scriptBiggest weakness in rupee against dollar what will effect on your life | डॉलर के मुकाबले रुपए में 20 महीने की सबसे बड़ी कमजोरी, जानिए आपकी जिंदगी पर क्या पड़ेगा असर | Patrika News

डॉलर के मुकाबले रुपए में 20 महीने की सबसे बड़ी कमजोरी, जानिए आपकी जिंदगी पर क्या पड़ेगा असर

डॉलर के मुकाबले रुपए में काफी बड़ी गिरावट देखने को मिली है। अगर आम आदमी से जोड़कर और आसान भाषा में समझे तो देश में महंगाई विस्फोन होने आसार बढ़ गए हैं। इसका कारण है कि देश में इंपोर्टेड सामान से लेकर पेट्रोल और डीजल के दाम में इजाफा होगा और तमाम सामान के भाव बढ़ जाएंगे।

 

नई दिल्ली

Updated: April 08, 2021 10:39:58 am

नई दिल्ली। कोरोना के गहराते कहर और भारतीय रिजर्व बैंक के फैसले के बाद देसी करेंसी रुपये की चाल कमजोर पड़ गई है। बीते सत्र में देसी करेंसी में अगस्त के बाद की सबसे बड़ी एक दिन ही गिरावट दर्ज की गई। जानकार बताते हैं कि रुपया दोबारा 75 रुपये प्रति डॉलर के पार जा सकता है। हाजिर में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया बुधवार को बीते सत्र से 1.12 रुपये यानी 1.53 फीसदी की कमजोरी के साथ 74.55 रुपये प्रति डॉलर के भाव पर बंद हुआ। खास बात तो ये है कि रुपए में गिरावट की वजह से आम लोगों की जिंदगी में काफी प्रभाव पड़ता है। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर रुपएके गिरावट के कारण क्या है और उसका आपकी जिंदगी में क्या प्रभाव पडऩे वाला है।

Biggest weakness in rupee against dollar what will effect on your life
Biggest weakness in rupee against dollar what will effect on your life
यह भी पढ़ेंः- Gold Price Today: 8 अप्रैल 2021 को दिल्ली में सोने की दर, 24 कैरेट और 22 कैरेट सोने की कीमत

20 महीने की सबसे बड़ी गिरावट
आईआईएफएल सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसीडेंट ( करेंसी व एनर्जी रिसर्च ) अनुज गुप्ता ने बताया कि देश में कोरोना का प्रकोप दोबारा बढऩे से विभिन्न शहरों में लॉकडाउन जैसे प्रतिबंधात्मक उपाय किए जाने से देसी करेंसी की चाल कमजोर पड़ गई है। उन्होंने बताया कि देसी करेंसी में 75 से 75.50 रुपये प्रति डॉलर के बीच कारोबार देखने को मिल सकता है। उधर, भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा मौद्रिक नीति को आगे भी समायोजी बनाए रखने के संकेत देने का भी असर देसी करेंसी पर दिखा। आरबीआई की मौद्रिक नीति समीक्षा की बैठक के नतीजे आने के बाद रुपये में अगस्त 2019 के बाद की सबसे बड़ी एक दिनी गिरावट दर्ज की गई। डॉलर के मुकाबले रुपया करीब चार महीने के निचले स्तर पर चला गया है। केडिया एडवायजरी के डायरेक्टर अजय केडिया ने बताया कि कोरोना के कहर के साथ-साथ वैश्विक कारणों से विदेशी पूंजी का प्रवाह थमने के कारण भी देसी करेंसी की चाल सुस्त पड़ गई है।

यह भी पढ़ेंः- आम लोगों के साथ नहीं हो पाएगा धोखा, 1 जून से बिना हॉलमार्क गोल्ड ज्वेलरी की नहीं होगी बिक्री

देसी करेंसी में कमजोरी के ये हैं मुख्य कारण
1. कोविड-19 का प्रकोप दोबारा गहराने से अर्थव्यवस्था की रफ्तार मंद पडऩे की आशंका।
2. अमेरिका में 10 साल के बांड की यील्ड बढऩे और डॉलर में मजबूती आने से विदेशी पूंजी के इन्फ्लो में कमी।
3. केंद्रीय बैंक ने जीएसएपी के तहत इस तिमाही के दौरान सेकेंडरी मार्केट से एक लाख करोड़ बांड खरीदने का एलान किया है।
4. देश कीे कैपिटली मार्केट में विदेशी संस्थागत निवेशकों की विकवाली में इजाफा।
5. कच्चे तेल में तेजी का असर क्योंकि कच्चा तेल महंगा होने से तेल आयात के लिए डॉलर की मांग बढऩे से देसी करेंसी पर दवाब स्वाभाविक है।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today: विदेशी बाजारों में कच्चे तेल की गिरावट, यहां 9 दिन से कोई बदलाव नहीं

आम लोगों की जिंदगी पर कैसा पड़ेगा असर
विदेश में सैर करना हो जाएगा महंगा: रुपए में गिरावट के कारण विदेश की यात्रा आपको थोड़ी महंगी पड़ेगी, क्योंकि आपको डॉलर का भुगतान करने के लिए ज्यादा भारतीय रुपए खर्च करने होंगे। उदाहरण के तौर पर न्यूयॉर्क की टिकक 4000 डॉलर की है तो अब आपको भारत में इसके लिए ज्यादा खर्च करने होंगे।

विदेश में पढ़ाई होगी महंगी: अगर आपका बच्चा विदेश में पढ़ रहा है तो अब आपको उसका खर्च उठाना महंगा हो जाएगा। अपने बच्चे को आपको पहले के मुकाबले ज्यादा रुपए भेजने होंगे।

बढ़ जाएगी महंगाई: डॉलर के मजबूत होने से क्रूड ऑयल महंगा होगा और जो कच्चा तेल विदेश से मंगाते हैं उस पर देश को ज्यादा डॉलर खर्च करने होंगे। जिसकी वजह से भारत में डीजल के दाम में इजाफा हो जाएगा और महंगाई बढ़ जाएगी।

इंपोर्टेड सामान होगा महंगा: देश में कई ब्रांड के प्रोडक्ट्स भारत में आते हैं। डॉलर में इजाफा होने से भारत में उनकी कीमत में इजाफा हो जाएगा। इंपोर्टेड कपड़ों, जूतों, घडिय़ों और मोबाइल फोन तक सब महंगा हो जाएगा।

क्या होता है फायदा
डॉलर के मुकाबले रुपए के गिरने के सिर्फ नुकसान ही नहीं बल्कि फायदे भी होते हैं। रुपए में गिरावट आने से आईटी, फार्मा और ऑटो सेक्टर को फायदा होता है। इन कंपनियों की कमाई एक्सपोर्ट बेस्ड होती है, यानी इन्हें जो भी मिलता है डॉलर में मिलता है। जिसका फायदा देश को होता है। वहीं डॉलर की मजबूती से ओएनजीसी, रिलायंस इंडस्ट्रीज, ऑयल इंडिया लिमिटेड जैसी कंपनियों को भी फायदा होता है क्योंकि ये डॉलर में फ्यूल बेचती हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Maharashtra Floor Test: महाराष्ट्र विधानसभा में शिंदे सरकार का शक्ति परीक्षण आज, स्पीकर ने उद्धव खेमे को दिया झटकाहिमाचल प्रदेश के कुल्लू में बड़ा हादसा, सैंज घाटी में गिरी बस, बच्चों समेत 16 लोगों की मौतपीएम मोदी आज जाएंगे आंध्र प्रदेश, अल्लुरी सीताराम राजू की प्रतिमा का करेंगे अनावरणदिल्ली विधानसभा का दो दिवसीय सत्र आज से होगा शुरू, विधायकों की सैलरी समेत कई विधेयकों को मिल सकती है मंजूरीलालू यादव ICU में भर्ती, बेहोशी की हालत में लाए गए थे अस्पताल, कल सीढ़ी से गिरने पर टूटी थी हड्डीपंजाब: मुख्यमंत्री भगवंत मान आज कैबिनेट का करेंगे विस्तार, पांच नए मंत्री लेंगे शपथजम्मू-कश्मीर: अमरनाथ यात्रा के बीच अनंतनाग में आतंकी हमला, आतंकियों ने पुलिसकर्मी को मारी गोलीकोपनहेगन के शॉपिंग मॉल में ताबड़तोड़ फायरिंग, 7 लोगों की मौत, कई घायल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.