Brihaspati Dev ki puja vidhi: गुरुवार को अवश्य करें ये काम, चमक जाएगा आपका भाग्य!

: जानें किन लोगों को अवश्य करना चाहिए गुरुवार का व्रत
: ये हैं बृहस्पतिदेव के प्रमुख चमत्कारी मंत्र

By: दीपेश तिवारी

Published: 08 Jul 2021, 12:35 AM IST

सनातन संस्कृति में जैसे हर देव की पूजा की एक खास तिथि होती है उसी प्रकार सप्ताह का हर दिन किसी न किसी देव को समर्पित माना जाता है। मान्यता है कि सप्ताह के दिनों के देवता के अनुसार पूजा करना सबसे विशेष रहता है, क्योंकि इस दिन के कारक देवता अपने निश्चित दिन पर आसानी से प्रसन्न हो जाते हैं।

वहीं वैदिक ज्योतिष में भी सप्ताह का हर दिन का एक निश्चित ग्रह के आधार पर माना गया है, और उस ग्रह के देव ही उस दिन के कारक देव माने जाते हैं। यूं तो आपने हर दिन के संबंध में कि किस दिन क्या नहीं करना चाहिए के बारे में सुन ही रखा होगा।

लेकिन आज हम आपको देवों के गुरु यानि देवगुरु बृहस्पति के सप्ताह के दिन यानि बृहस्पतिवार को क्या करना चाहिए इस संबंध में जो मान्यताएं हैं उनके बारे में बता रहे हैं।

Must Read- Thursday Special: गुरुवार के दिन की जाती है भगवान विष्णु और माता सरस्वती की पूजा, जानें कौन करे किसकी पूजा?

thursday special

देवताओं के गुरु हैं बृहस्पति...
बृहस्पति को देवताओं का गुरु माना जाता है, इसीलिए इस दिन को गुरुवार भी कहा जाता है। ज्योतिष के अनुसार बृहस्पति यानि गुरु धनु और मीन राशि के स्वामी हैं। वहीं इन्हें नवग्रहों में सर्वश्रेष्ठ माना गया है। वहीं कर्क राशि में यह उच्च के और मकर राशि में नीच के माने गए हैं।

जाग जाता है सोया भाग्य :
ज्योतिष के जानकार पंडित एसके शुक्ला का कहना है कि मान्यता के अनुसार गुरुवार के दिन पूजा करने से व्यक्ति का सोया भाग्य तक जाग जाता है। ज्योतिष के जानकारों के अनुसार जिस जातक की कुंडली में बृहस्पति कमजोर अवस्था में हों या फिर शुक्र, बुध या राहु के साथ हों या किसी भी स्थिति में नीच अवस्था के हों तो ऐसे जातक को गुरुवार का व्रत अवश्‍य करना चाहिए, माना जाता है कि ऐसा करने से ऐसे जातकों का भाग्य तुरंत जागृत हो जाता है।

Must Read- Indian astrology: अंगुलियों के 20 पोरों से जाने अपना भविष्य, ये हैं सबसे ताकतवर निशान

indian vedic astrology

इसके अलावा माना जाता है कि बृहस्पतिवार को व्रत करने से विवाह में कोई समस्या न आने के अतिरिक्त वैवाहिक जीवन का सुख भी मिलता है। ध्यान रहे गुरु जातक को लंबी आयु भी प्रदान करते हैं। इसके साथ ही कमजोर मानसिकता वाले व्यक्तियों को बृहस्पतिवार का उपवास अवश्य करना चाहिए।

बृहस्पतिवार यानि गुरुवार को अवश्य करें ये कार्य :

: गुरुवार को पापों का प्रायश्‍चित करने से पाप का नाश होता हैं, क्योंकि यह देवी-देवताओं के गुरु बृहस्पति का दिन होता है।

: सफेद चंदन, हल्दी या गोरोचन का तिलक लगाएं।

: इस दिन घर में धूप दीप हर ओर दिखाना चाहिए, खासकर गुग्गुल की धूप दिखाना चाहिए।

: इस दिन उत्तर, पूर्व, ईशान दिशा में यात्रा करना शुभ माना जाता है।

: यदि आपका गुरु अशुभ या कमजोर है तो आप पीपल में जल चढ़ाएं। गुरुवार के दिन पीली वस्तु का सेवन करें।

: धार्मिक, मांगलिक, प्रशासनिक, शिक्षण और पुत्र के रचनात्मक कार्यों के लिए यह दिन शुभ माना गया है।

Must Read- Guru Purnima Date 2021: गुरु पूर्णिमा का पर्व कब है? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

Guru Purnima parva 2021 puja vidhi or shubh mahauat

: सोने और तांबे की खरीदारी व बिक्री इस दिन कर सकते हैं।

: हर तरह की बुरी लत को छोड़ने के लिए अति उत्तम दिन, क्योंकि इस दिन संकल्प की अधिकता रहती है।

इसके अतिरिक्त माना जाता है कि गुरुवार को घर में धूप दिखाने से गृह कलह, तनाव और अनिद्रा जैसी समस्या तो समाप्त होती ही है, साथ ही लाभ तो मिलता ही है। वहीं इसके चलते दिल और दिमाग के दर्द में भी राहत मिलती है। यह तक माना जाता है कि इस दिन धूप दिखाने से पारलौकिक मदद तक मिलती है।

देवगुरु बृहस्पति को ऐसे करें प्रसन्न

1. ब्राह्मणों का सम्मान करके उनका आशीर्वाद प्राप्त करें।

2. इस दिन चने की दाल और केसर का मंदिर में दान करें, साथ ही केसर का तिलक मस्तक पर लगाएं।

3. ज्ञानवर्द्धक पुस्तकों का योग्य व्यक्तियों को दान करें।

4. कुल पुरोहित का सम्मान करके आशीर्वाद प्राप्त करें और यथा शक्ति उन्हें स्वर्ण का दान करें।

Must Read- July 2021 Rashi Parivartan List - जुलाई 2021 में कौन-कौन से ग्रह करेंगे परिवर्तन? जानें इनका असर

rashi privartan in july 2021

गुरुवार का ये उपाय, दिलाएगा हर समस्या से छुटकारा...

वहीं देवगुरु बृहस्पति को प्रसन्न करने के लिए गुरुवार के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर अपने नहाने वाले पानी में एक चुटकी हल्दी डालकर स्नान करें, इसके बाद "ऊं नमो भगवते वासुदेवाय" का जप करते हुए केसर का तिलक लगाएं और केले के वृक्ष में जल अर्पित करते हुए उसकी धूप- दीप से पूजा करें।

वहीं स्नान के बाद भगवान विष्णु के सामने घी का दीपक जलाएं। इसके बाद विष्णु सहस्रनाम का पाठ भी करें। इसके साथ ही यह भी मान्यता है कि यदि आपकी कुंडली में गुरु का दोष है, तो हर गुरुवार को शिवजी को बेसन के लड्डू का भोग लगाएं। इससे आपको काफी लाभ होगा।

: यदि आपने गुरुवार को व्रत रखा है तो इस दिन केले के वृक्ष की पूजा करके सत्यनारायण की कथा अवश्य सुनें।

: इस दिन गुरु से जुड़ी पीली वस्तुओं का दान करें, जैसे कि चने की दाल, सोना, हल्दी, आम आदि।

Must Read- Friday Puja Path: इन त्रिदेवियों की पूजा से चमकता है भाग्य!

friday special

इस दिन ब्रहस्पतिदेव की मूर्ति या तस्वीर को पीलें रंग के कपड़े पर विराजित करें। साथ ही विधि-विधान से उनकी पूजा करें। पूजा में केसरिया चंदन, पीले फूल और प्रसाद में गुड और चनें की दाल अवश्य चढ़ाएं या इस रंग का कोई पकवान चढ़ाएं।

देवगुरु बृहस्पति के अति चमत्कारी मंत्र..
जानकारों के अनुसार देवगुरु बृहस्पति के कुछ ऐसे मंत्र भी हैं, जो ना सिर्फ धन और वैभव को लेकर अत्यंत चमत्कारी हैं, बल्कि तुरंत असर करने वाले भी हैं। ऐसे में इन्हें केवल एक साथ निरंतर जपने की जरूरत होती है।
जानकारों के अनुसार इन चमत्कारी पांचों मंत्रों का 19 हजार बार जाप करना होता है। ऐसे में किसी भी एक गुरु मंत्र का गुरुवार के दिन जाप कर सकते हैं ...

- ॐ बृं बृहस्पतये नमः ।।

- ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:।

- ॐ ऐं श्रीं बृहस्पतये नम:।

- ॐ गुं गुरवे नम:।

- ॐ क्लीं बृहस्पतये नम:।

Must Read- July 2021 Festival List - जुलाई 2021 में कौन-कौन से हैं तीज त्यौहार? जानें दिन व शुभ समय

July festivals 2021

गुरुवार के दिन ये कार्य ना करें :

: इस दिन शेविंग न बनाएं और शरीर का कोई भी बाल न काटें अन्यथा माना जाता है कि ऐसा करने से संतान सुख में बाधा उत्पन्न होगी।

: इस दिन दक्षिण, पूर्व, नैऋत्य में यात्रा करना वर्जित है।

: गुरुवार को नमक नहीं खाना चाहिए। इससे स्वास्थ्य पर असर पड़ता है और हर कार्य में बाधा आती है।

: इस दिन दूध और केला खाने के अलावा कपड़े धोना और पौछा लगाना भी वर्जित माना जाता है।

: बृहस्पतिवार के दिन शरीर पर साबुन लगाना, बाल धोना आदि अशुभ माना जाता है। इसके पीछे कई ज्योतिषिय कारण भी बताए जाते हैं।

Must Read- ये है भगवान का इशारा!आने वाले अच्छे समय के खास संकेतों को ऐसे पहचानें

god signals
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned