5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के लिए भारत रत्न प्रणब दा ने दिया मंत्र

5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के लिए भारत रत्न प्रणब दा ने दिया मंत्र

Ashutosh Kumar Verma | Updated: 27 Aug 2019, 11:37:14 AM (IST) अर्थव्‍यवस्‍था

  • 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था को लेकर प्रणब मुखर्ज का मंत्र
  • भारत को निर्यात पर करना होगा फोकस
  • देश का एक तिहाई हिस्सा निर्यात पर हो फोकस

नई दिल्ली। भारत के पूर्व राष्ट्रपति और भारत रत्न प्रणब मुखर्जी ने 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के लक्ष्य को हासिल करने के लिए मोदी सरकार को एक खास मंत्र दिया है। भारत के पूर्व वित्त मंत्री भी रह चुके प्रणब दा ने सोमवार को एक कोलकाता में एक कार्यक्रम में कहा कि निर्यात हमारी अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि अगर हमें 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनना है तो हमार कुल अर्थव्यवस्था का एक तिहाई हिस्सा अंतर्राष्ट्रीय व्यापार से आना चाहिये।

 

यह भी पढ़ें - GST रिटर्न भरने की आखिरी तारीख बढ़ी, अब 30 नवंबर तक कर सकेंगे दाखिल

गौरतलब है कि गत शनिवार को भी उन्होंने एसोसिएशन ऑफ काॅरपोरेट एडवाइजर्स एंड एक्जीक्यूटिव्स (एसीई ) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा था कि अगर वित्त व्यवस्था का सही तरीके से और दूरदृष्टि के साथ प्रबंधन किया जाये तो 5 ट्रिलियन डाॅलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है। इस दौरान उन्होंने कहा था कि निवेश के बिना अर्थव्यवस्था में वृद्धि नहीं होगी।

बेहतर ढंग से लागू हो जीएसटी

वस्तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी को लेकर उन्होंने कहा कि इसके लागू होने से कई तरह के कर खत्म हो गया हैं। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा इसमें सरकार की तरफ से अधिक स्पष्टता होनी चाहिए ताकि जीएसटी का पालन बेहतर ढंग से हो सके।

यह भी पढ़ें- लेट होगी यह ट्रेन तो आपको मिलेंगे पैसे, साथ में इन सुविधाओं के भी ले सकेंगे मजे

दुनिया की 7वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है भारत

मालूम हो कि फिलहाल अर्थव्यवस्था रैंकिंग में भारत 5वें से फिसलकर 7वें पायदान पर पहुंच गया है। वर्ल्ड बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, 2018 में ब्रिटेन और फ्रांस की अर्थव्यवस्था में भारत के मुकाबले ज्यादा ग्रोथ रिकॉर्ड दर्ज की गई, जिस कारण इन दोनों देशों ने एक-एक पायदान का छलांग लगाया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned