script देवरिया में एक बार फिर पुलिस की लापरवाही : बेटी सिपाही, बेटा रेलवे में, फिर भी जमीन की हवस में गई जान | deoria news, farmer murder in the cause of land dispute | Patrika News

देवरिया में एक बार फिर पुलिस की लापरवाही : बेटी सिपाही, बेटा रेलवे में, फिर भी जमीन की हवस में गई जान

locationदेवरियाPublished: Nov 27, 2023 10:36:44 am

Submitted by:

anoop shukla

खेत में सिंचाई करने गए चंद्रशेखर उर्फ गब्बू यादव की हत्या की गई है। चंद्रशेखर की हत्या की वजह रजिस्ट्री कराई गई अधिक जमीन का विवाद बता रहे हैं। तहसील कोर्ट से वाद खारिज होने के बाद सिविल कोर्ट में मुकदमा चल रहा है।

देवरिया में एक बार फिर पुलिस की लापरवाही :  बेटी सिपाही, बेटा रेलवे में, फिर भी जमीन की हवस में गई जान
देवरिया में एक बार फिर पुलिस की लापरवाही : बेटी सिपाही, बेटा रेलवे में, फिर भी जमीन की हवस में गई जान
देवरिया। जिले में शनिवार की देर रात एक किसान की हत्या कर दी गई। इस हत्या के पीछे का कारण भूमि विवाद बताया जा रहा है। वारदात की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। मामले में आगे की कार्रवाई की जा रही है। मृतक की एक बेटी यूपी पुलिस ने सिपाही तो बेटा रेलवे में कार्यरत है।
रजिस्ट्री कराई गई अधिक जमीन बनी हत्या की वजह

पूरा मामला जिले के मदनपुर थाना क्षेत्र के पिड़री गांव का है। यहां खेत में सिंचाई करने गए चंद्रशेखर उर्फ गब्बू यादव की हत्या की गई है। चंद्रशेखर की हत्या की वजह रजिस्ट्री कराई गई अधिक जमीन का विवाद बता रहे हैं। तहसील कोर्ट से वाद खारिज होने के बाद सिविल कोर्ट में मुकदमा चल रहा है।
12 कट्ठे जमीन का विवाद

किसान चंद्रशेखर यादव उर्फ गब्बू वर्ष 2022 के जून महीने में गांव के जोगिया टोला निवासी रामदेव कुशवाहा से 12 कट्ठा जमीन बैनामा लिए। बैनामा के बाद इसकी जानकारी रामदेव के परिजनों को हुई तो उन्होंने रामदेव को मानसिक रूप से बीमार बताते हुए आपत्ति जताई। तहसीलदार कोर्ट से वाद खारिज होने के बाद सिविल कोर्ट में मुकदमा लंबित है। इसके बावजूद चंद्रशेखर का नाम खतौनी में दर्ज हो गया। खतौनी के आधार पर चंद्रशेखर क्रय की गई भूमि पर काबिज हो गए।
थाने पर पहुंची शिकायत, पुलिस करती रही हीलाहवाली

कई बार मदनपुर पुलिस तक मामला पहुंचा, लेकिन पुलिस लंबित मुकदमे को दरकिनार कर खतौनी को आधार मानते हुए चंद्रशेखर को सही बताती थी। इसलिए चंद्रशेखर बैनामा लिए गए जमीन में खेती किसानी करते थे। शनिवार की रात उसी खेत की सिंचाई करने चंद्रशेखर की संदिग्ध परिस्थितियों में हत्या हो गई।
आरोपी पक्ष का आरोप , अधिक जमीन की कराए रजिस्ट्री

पुलिस सूत्रों की माने तो किसान के हत्या आरोपी रामदेव के परिजनों का कहना है कि चंद्रशेखर यादव ने धोखा देकर अधिक जमीन बैनामा करा लिया है। जिसका वे कानूनी तरीके से विरोध कर रहे थे। इसे लेकर दोनों पक्षों के बीच पंचायत भी हो चुकी थी। स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि अगर पुलिस ने घटना को गंभीरता से लिया होता तो जमीन के विवाद में चंद्रशेखर की हत्या नहीं हुई होती। किसान की हत्या के बाद गांव के पिड़री टोला और जोगिया टोले के बीच तनाव बढ़ गया है।चंद्रशेखर यादव के दो बेटे और तीन बेटियां हैं। बड़ी बेटी की शादी हो चुकी है। दूसरे नंबर की बेटी मीना यूपीपी में सिपाही है। जबकि बड़ा बेटा रामप्रवेश यादव रेलवे में नौकरी करता है। घर पर छोटी बेटा प्रियंका और बेटा रामनिवास रहते हैं। घटना के बाद परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। मृतक की पत्नी शारदा और छोटा बेटा दहाड़े मार रहे थे।

ट्रेंडिंग वीडियो