scriptSpecial Days of December 2021 to Please lord shiv | Lord shiva : साल के अंतिम माह में लगातार तीन दिन रहेंगे भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए विशेष, जानें कब क्या करें। | Patrika News

Lord shiva : साल के अंतिम माह में लगातार तीन दिन रहेंगे भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए विशेष, जानें कब क्या करें।

महादेव को प्रसन्न करने के लिए दिसंबर में अति विशेष दिन

भोपाल

Updated: November 29, 2021 12:24:49 pm

सनातन हिंदू धर्म के आदि पंच देवों व त्रिदेवों में से एक भगवान शंकर को यूं भी अत्यंत भोला व जल्द प्रसन्न होने वाला माना जाता है। ऐसे में आने वाले दिसंबर के शुरुआती दिन भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए अत्यंत विशेष योग बना रहे हैं।

lord shiv Special days in december 2021
how to get blessings of lord shiv in december 2021

ऐसे में इस आने वाले महीने में लगातार 3 दिनों तक भगवान शिव की विशेष पूजा अर्चना के साथ ही उन्हें आसानी से प्रसन्न किया जा सकता है।

पंडित एके शुक्ला के अनुसार दिसंबर 2021 के शुरुआती दिनों में 1 से लेकर 3 तारीख तक का समय भगवान शिव की अराधना के लिए अति विशेष है। दरअसल इस दौरान जहां एक ओर प्रदोष पड़ रहा है, वहीं इसी समय मासिक शिवरात्रि भी आ रही है।

shiv istuti

ऐसे में जहां प्रदोष की त्रयोदशी तिथि 1 दिसंबर से 2 दिसंबर तक रहेगी वहीं मासिक शिवरात्रि की चतुर्दशी तिथि 02 दिसंबर 2021 से शुरु होकर 03 दिसंबर 2021 तक रहेगी।

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार भगवान शिव (Lord Shiva) को प्रदोष व्रत और मासिक शिवरात्रि की तिथि अत्यंत प्रिय हैं। वहीं मान्यता के अनुसार कि जो भक्त भगवान शिव के ये व्रत रखते हैं भोलेशंकर उनसे शीघ्र प्रसन्न होकर उन भक्तों की सभी मनोकामनाएं (wishes) पूर्ण करने के साथ ही उन्हें संकटों से भी मुक्ति दिलाते हैं।

पंडितों व जानकारों के अनुसार हर माह कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि पर प्रदोष व्रत रखा जाता है। जबकि हर माह की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि का व्रत (Masik Shivratri Vrat) रखा जाता है।

ऐसे में वर्तमान में चल रहे मार्गशीर्ष माह (Margashirsh Month) में इस बार प्रदोष व्रत और मासिक शिवरात्रि एक ही दिन पड़ रही है। इस बार 2 दिसबंर के दिन भगवान शिव के भक्त प्रदोष व्रत के साथ ही मासिक शिवरात्रि का व्रत भी रखेंगे।

Must Read- भगवान शंकर ने धरती के केंद्र कैलाश को क्यों बनाया अपना निवास स्थान

Lord shiv Shiva's Footprints are here

भगवान शिव का अत्यंत विशेष दिन होने के कारण इस दिन भक्त पूरे विधि-विधान के साथ भगवान शिव के साथ ही माता पार्वती (Mother Parvati) की पूजा-अर्चना करते हुए उन्हें प्रसन्न करेंगे।

प्रदोष व्रत तिथि दिसंबर 2021 (Pradosh Vrat Tithi 2021)
त्रयोदशी तिथि आरंभ - बुधवार,01 दिसंबर 2021 : 11:35 PM से
त्रयोदशी तिथि समाप्त – बृहस्पतिवार, 2 दिसंबर 2021 को 08:26 PM तक।
वहीं गुरुवार को पड़ने के कारण ये गुरु प्रदोष माना जाएगा। वहीं साल 2021 का आखिरी व दिसंबर का दूसरा प्रदोष व्रत शुक्रवार, 31 दिसंबर को पड़ेगा।

प्रदोष व्रत का पूजा मुहूर्त (Pradosh Vrat Puja Muhurat 2021)
मान्यता के अनुसार प्रदोष व्रत की पूजा प्रदोष काल में ही की जानी चाहिए है। ऐसे में बृहस्पतिवार, 02 दिसंबर को पड़ रहे प्रदोष व्रत की पूजा के शुभ समय के संबंध में पंडित शुक्ला का कहना है कि ये विशेष समय शाम 07 बजकर 19 मिनट से लेकर 09 बजकर 17 मिनट तक रहेगा।

पूजा विधि : प्रदोष व्रत के दिन क्या करें?
1. इस दिन सुबह ब्रह्ममुहूर्त में उठकर स्नान करने के पश्चात स्वच्छ कपड़ें पहनने चाहिए।
2. इसके पश्चात घर के मंदिर में दीप जलाने के साथ ही यदि संभव हो तो भगवान शिव के सामने व्रत का संकल्प लेते हुए, इस दिन उपवास करना चाहिए।
3. इस दिन भगवान शंकर का गंगा जल से अभिषेक करने के साथ ही उन्हें पुष्प भी अर्पित करें।

Must Read- भगवान शिव के 19 अवतारों का रहस्य

How lord Shiva's chief Gan Nandi born

4. इस दिन माता पार्वती-भगवान गणेश सहित सम्पूर्ण शिव परिवर की पूजा करनी चाहिए।
5. भगवान शिव की पूजा से पूर्व माता पार्वती की पूजा विशेष मानी जाती है।
5. इस दिन केवल सात्विक चीजों का ही भगवान शिव को भोग लगाएं।
6. शिव आरती के अलावा इस पूरे दिन भगवान का मन ही मन जाप करते रहें।

महत्व: प्रदोष व्रत क्यों है विशेष? (Bhaum Pradosh Vrat Importance)
माना जाता है कि प्रदोष व्रत के दिन विश्वास के साथ श्रद्धापूर्वक और नियमपूर्वक करने से भगवान शिव प्रसन्न होकर भक्तों की समस्त मनोकामनाओं को पूर्ण करते हैं। इसके साथ ही वे भक्तों के सभी कष्टों को भी हर लेते हैं। कहा जाता है कि प्रदोष व्रत के दिन व्रत और पूजा आदि के साथ मंत्र जाप और आरती करने से मनचाहा वर भी मिलता है। इसके अतिरिक्त प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव को गंगाजल और सामान्य जल के साथ दूध चढ़ाना शुभ फलदायी माना जाता है।

मासिक शिवरात्रि तिथि दिसंबर 2021 (Masik Shivratri Tithi 2021)

हिंदू पंचांग के अनुसार, इस बार मार्गशीर्ष मास की चतुर्दशी तिथि 02 दिसंबर 2021 से शुरु होकर 03 दिसंबर 2021 तक रहेगी।

कृष्ण चतुर्दशी तिथि शुरु: बृहस्पतिवार,02 दिसबंर 2021, 08:26 PM
कृष्ण चतुर्दशी तिथि समापन: शुक्रवार, 03 दिसंबर 2021, 04:55 PM

शिवरात्रि का पूजन रात्रि में करने का विधान है, इसलिए इस बार शिवरात्रि का व्रत 02 दिसंबर को किया जाएगा।

Must Read- भगवान शिव का स्वरूप बाकी के देवताओं से बिल्कुल भिन्न क्यों? जानें बेहद खास रहस्य

Lord Shiva
IMAGE CREDIT: Patrika

महत्व: मासिक शिवरात्रि क्यों है विशेष? (Masik Shivratri Importance)
भगवान शिव की शिवरात्रियों में सबसे प्रमुख शिवरात्रि महाशिवरात्रि कहलाती है। माना जाता है कि महाशिवरात्रि के दिन पूजा, व्रत करने से भक्तों के सभी कष्ट दूर होने के साथ ही उनके मन में मौजूद समस्त इच्छाएं भी पूर्ण होती हैं। वहीं हर माह पड़ने वाली शिवरत्रि मासिक शिवरात्रि कहलाती है, जिसके (मासिक शिवरात्रि) संबंध में मान्यता है कि इस दिन पूजा-पाठ करने से घर में सुख-समृद्धि आती है।

मासिक शिवरात्रि भगवान शिव को अत्यंत प्रिय होने के कारण इसका महत्व और अधिक बढ़ जाता है। माना जाता है कि इस दिन रुद्राभिषेक करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। कहते हैं कि इस दिन व्रत करने से वैवाहिक जीवन की समस्याओं का भी निराकरण हो जा सकता है।

पूजन विधि व मंत्र : मासिक शिवरात्रि के दिन क्या करें?
: मासिक शिवरात्रि के दिन ब्रह्ममुहूर्त में उठकर स्नानादि करने के बाद दीप प्रज्वलित करें और व्रत का संकल्प लें।
: यहां ध्यान रहे कि शिवरात्रि की पूजा निशीथ काल (मध्य रात्रि) में करने का विधान है। इसके तहत सबसे पहले स्वच्छ वस्त्र धारण करके पूजा स्थान को साफ कर लें।
इसके पश्चात शिवलिंग का अभिषेक दूध, दही, घी, शहद, गन्ने का रस आदि चीजों से करें।

Must Read- Monday Shiv puja rules : सोमवार के दिन इस आसान विधि से करें भगवान शिव व माता पार्वती की पूजा

Lord Shiva never forgives these sins

इसके बाद फिर शिवलिंग का गंगाजल से अभिषेक करें और शिवलिंग पर श्वेत चंदन लगाएं।
जबकि इस संपूर्ण विधि के दौरान भगवान शिव के मंत्र नमः 'शिवाय ऊं नमः शिवाय' का उच्चारण करते रहें और शिवलिंग के समक्ष दीप प्रज्वलित करें।
फिर शिवलिंग पर बिल्वपत्र, धतूरा, सफेद पुष्प,भांग आदि चीजें अर्पित करें। और फिर वहीं आसन पर बैठकर शिव चालीसा और महामृत्युंजय मंत्र या पंचाक्षरी मंत्र का एक माला जाप करें।

महामृत्युंजय मंत्र-
ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।।
उर्वारुकमिव बन्धनान्मृ त्योर्मुक्षीय मामृतात्।।

शिव मंत्र-
''नमः शिवाय,ॐ नमः शिवाय''

पूजन पूरा होने के बाद आरती करें और त्रुटि के लिए भगवान शिव से क्षमा याचना करें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Corona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरGhana: विनाशकारी विस्फोट में 17 लोगों की मौत, 59 घायलभारत ने जानवरों के लिए विकसित किया पहला कोरोना वैक्सीन,अब शेर और तेंदुए पर ट्रायल की योजना50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup 2022: ICC ने जारी किया शेड्यूल, इस दिन होगी भारत-पाकिस्तान की टक्करआज जारी होगा कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं के लिए होंगे कई वादे'कुछ लोग देशप्रेम व बलिदान नहीं समझ सकते', अमर जवान ज्योति के वॉर मेमोरियल में विलय पर राहुल गांधीVIDEO: राजस्थान का 35 प्रतिशत हिस्सा कोहरे से ढका, अब रहेगा बारिश और ओलावृष्टि का जोर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.