एडीआर रिपोर्ट: भाजपा ने 2014 में महाराष्ट्र, हरियाणा चुनाव में सबसे ज्यादा खर्च किए

  • भाजपा ने दोनों चुनावों में हुए कुल खर्च का किया 60 फीसदी से अधिक खर्च
  • दोनों चुनावों में सभी पार्टियों ने कुल मिलाकर 362.87 करोड़ रुपए खर्च किए
  • सभी पार्टियों ने 280.72 करोड़ रुपए यानी 77.36 फीसदी प्रचार पर खर्च किए

नई दिल्ली। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स ( एडीआर ) की रिपोर्ट के अनुसार, भाजपा ने 2014 में हुए महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव में सभी राजनीतिक पार्टियों द्वारा किए गए कुल खर्च का अकेले 60 फीसदी से अधिक खर्च किया, जिसमें प्रचार, यात्रा, अन्य खर्च और उम्मीदवारों पर खर्च की गई कुल राशि शामिल है।

एडीआर रिपोर्ट के अनुसार इन दोनों चुनावों में सभी पार्टियों ने कुल मिलाकर 362.87 करोड़ रुपए खर्च किए। भाजपा 226.82 करोड़ रुपए खर्च करके इस सूची में अव्वल रही तो दूसरा स्थान कांग्रेस ने हासिल किया। कांग्रेस ने दोनों चुनाव में कुल 63.31 करोड़ रुपए खर्च किए।

यह भी पढ़ेंः- पेट्रोल की कीमत में 12 पैसे की कटौती, डीजल 15 पैसे प्रति लीटर सस्ता

सभी पार्टियों द्वारा खर्च किए गए 362.87 करोड़ रुपए में, 280.72 करोड़ रुपए (77.36 फीसदी) सिर्फ प्रचार पर खर्च किए गए, उसके बाद यात्राओं पर 41.40 करोड़ रुपए खर्च किए गए। एडीआर के अनुसार, "भाजपा ने प्रचार पर सबसे ज्यादा 186.39 करोड़ रुपए खर्च किए, जिसका मतलब है भाजपा ने प्रचार पर सभी राजनीतिक पार्टियों द्वारा किए गए कुल खर्च का 66.40 फीसदी खर्च किया।" सभी राजनीतिक पार्टियों में, भाजपा ने फंड के रूप में अधिकतम 296.74 करोड़ रुपए एकत्रित किए।

यह भी पढ़ेंः- आज से सफल आउटलेट्स पर टमाटर मिलेंगे सस्ते, सरकार ने किया पूरा इंतजाम

रिपोर्ट के अनुसार, "भाजपा द्वारा अर्जित की गई कुल राशि में, केंद्रीय मुख्यालयों को 58.69 फीसदी (174.159 करोड़ रुपए), जबकि महाराष्ट्र इकाई को 122.28 करोड़ और हरियाणा इकाई को 0.303 करोड़ रुपये मिले।" फंड अर्जित करने के मामले में कांग्रेस ने 84.37 करोड़ रुपए के साथ दूसरा स्थान प्राप्त किया। वहीं सभी राजनीतिक पार्टियों ने अपने पार्टी मुख्यालयों और प्रदेश इकाईयों में फंड के रूप में कुल 464.55 करोड़ रुपए एकत्रित किए।

यह भी पढ़ेंः- रेल मंत्रालय ने 10 सालों में कबाड़ से कमा लिए35 हजार करोड़ रुपए

रिपोर्ट के अनुसार, "राशि का संग्रहण अधिकतर चेक/डीडी से किया गया, जिसके तहत पार्टियों ने राज्य व केंद्र स्तर पर कुल 323.66 करोड़ (69.67 फीसदी) फंड एकत्रित किए।" अधिकतर पार्टियों ने फंड लेने और पैसे खर्च करने के लिए नकद का उपयोग करना कम पसंद किया।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned