ट्रेड वॉर से भारत को होगा बड़ा फायदा, अमरीका-चीन में बढ़ा सकता है 350 उत्पादों का निर्यात

ट्रेड वॉर से भारत को होगा बड़ा फायदा, अमरीका-चीन में बढ़ा सकता है 350 उत्पादों का निर्यात

Ashutosh Kumar Verma | Updated: 16 Jun 2019, 04:56:55 PM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • अमरीका-चीन के बीच ट्रेड वॉर भारत के लिए शानदार मौका।
  • दोनों देशों में भारत 350 वस्तुओं का कर सकता है निर्यात।
  • पिछले एक साल में दोनों देशों में बढ़ा है भारत का निर्यात।

नई दिल्ली। अमरीका-चीन ( America-China ) के बीच चल रहे ट्रेड वॉर ( Trade War ) भारत के लिए अपना निर्यात ( export ) बढ़ाने का जबरदस्त मौका है। वाणिज्य मंत्रालय ( commerce ministry ) की एक स्टडी के मुताबिक, ट्रेड वॉर के बीच भारत 350 वस्तुओं का निर्यात अमरीका और चीन ? में बढ़ा सकता है। मंत्रालय में अपने स्टडी के दौरान उन वस्तुओं की पहचान किया जिन्हें मौजूदा ट्रेड वाॅर के बीच इन दोनों देशों में निर्यात किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें - चलती ट्रेन में नहीं ले सकेंगे मसाज का मजा, वेस्टर्न रेलवे ने मसाज सुविधा के प्रस्ताव को वापस लिया

संबंधी मंत्रालयों से साझा की जा रही जानकारी

बीते कुछ समय से अमरीका और चीन एक दूसरे पर आयात शुल्क लगा रहे है, जिसके बाद ट्रेड वॉर जैसे हालात पैदा हो गए हैं। इस स्टडी के मुताबिक, डीजल, एक्स-रे ट्यूब और कुछ केमिकल जैसे 151 ऐसे उत्पाद हैं जिन्हें चीन में निर्यात कर सकता है। अभी तक ये वस्तुएं अमरीका चीन में निर्यात करता रहा है। इसी प्रकार, रबर, ग्रफाइट इलेक्ट्रॉड्स समेत अन्य उत्पादों को भारत अमरीका में निर्यात कर सकता है। इसमें कहा गया है कि जिन विशिष्ट उत्पादों में भारत संभावित रूप से अपनी ताकत और पड़ोसी देश में उपलब्ध बाजार पहुंच के आधार पर चीन को निर्यात का विस्तार कर सकता है और बाजार पहुंच हासिल करने के लिए ठोस प्रयास करने की आवश्यकता है, उन्हें संबंधी मंत्रालयों के साथ साझा किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें - भारत ने दिया अमरीका को जवाब, आज से लागू होगा 28 उत्पादों पर आयात शुल्क

ट्रेड वॉर से बदल सकती है वैश्विक व्यापार की तस्वीर

स्टडी में कहा गया है मौजूदा ट्रेड वॉर की वजह से वैश्विक व्यापार के तरीको में अभूतपूर्व बदलाव ला सकता है। चीन बाजार में निर्यात किए जाने वाले उत्पादों में कॉपर ओर, रबर, पेपर/पेपरबोर्ड, ट्रांसमिशन इक्विपमेंट, ट्यून्स और पाइप्स हो सकते हैं। निर्यात में इस बढ़ोतरी की वजह से चीन से भारत के राजकोषीय घाटे में भी कमी आएगी। वित्त वर्ष 2018-19 में अप्रैल से फरवरी के बीच ह 50.12 अमरीकी डॉलर रहा था।

फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गेनाइजेशन ( FIEO ) के अध्यक्ष गणेश कुमार गुप्ता ने कहा कि भारत के लिए ट्रेड वॉर फायदेमंद साबित हो सकता है। उन्होंने कहा कि साल 2018 के दौरान अमरीका में भारत का निर्यात 11.2 फीसदी बढ़ा है। वही, चीन में भारत के नियात की बात करें तो यह 31.4 फीसदी बढ़ा है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned