छह महीनों में Gold And Silver Import में कमी आने से कितना हुआ देश को फायदा

  • बीते 6 महीने में सोना 57 फीसदी और चांदी के आयात में देखने को मिली 63 फीसदी की गिरावट
  • सोना और चांदी के आयात में कमी से अप्रैल-सितंबर में कैड घटकर 23.44 अरब डॉलर पर आया

By: Saurabh Sharma

Updated: 18 Oct 2020, 11:50 AM IST

नई दिल्ली। मौजूदा वित्त वर्ष के पहले छह महीनों के आंकड़े सामने आने शुरू हो गए है। वाणिज्य मंत्रालय की ओर से जारी किए आंकड़ों के अनुसार पहली छमाही में सोने और चांदी के दाम में 50 फीसदी से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली है। आयात में गिरावट आने से भारत का चालू वित्त वर्ष का घाटे में पिछले साल की पहली छमाही के मुकाबले तीन गुना से ज्यादा कम हुआ है। वहीं भारत की ओर से गोल्ड ज्वेलरी के एक्सपोर्ट में भी भारी गिरावट देखने को मिली है। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर वाणिज्य मंत्रालय की ओर से किस तरह के आंकड़े जारी किए गए हैं।

यह भी पढ़ेंः- Gold Rate Down : दशहरे से पहले 5800 रुपए सस्ता हुआ सोना, जानिए दीपावली तक कितने गिर सकते हैं दाम

सोने और चांदी के आयात में जबरदस्त गिरावट
- सोने का आयात चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही के दौरान 57 फीसदी घटा।
- इस दौरान सोने का आयात 6.8 अरब डॉलर या 50,658 करोड़ रुपए देखने को मिला।
- कोविड-19 महामारी के बीच मांग में गिरावट के चलते सोने के आयात में कमी आई है।
- इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में सोने का आयात 15.8 अरब डॉलर या 1,10,259 करोड़ रुपए रहा था।
- इसी वित्त वर्ष के अप्रैल-सितंबर के दौरान चांदी का आयात भी 63.4 फीसदी कम हुआ।
- इस दौरान चांदी का आयात 73.35 करोड़ डॉलर यानी 5,543 करोड़ रुपए रह गया है।

यह भी पढ़ेंः- डूबे Jet Airways को मिला सहारा, इस महीने 30 फीसदी बढ़ गए शेयरों के दाम

चालू घाटे में देखने को मिली कमी
सोने और चांदी के आयात में कमी से देश का चालू खाते के घाटे में बड़ी गिरावट देखने को मिली है। आंकड़ों के अनुसार अप्रैल से सितंबर के बीच में चालू घाटा 23.44 अरब डॉलर रह गया है। जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 88.92 अरब डॉलर रहा था। यानी पिछले साल के मुकाबले भारत के चालू घाटे में 3 गुना से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली है। आपको बता दें कि आयात और निर्यात के अंतर को कैड कहा जाता है। जिसका कम होना दुनिया की किसी भी अर्थव्यवस्था के लिए बेहतर माना जाता है।

यह भी पढ़ेंः- आपकी पसंदीदा कारों पर मिल रही है 8.5 लाख रुपए तक की छूट, जानिए नवरात्र में किस तरह के मिल रहे हैं ऑफर

एक्सपोर्ट में देखने को मिली भारी गिरावट
वहीं दूसरी ओर चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में रत्न एवं आभूषणों के निर्यात में भी बड़ी गिरावट देखने को मिली है। मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार इसमें 55 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है। यानी इनका इंपोर्ट 8.7 अरब डॉलर का ही रह गया है। आपको बता दें कि भारत दुनिया के सबसे बड़े सोना आयातकों में से है। यहां सोने का आयात मुख्य रूप से आभूषण उद्योग की मांग को पूरा करने के लिए किया जाता है। भारत सालाना 800 से 900 टन सोने का आयात करता है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned