबूबा और उमर के खिलाफ दायर परिवाद में कहा गया है कि अनुच्छेद 370 का विरोध भारत में विधि की ओर से स्थापित सरकार के प्रति घृणा और अवमानना पैदा करने वाला है।

यह विरोध धर्म, मूलवंश, जन्म स्थान, निवास स्थान, भाषा आदि के आधार पर भारतीयों और जम्मू कश्मीर वासियों के बीच शत्रुता बढ़ाने वाला है।

यहां अगली सुनवाई 24 सितंबर को होगी।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned