IMF ने अमरीका को अनसुना कर पाकिस्तान को दिया 6 अरब डाॅलर का लोन

IMF ने अमरीका को अनसुना कर पाकिस्तान को दिया 6 अरब डाॅलर का लोन

Saurabh Sharma | Publish: Jul, 04 2019 09:41:25 AM (IST) | Updated: Jul, 04 2019 12:31:28 PM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

IMF ने पाकिस्तान की बिगड़ती इकोनॉमी को सुधारने के लिए 6 अरब डॉलर का लोन पास कर दिया है।

नई दिल्ली। पहले चीन ( China ), फिर सउदी अरब ( Saudi Arabia ), उसके बाद यूएई ( UAE ) और अब आईएमएफ ( IMF )। पाकिस्तान के अच्छे दिन लौटते हुए दिखाई दे रहे हैं। वास्तव में आईएमएफ ने पाकिस्तान को 6 अरब डॉलर का बेलआउट पैकेज ( bailout package ) देने की हामी भर दी है। यह लोन पाकिस्तान को 3 साल के लिए दिया गया है। ताकि पाकिस्तान अपनी इकोनॉमी में सुधार ला सके। ताज्जुब की बात तो ये है कि अमरीका ने आईएमएफ को आगाह किया था कि पाकिस्तान को किसी तरह का कर्ज देने से पहले दस बार सोचे। उसके बाद भी आईएमएफ ने अमरीका की नहीं सुनी है। आपको बता दें कि पाकिस्तान पर हमेशा से आरोप लगते रहे हैं कि आर्थिक एजेंसियों से मिलने वाले पैकेज या मदद को वो हथियार खरीदने और आतंकवाद को बढ़ावा देते में खर्च कर देता है। पाकिस्तान को मदद मिलने के बाद सबसे ज्यादा राहत की सांस इमरान खान को मिली है। पाकिस्तान को यह मदद मिला इमरान की अंतर्राष्ट्रीय मंच पर बड़ी कूटनीतिक जीत मानी जा रही है।

करीब एक साल से मांग रहा था मदद
इमरान खान के पद संभालने के बाद बेलआउट पैकेज के लिए पाकिस्तान के वित्त मंत्रालय ने अगस्त 2018 में आईएमएफ से संपर्क किया था। देश की स्थिति इतनी खराब हो चुकी थी कि कुछ दिनों बाद उसके पास कच्चा तेल खरीदने के लिए रुपया नहीं रहता। देश में महंगाई भी आसमान में पहुंच गई है। ऐसे में आईएमएफ से मदद मिलना बड़ी राहत की बात मानी जा रही है। आईएमएफ के प्रवक्ता गेरी राइस ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि आईएमएफ के कार्यकारी बोर्ड ने पाकिस्तान की आर्थिक योजना को मदद देने के लिए तीन साल के लिए छह अरब डॉलर के कर्ज की मंजूरी दी है। यह कर्ज देश की अर्थव्यवस्था को ठीक करने और जीवन दशा को बेहतर करने के मकसद से दिया गया है।

यह भी पढ़ेंः- Budget 2019: 35 साल के बाद होगी उत्तराधिकार टैक्स की वापसी!

अमरीका ने की थी ताकीद
वहीं इससे पहले अमरीका ने आईएमएफ को आगाह किया था कि पाकिस्तान को राहत पैकेज देने से पहले 10 विचार किए। अमरीका ने पाकिस्तान पर आरोप लगाया था कि पाकिस्तान हमेशा से आर्थिक एजेंसियों से मदद लेता रहा है। उसके बाद भी उसके हालातों में सुधार देखने को नहीं मिला। पाकिस्तान बाहर से आई मदद को आतंकवाद को बढ़ावा देने में लगाता रहा है। ऐसे में पाकिस्तान की मदद करना बेकार है। मौजूदा ट्रंप सरकार हमेशा से आतंकवाद और उसको बढ़ावा देने वाले देशों के खिलाफ मुखर रही है।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today: लगातार दूसरे दिन पेट्रोल और डीजल के दाम नहीं हुआ बदलाव, जानिए अपने शहर के दाम

इससे पहले इन देशों से भी मिल चुकी है मदद
आईएमएफ से पहले पाकिस्तान को तीन खाड़ी देशों और चीन से आर्थिक मदद मिल चुकी है। चीन ने जमा और वाणिज्यिक कर्ज के तौर पर पाकिस्तान को 4.6 करोड़ डॉलर दिए है। वहीं सऊदी अरब ने तीन अरब डॉलर नकद और 3.2 अरब डॉलर का तेल दिया पाकिस्तान को दिया है। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से पाकिस्तान सरकार को दो अरब डॉलर नकद मिला। वहीं अन्य खाड़ी देश कतर ने पाकिस्तान को जमा और प्रत्यक्ष निवेश के तौर पर तीन अरब डॉलर देने का ऐलान किया है।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned