scriptबच्चों को दूध से लेकर. दवा तक पंहुचा रहा है रेल मदद ऐप | From milk to children. Rail Madad App is providing access to medicines | Patrika News
धौलपुर

बच्चों को दूध से लेकर. दवा तक पंहुचा रहा है रेल मदद ऐप

– आगरा रेल मण्डल में मई माह में 730 शिकायतों का किया निस्तारण

– प्रत्येक शिकायत का औसत 40 मिनट में समाधान

धौलपुरJun 27, 2024 / 06:42 pm

Naresh

बच्चों को दूध से लेकर. दवा तक पंहुचा रहा है रेल मदद ऐप From milk to children. Rail Madad App is providing access to medicines
– आगरा रेल मण्डल में मई माह में 730 शिकायतों का किया निस्तारण

– प्रत्येक शिकायत का औसत 40 मिनट में समाधान

धौलपुर. रेलवे अब ऐप के जरिए यात्रियों की सफर के दौरान मदद कर रहा है। ये ऐप यात्रा के दौरान चौबीस घंटे सातों दिन खुला है। रेलवे ने इसका नाम भी ‘रेल मदद’ ऐप रखा है। इसके जरिए यात्री सफर में संबंधित ट्रेन के कोच में साफ-सफाई, रिजर्वेशन सीट को लेकर परेशानी, बच्चे का दूध, बुजुर्ग यात्री की दवा और सफर में आकस्मिक मदद समेत अन्य सहायता उपलब्ध कराई जा रही है। एनसीआर के आगरा रेल मण्डल में मई माह तक ऐप के जरिए यात्रियों की मिली विभिन्न 730 शिकायतों का समाधान कराया। खास बात ये है कि प्रत्येक शिकायत का औसत समय करीब 40 मिनट रहा। यानी यात्रियों को मदद मिलने में ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ा। बता दें कि आगरा रेल मण्डल में आगरा कैंट, आगरा फोर्ट, ईदगाह, मथुरा, धौलपुर, मण्डावर, अछनेरा, फतेहपुर सीकरी व फतेहाबाद समेत 15 स्टेशन शामिल हैं।
यात्रियों से मांगा जाता है फीडबैक

रेल मदद ऐप पर शिकायत या समस्या बताने पर रेलवे प्रशासन की ओर से उसका समाधान भी किया जा रहा है। रेलवे ने हर समस्या के समाधान की समय सीमा भी निर्धारित की हुई है। निर्धारित समय में समाधान न होने पर वह शिकायत उच्च अधिकारी तक पहुंच जाती है। साथ ही समाधान की सूचना भी शिकायतकर्ता को देते हुए उससे फीडबैक भी लिया जाता है।
तत्काल समाधान करना उद्देश्य

रेलवे ऐप के जरिए यात्रियों को ऑनलाइन सुविधा दे रही है ताकि आसानी से शिकायतें पहुंच सके और उनका निवारण भी तत्काल किया जा सके। रेल मदद ऐप के जरिए सफर के दौरान पानी, बिजली, सफाई सहित अन्य शिकायतें दर्ज कराई जा सकती हैं। इसके साथ ही किसी भी तरह की समस्या भी इस ऐप के जरिए कर सकते हैं। सुविधाएं मांगने या शिकायत करने के लिए जनरल डिटेल्स, घटना की तारीख, घटना स्थल, पर्सनल डिटेल, मोबाइल नम्बर और ई-मेल जैसी सूचनाएं देनी होती हैं।
केस न. 1

– आगरा मण्डल को ऐप के जरिए उनके परिमण्डल में कई शिकायतें मिली। जैसे एक यात्री ने हेल्पलाइन नम्बर 139 पर कॉल करके यात्रा के दौरान हुई असुविधा के सम्बन्ध में बताया। जिस पर वाणिज्य नियंत्रक ने कोच में कार्यरत टिकट जांच कर्मचारी को सूचित कर समस्या का समाधान कराया।
केस न. 2

– इसी तरह ट्रेन संख्या 09111 गोरखपुर स्पेशल में यात्रा के दौरान यात्री ने 139 पर कॉल करके 15 माह के बच्चे के लिए बेबी मिल्क की मांग की। जिस पर वाणिज्य नियंत्रक आगरा ने हेड टीटीई को सूचना दी और यात्री को आगरा फोर्ट स्टेशन पर बेबी मिल्क उपलब्ध करवाया।
केस न. 3

– ट्रेन संख्या.12280 ताज एक्सप्रेस में रवि नाम के यात्री का बैग मथुरा स्टेशन पर छूट गया था। यात्री को मथुरा से वीरांगना लक्ष्मी बाई झांसी स्टेशन तक सफर करना था। यात्री ने रेलवे हेल्पलाइन नंबर पर कॉल करके मदद मांगी। सूचना उप स्टेशन प्रबंधन वाणिज्य आगरा छाबनी को दी। जिस पर ट्रेन के डी-13 कोच से ऑन ड्यूटी स्टाफ से यात्री के बैग उतरवा कर उन्हें सुरक्षित सुपुर्द किए।
– रेल मदद ऐप यात्रियों की समस्याओं का तुरंत निस्तारण करने को लेकर तैयार किया है। प्राप्त शिकायतों को तय समय सीमा में निपटाया जाता है जिससे यात्री को राहत मिल सके और बेहतर यात्रा हो।- प्रशस्ति श्रीवास्तव, मंडल वाणिज्य प्रबंधक आगरा एवं पीआरओ

Hindi News/ Dholpur / बच्चों को दूध से लेकर. दवा तक पंहुचा रहा है रेल मदद ऐप

ट्रेंडिंग वीडियो