अप्रैल में बेरोजगारों की संख्या इजाफा, अप्रैल के महीने में शहरी बेरोजगारी दर 8 फीसदी पर पहुंची

कोविड 19 के केसों में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है। जिसकी वजह से राज्यों में सख्ती देखने को मिली है। जिसका असर नौकरियों पर देखने को मिला है।

By: Saurabh Sharma

Updated: 13 Apr 2021, 09:23 AM IST

नई दिल्ली। कोविड 19 केसों में इजाफा होने के कारण बेरोजगारी दर में भी इजाफा देखने को मिला है। ग्रामीण इलाकों के मुकाबले शहरों में बेरोजगारी में ज्यादा इजाफा हुआ है। वहीं दूसरी ओर देश के कुछ राज्यों में लॉकडाउन लगने की संभावना से इसमें और भी इजाफा देखने को मिल सकता है। जानकारों की मानें तो कोविड के माहौल में ई-कॉमर्स सेक्टर की डिमांड में इजाफा होने के कारण नौकरियां पैदा हो सकती हैं। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर सीएमआईई की ओर से किस तरह से आंकड़े पेश किए गए हैं।

यह भी पढ़ेंः- आम लोगों पर महंगाई की मार, मार्च में 5.52 फीसदी हुई खुदरा महंगाई दर, खाद्य पदार्थों के बढ़े दाम

सीएमआईई की ओर से जारी हुई रिपोर्ट
- अप्रैल में अब तक बेरोजगारी दर 7.1 फीसदी से ऊपर पर पहुंच गई है।
- मार्च में देश की बेरोजगारी दर 6.52 फीसदी थी।
- अप्रैल में शहरी क्षेत्रों की बेरोजगारी दर आठ फीसदी के स्तर पर पहुंच गई।
- मार्च में शहरों में बेरोजगारी दर 7.84 फीसद थी।
- ग्रामीण इलाके की बेरोजगारी दर अप्रैल में अब तक 6.7 फीसदी है।
- मार्च में यह ग्रामीण इलाके की बेरोजगारी दर 6.18 फीसद थी।

यह भी पढ़ेंः- सोयाबीन पर महंगाई की मार, 102 दिनों में 48 फीसदी का इजाफा

क्या कहते हैं जानकार
जानकारों की मानें तो कोविड 19 की दूसरी लहर का प्रभाव शहरी रोजगार पर मार्च से ही देखने को मिल रहा है। जिसकी वजह से महाराष्ट्र, गुजरात, पंजाब, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश जैसे राज्यों के शहरों में आंशिक लॉकडाउन या नाइट कफ्र्यू लगा दिया गया। दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों में मॉल, रेस्टोरेंट, बार जैसी सार्वजनिक जगहों पर कोरोना नियमों के अनुपालन में सख्ती से शहरी रोजगार में और कमी देखने को मिली है और आने वाले दिनों में और परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। कई राज्यों में कोरोना की औचक जांच के साथ कोरोना निगेटिव सर्टिफिकेट के साथ प्रवेश के नियम की वजह से पर्यटन क्षेत्र के रोजगार में भी कमी आने की संभावना है। ग्रामीण इलाके में रबी की फसल अच्छी होने व मनरेगा में लगातार काम मिलने से शहर के मुकाबले बेरोजगारी का स्तर कम है।

Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned